Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jul 7, 2016 · 1 min read

इंतज़ार

आज भी इंतज़ार में वो आंगण तुम्हारा है,
बचपन को तुम्हारे याद अब भी वो करता है,
तुम व्यस्त हो खबर यह गांव की मिट्टी को भी है,
जिसकी सौंधी खुशबू में तुमने गिर गिरकर चलना सीखा था,
उन बूढ़ी आँखों का हो गया इंतज़ार अब के और भी लम्बा,
इन छुट्टियों में न बहाना अब कोई नया करना,
हैं आँखें सूर्ख पर होंठों पर चुप्पी सी है,
शिकायते मन के किसी कोने में शायद बस दफन हैं।।।
कामनी गुप्ता ***

135 Views
You may also like:
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
महँगाई
आकाश महेशपुरी
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
माँ
आकाश महेशपुरी
मेरी लेखनी
Anamika Singh
पिता का सपना
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बुध्द गीत
Buddha Prakash
अपना ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
*जय हिंदी* ⭐⭐⭐
पंकज कुमार कर्ण
संकुचित हूं स्वयं में
Dr fauzia Naseem shad
अधूरी बातें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
Abhishek Pandey Abhi
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
आंसूओं की नमी
Dr fauzia Naseem shad
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता
Ram Krishan Rastogi
Loading...