Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Mar 2024 · 1 min read

आ गई रंग रंगीली, पंचमी आ गई रंग रंगीली

आ गई रंग रंगीली, पंचमी आ गई रंग रंगीली
करती रंगों संग अठखेली,आ गई रंग रंगीली
सत रंगी सपनीली, पंचमी आ गई रंग रंगीली
सप्त रंग और सप्त स्वरों ने, छेड़ी तान सुरीली
प्रेम प्रीत का उड़ा गुलाल, जमकर होली खेली
नाच रहा मन मोर,भीगी अंतस चूनर चोली
लाज शरम सब छोड़,समता नाच रही है भोली
झूम उठा मधुमास, प्रेम रस भिगो रहा हमजोली
सभी को रंग पंचमी की हार्दिक बधाई शुभकामनाएं 🎉🙏
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

2 Likes · 115 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
आपसे गुफ्तगू ज़रूरी है
आपसे गुफ्तगू ज़रूरी है
Surinder blackpen
*सभी को आजकल हँसना, सिखाने की जरूरत है (मुक्तक)*
*सभी को आजकल हँसना, सिखाने की जरूरत है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
Kanchan Khanna
कभी कभी चाहती हूँ
कभी कभी चाहती हूँ
ruby kumari
श्रेष्ठ बंधन
श्रेष्ठ बंधन
Dr. Mulla Adam Ali
बहुत दिनों के बाद उनसे मुलाकात हुई।
बहुत दिनों के बाद उनसे मुलाकात हुई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
Pramila sultan
जरुरी नहीं कि
जरुरी नहीं कि
Sangeeta Beniwal
पापा
पापा
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
कविता: सपना
कविता: सपना
Rajesh Kumar Arjun
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सबूत ना बचे कुछ
सबूत ना बचे कुछ
Dr. Kishan tandon kranti
बधाई का असली पात्र हर उस क्षेत्र का मतदाता है, जिसने दलों और
बधाई का असली पात्र हर उस क्षेत्र का मतदाता है, जिसने दलों और
*प्रणय प्रभात*
स्वामी विवेकानंद ( कुंडलिया छंद)
स्वामी विवेकानंद ( कुंडलिया छंद)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
.............सही .......
.............सही .......
Naushaba Suriya
परों को खोल कर अपने उड़ो ऊँचा ज़माने में!
परों को खोल कर अपने उड़ो ऊँचा ज़माने में!
धर्मेंद्र अरोड़ा मुसाफ़िर
कविता -नैराश्य और मैं
कविता -नैराश्य और मैं
Dr Tabassum Jahan
सूरत से यूं बरसते हैं अंगारें कि जैसे..
सूरत से यूं बरसते हैं अंगारें कि जैसे..
Shweta Soni
ऐसा क्यों होता है..?
ऐसा क्यों होता है..?
Dr Manju Saini
तोड़ डालो ये परम्परा
तोड़ डालो ये परम्परा
VINOD CHAUHAN
समंदर
समंदर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जब कभी तुमसे इश्क़-ए-इज़हार की बात आएगी,
जब कभी तुमसे इश्क़-ए-इज़हार की बात आएगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कदमों में बिखर जाए।
कदमों में बिखर जाए।
लक्ष्मी सिंह
खेल और राजनीती
खेल और राजनीती
'अशांत' शेखर
मेरी तकलीफ़
मेरी तकलीफ़
Dr fauzia Naseem shad
❤️ मिलेंगे फिर किसी रोज सुबह-ए-गांव की गलियो में
❤️ मिलेंगे फिर किसी रोज सुबह-ए-गांव की गलियो में
शिव प्रताप लोधी
माँ
माँ
Neelam Sharma
नयी - नयी लत लगी है तेरी
नयी - नयी लत लगी है तेरी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
3197.*पूर्णिका*
3197.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...