Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Oct 2016 · 1 min read

आस का ,अभिलाष का ,विश्वास का हो:: जितेंद्रकमलआनंद ( पोस्ट४९) मुक्तक

मुक्तक ::

आस का , अभिलाष का , विश्वास का हो ।
पल्लवित वट — वृक्ष अब मधुमास का हो ।
बैठ जिसकी छॉव में जीवन सँवारें ।
हम सभी को प्रत्येक पल उल्लास का हो ।।४९,!!

— जितेंद्रकमल आनंद

Language: Hindi
287 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दिल जल रहा है
दिल जल रहा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ह्रदय की अनुभूति
ह्रदय की अनुभूति
Dr fauzia Naseem shad
तुम इश्क लिखना,
तुम इश्क लिखना,
Adarsh Awasthi
जिनसे ये जीवन मिला, कहे उन्हीं को भार।
जिनसे ये जीवन मिला, कहे उन्हीं को भार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
हमारी हार के किस्सों के हिस्से हो गए हैं
हमारी हार के किस्सों के हिस्से हो गए हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
एक सूखा सा वृक्ष...
एक सूखा सा वृक्ष...
Awadhesh Kumar Singh
आज के रिश्ते: ए
आज के रिश्ते: ए
पूर्वार्थ
ये जो नफरतों का बीज बो रहे हो
ये जो नफरतों का बीज बो रहे हो
Gouri tiwari
छत्रपति शिवाजी महाराज V/s संसार में तथाकथित महान समझे जाने वालें कुछ योद्धा
छत्रपति शिवाजी महाराज V/s संसार में तथाकथित महान समझे जाने वालें कुछ योद्धा
Pravesh Shinde
लोकतंत्र का मंदिर
लोकतंत्र का मंदिर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हर चेहरा है खूबसूरत
हर चेहरा है खूबसूरत
Surinder blackpen
हत्या
हत्या
Kshma Urmila
रामायण  के  राम  का , पूर्ण हुआ बनवास ।
रामायण के राम का , पूर्ण हुआ बनवास ।
sushil sarna
भारत हमारा
भारत हमारा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अब न वो आहें बची हैं ।
अब न वो आहें बची हैं ।
Arvind trivedi
अस्तित्व
अस्तित्व
Shyam Sundar Subramanian
-- जिंदगी तो कट जायेगी --
-- जिंदगी तो कट जायेगी --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
बड़ी मुश्किल है ये ज़िंदगी
बड़ी मुश्किल है ये ज़िंदगी
Vandna Thakur
■ दोहा / रात गई, बात गई...
■ दोहा / रात गई, बात गई...
*Author प्रणय प्रभात*
हर चीज से वीरान मैं अब श्मशान बन गया हूँ,
हर चीज से वीरान मैं अब श्मशान बन गया हूँ,
Aditya Prakash
मातु शारदे वंदना
मातु शारदे वंदना
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
भाईचारे का प्रतीक पर्व: लोहड़ी
भाईचारे का प्रतीक पर्व: लोहड़ी
कवि रमेशराज
कड़ियों की लड़ी धीरे-धीरे बिखरने लगती है
कड़ियों की लड़ी धीरे-धीरे बिखरने लगती है
DrLakshman Jha Parimal
*रोते बूढ़े कर रहे, यौवन के दिन याद ( कुंडलिया )*
*रोते बूढ़े कर रहे, यौवन के दिन याद ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
आँखों की दुनिया
आँखों की दुनिया
Sidhartha Mishra
चंदू और बकरी चाँदनी
चंदू और बकरी चाँदनी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Book of the day: काव्य संग्रह
Book of the day: काव्य संग्रह
Sahityapedia
"जरा सोचो"
Dr. Kishan tandon kranti
ऐ जिंदगी तू कब तक?
ऐ जिंदगी तू कब तक?
Taj Mohammad
मैं रचनाकार नहीं हूं
मैं रचनाकार नहीं हूं
Manjhii Masti
Loading...