Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Aug 2016 · 1 min read

इंतिज़ार

इंतिज़ार
आज फिर मेरी आँखें रौशन हुई
जब तेरी यादों के फ़ानूस जल उठे
कमरा भर गया……
तेरे अहसास की ख़ुशबू से
लगा तुम यहीं आस पास ही हो कहीं
सरगोशियाँ सुनाई देने लगी हर सूं
तहे-बाम कबूतरों का काफ़िला उतरा
लगा तेरे आने की खबर आ गयी जैसे
मिरा इन्तिज़ार बहने लगा आँखों से
चमकते मोतियों की सूरत में!!!
फिर आनन-फ़ानन में
सोचा
तुझे उन्वाँ बनाकर,
नज़्म ही कह दूँ कोई
पर लफ्ज़ ही नहीं मिलते
क़लम को मेरी,
शायद !!!
उसे भी है इन्तिज़ार तेरा
तू आये तो रूह मिले
मिरे लफ़्ज़ों को
अब आ भी जा मेरी हमनफ़स
बरसों के इंतिज़ार को राहत मिले
और मुक़म्मल हो मेरी ये नज़्म ….

नज़ीर नज़र

Language: Hindi
496 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
धानी चूनर में लिपटी है धरती जुलाई में
धानी चूनर में लिपटी है धरती जुलाई में
Anil Mishra Prahari
पत्थर जैसा दिल बना हो जिसका
पत्थर जैसा दिल बना हो जिसका
Ram Krishan Rastogi
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सोचता हूँ
सोचता हूँ
Satish Srijan
डमरू वीणा बांसुरी, करतल घन्टी शंख
डमरू वीणा बांसुरी, करतल घन्टी शंख
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
फ़ुर्सत में अगर दिल ही जला देते तो शायद
फ़ुर्सत में अगर दिल ही जला देते तो शायद
Aadarsh Dubey
किभी भी, किसी भी रूप में, किसी भी वजह से,
किभी भी, किसी भी रूप में, किसी भी वजह से,
शोभा कुमारी
Be happy with the little that you have, there are people wit
Be happy with the little that you have, there are people wit
पूर्वार्थ
कहाँ जाऊँ....?
कहाँ जाऊँ....?
Kanchan Khanna
मेरा परिचय
मेरा परिचय
radha preeti
क्या ईसा भारत आये थे?
क्या ईसा भारत आये थे?
कवि रमेशराज
*नव वर्ष पर सुबह पाँच बजे बधाई * *(हास्य कुंडलिया)*
*नव वर्ष पर सुबह पाँच बजे बधाई * *(हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"लाल गुलाब"
Dr. Kishan tandon kranti
बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर जी की १३२ वीं जयंती
बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर जी की १३२ वीं जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सज जाऊं तेरे लबों पर
सज जाऊं तेरे लबों पर
Surinder blackpen
क्या आप उन्हीं में से एक हैं
क्या आप उन्हीं में से एक हैं
ruby kumari
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
सुख दुःख मनुष्य का मानस पुत्र।
सुख दुःख मनुष्य का मानस पुत्र।
लक्ष्मी सिंह
★आज का विचार★
★आज का विचार★
*Author प्रणय प्रभात*
आज की प्रस्तुति - भाग #2
आज की प्रस्तुति - भाग #2
Rajeev Dutta
जीवन में सफलता पाने के लिए तीन गुरु जरूरी हैं:
जीवन में सफलता पाने के लिए तीन गुरु जरूरी हैं:
Sidhartha Mishra
भले वो चाँद के जैसा नही है।
भले वो चाँद के जैसा नही है।
Shah Alam Hindustani
2932.*पूर्णिका*
2932.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कर दिया है राम,तुमको बहुत बदनाम
कर दिया है राम,तुमको बहुत बदनाम
gurudeenverma198
जिंदा होने का सबूत
जिंदा होने का सबूत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बेशर्मी के हौसले
बेशर्मी के हौसले
RAMESH SHARMA
मैयत
मैयत
शायर देव मेहरानियां
होलिका दहन
होलिका दहन
Buddha Prakash
हम भी सोचते हैं अपनी लेखनी को कोई आयाम दे दें
हम भी सोचते हैं अपनी लेखनी को कोई आयाम दे दें
DrLakshman Jha Parimal
अपना भी नहीं बनाया उसने और
अपना भी नहीं बनाया उसने और
कवि दीपक बवेजा
Loading...