Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Mar 2017 · 1 min read

आ जा चित्तवन के चकोर

स्वर्णिम यौवन का सागर-अपार
टकरा रहा तन से बारंबार
विपुल स्नेह से सींचित् ज्वार
रसमय अह्लादित करता पुकार
अन्तःस्थल में उठता हिलोर
आ जा ! चित्तवन के चकोर !
सुरभित- सावन मधुमास बिता
फाल्गुन का हर उत्पात फीका
अंतरत्तम में हिय रिस चुका
अवचेतन, मन रिक्त सब अभिलेखा
है पतझड़ कब का मचाता शोर
आ जा चित्तवन के चकोर !
हिय मधुरस घोले अन्वेषण में
हो अवचेतन डोले अवशोषण में
रस – सिक्त ह्रदय खोले , मधुमय पोषण में
अहा ! निरवता में बोले कैसा रोषण में
विस्मित यौवन व्यथित हर छोर
आ जा चित्तवन के चकोर !
है सुख रही अधरों की मीठास
जीवन – पथ में सरस बहारों की आस
सदृश स्वप्न अवलंबित सुख की तलाश
मेघ आच्छादित पलकों की बुझति चिर प्यास
बरसे अधरामृत , पी , बढता चल यौवन की ओर
आ जा चित्तवन के चकोर !
मन चंचल चित्तवन में डोले
झीना यौवन मधुरस घोले
घिरा अंतस् में प्यासा बोले
किससे मधुरम् प्रतिबिंब खोले !

हिय डूब रहा रस में विभोर
आ जा चित्तवन के चकोर !

प्रणय निवेदन है तुमसे
नव – तुषार के बिंदु बने हो
यौवन – प्रवाह में सतत् – उन्मत्त
ज्यों विकल – वेदना मध्य सने हो
उफनाति लहरें व्यथित हर छोर
आ जा चित्तवन के चकोर !

©
कवि पं आलोक पान्डेय

Language: Hindi
1 Like · 539 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुद्दतों बाद फिर खुद से हुई है, मोहब्बत मुझे।
मुद्दतों बाद फिर खुद से हुई है, मोहब्बत मुझे।
Manisha Manjari
गीत
गीत
Shiva Awasthi
नारी
नारी
Bodhisatva kastooriya
आज के बच्चों की बदलती दुनिया
आज के बच्चों की बदलती दुनिया
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
संयम
संयम
RAKESH RAKESH
धर्मग्रंथों की समीक्षा
धर्मग्रंथों की समीक्षा
Shekhar Chandra Mitra
हमेशा तेरी याद में
हमेशा तेरी याद में
Dr fauzia Naseem shad
सरस्वती वंदना-2
सरस्वती वंदना-2
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
माँ
माँ
Kavita Chouhan
पारिजात छंद
पारिजात छंद
Neelam Sharma
अपनी निगाह सौंप दे कुछ देर के लिए
अपनी निगाह सौंप दे कुछ देर के लिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
“शादी के बाद- मिथिला दर्शन” ( संस्मरण )
“शादी के बाद- मिथिला दर्शन” ( संस्मरण )
DrLakshman Jha Parimal
🌼एकांत🌼
🌼एकांत🌼
ruby kumari
■ लघुकथा
■ लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
You have to commit yourself to achieving the dreams that you
You have to commit yourself to achieving the dreams that you
पूर्वार्थ
बिडम्बना
बिडम्बना
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
वेलेंटाइन डे की प्रासंगिकता
वेलेंटाइन डे की प्रासंगिकता
मनोज कर्ण
सीख
सीख
Ashwani Kumar Jaiswal
*पूर्णिका*
*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#काहे_ई_बिदाई_होला_बाबूजी_के_घर_से?
#काहे_ई_बिदाई_होला_बाबूजी_के_घर_से?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जब भी तेरा दिल में ख्याल आता है
जब भी तेरा दिल में ख्याल आता है
Ram Krishan Rastogi
तुम याद आ रहे हो।
तुम याद आ रहे हो।
Taj Mohammad
*
*"जहां भी देखूं नजर आते हो तुम"*
Shashi kala vyas
यदि केवल बातों से वास्ता होता तो
यदि केवल बातों से वास्ता होता तो
Keshav kishor Kumar
हम संभलते है, भटकते नहीं
हम संभलते है, भटकते नहीं
Ruchi Dubey
चयन
चयन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
महाराणा सांगा
महाराणा सांगा
Ajay Shekhavat
आज हमने सोचा
आज हमने सोचा
shabina. Naaz
from under tony's bed - I think she must be traveling
from under tony's bed - I think she must be traveling
Desert fellow Rakesh
मौसम ने भी ली अँगड़ाई, छेड़ रहा है राग।
मौसम ने भी ली अँगड़ाई, छेड़ रहा है राग।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...