Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2023 · 1 min read

*आ गया मौसम वसंती, फागुनी मधुमास है (गीत)*

आ गया मौसम वसंती, फागुनी मधुमास है (गीत)
_______________________
आ गया मौसम वसंती, फागुनी मधुमास है
1
देह में हलचल हुई, ॲंगड़ाइयॉं मन ले रहा
ज्यों तिजोरी से निकल, जग सैर सुख धन ले रहा
खुल रहे हैं नेत्र प्रमुदित, छा रहा उल्लास है
2
वायु थी गुमसुम समूची, मौन था गहरा रहा
पेड़-पत्ती-फूल पर ज्यों, क्रूर कुछ पहरा रहा
खिलखिलाती धूप में अब, कौन आज उदास है
3
कान में रस घोल शशि-सी, नायिका चलने लगी
वर्जना सब तोड़ कर, उद्दंडता पलने लगी
हो रहा मधुकर-कली का, हास कुछ परिहास है
4
पक्षियों की चहचहाहट, गूॅंजती आकाश में
बॉंधती हैं सूर्य किरणें, देह अपने पाश में
अंग में सब प्राणियों के, गुनगुना-सा श्वास है
आ गया मौसम वसंती, फागुनी मधुमास है
————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

212 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
मैं
मैं
Dr.Pratibha Prakash
Success Story -3
Success Story -3
Piyush Goel
एक जमाना था...
एक जमाना था...
Rituraj shivem verma
आधार छंद - बिहारी छंद
आधार छंद - बिहारी छंद
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
हया
हया
sushil sarna
इंद्रदेव समझेंगे जन जन की लाचारी
इंद्रदेव समझेंगे जन जन की लाचारी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
वक्त जब बदलता है
वक्त जब बदलता है
Surinder blackpen
इश्क अमीरों का!
इश्क अमीरों का!
Sanjay ' शून्य'
बेबसी (शक्ति छन्द)
बेबसी (शक्ति छन्द)
नाथ सोनांचली
कोई काम हो तो बताना
कोई काम हो तो बताना
Shekhar Chandra Mitra
सराब -ए -आप में खो गया हूं ,
सराब -ए -आप में खो गया हूं ,
Shyam Sundar Subramanian
जीवन में कितना ही धन -धन कर ले मनवा किंतु शौक़ पत्रिका में न
जीवन में कितना ही धन -धन कर ले मनवा किंतु शौक़ पत्रिका में न
Neelam Sharma
तेरे संग बिताया हर मौसम याद है मुझे
तेरे संग बिताया हर मौसम याद है मुझे
Amulyaa Ratan
Love night
Love night
Bidyadhar Mantry
22, *इन्सान बदल रहा*
22, *इन्सान बदल रहा*
Dr .Shweta sood 'Madhu'
पुण्यतिथि विशेष :/ विवेकानंद
पुण्यतिथि विशेष :/ विवेकानंद
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
मैं बनारस का बेटा हूँ मैं गुजरात का बेटा हूँ मैं गंगा का बेट
मैं बनारस का बेटा हूँ मैं गुजरात का बेटा हूँ मैं गंगा का बेट
शेखर सिंह
प्रकृति की सुंदरता देख पाओगे
प्रकृति की सुंदरता देख पाओगे
Sonam Puneet Dubey
कबीर ज्ञान सार
कबीर ज्ञान सार
भूरचन्द जयपाल
दिल की बगिया में मेरे फूल नहीं खिल पाए।
दिल की बगिया में मेरे फूल नहीं खिल पाए।
*प्रणय प्रभात*
प्यार और नफ़रत
प्यार और नफ़रत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मातृस्वरूपा प्रकृति
मातृस्वरूपा प्रकृति
ऋचा पाठक पंत
3652.💐 *पूर्णिका* 💐
3652.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
"पाठशाला"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन भी एक विदाई है,
जीवन भी एक विदाई है,
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
यदि आपका स्वास्थ्य
यदि आपका स्वास्थ्य
Paras Nath Jha
चश्मा
चश्मा
Awadhesh Singh
भजन- सपने में श्याम मेरे आया है
भजन- सपने में श्याम मेरे आया है
अरविंद भारद्वाज
दो रंगों में दिखती दुनिया
दो रंगों में दिखती दुनिया
कवि दीपक बवेजा
मेरी बेटियाँ
मेरी बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
Loading...