Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2023 · 1 min read

*आसमान से आग बरसती【बाल कविता/हिंदी गजल/गीतिका 】*

आसमान से आग बरसती【बाल कविता/हिंदी गजल/गीतिका 】
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
(1)
आसमान से आग बरसती
सड़क-गली हर घर में बसती
(2)
गरमी का मौसम है भइया
दोपहरी रहती है कसती
(3)
कब जाओगी गर्मी-रानी
पूछो तो चुप रहती हँसती
(4)
जब तक सूरज नहीं डूबता
तब तक रहती धरा झुलसती
(5)
लू के दिन-भर चले थपेड़े
गरम हवा आँखों में धँसती
(6)
क्या दिन थे वह शुरू जनवरी
आँखें उसको रहीं तरसती
—————————————————-
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

656 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
बेटा तेरे बिना माँ
बेटा तेरे बिना माँ
Basant Bhagawan Roy
जिसके पास क्रोध है,
जिसके पास क्रोध है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बहके जो कोई तो संभाल लेना
बहके जो कोई तो संभाल लेना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दो अक्षर का शब्द है , सबसे सुंदर प्रीत (कुंडलिया)
दो अक्षर का शब्द है , सबसे सुंदर प्रीत (कुंडलिया)
Ravi Prakash
हम तुम्हारे हुए
हम तुम्हारे हुए
नेताम आर सी
A heart-broken Soul.
A heart-broken Soul.
Manisha Manjari
मेरा भारत देश
मेरा भारत देश
Shriyansh Gupta
गिरोहबंदी ...
गिरोहबंदी ...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
" सुप्रभात "
Yogendra Chaturwedi
ख़्वाब सजाना नहीं है।
ख़्वाब सजाना नहीं है।
अनिल "आदर्श"
तुम्हारी खुशी में मेरी दुनिया बसती है
तुम्हारी खुशी में मेरी दुनिया बसती है
Awneesh kumar
दोस्तों की कमी
दोस्तों की कमी
Dr fauzia Naseem shad
शायरी
शायरी
Jayvind Singh Ngariya Ji Datia MP 475661
महापुरुषों की सीख
महापुरुषों की सीख
Dr. Pradeep Kumar Sharma
********* हो गया चाँद बासी ********
********* हो गया चाँद बासी ********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हम जानते हैं - दीपक नीलपदम्
हम जानते हैं - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मंद मंद बहती हवा
मंद मंद बहती हवा
Soni Gupta
*जादू – टोना : वैज्ञानिक समीकरण*
*जादू – टोना : वैज्ञानिक समीकरण*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लेके फिर अवतार ,आओ प्रिय गिरिधर।
लेके फिर अवतार ,आओ प्रिय गिरिधर।
Neelam Sharma
कौन कहता है की ,
कौन कहता है की ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
तुम बदल जाओगी।
तुम बदल जाओगी।
Rj Anand Prajapati
Ishq ke panne par naam tera likh dia,
Ishq ke panne par naam tera likh dia,
Chinkey Jain
हम तुम्हारे साथ हैं
हम तुम्हारे साथ हैं
विक्रम कुमार
2806. *पूर्णिका*
2806. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सच तो फूल होते हैं।
सच तो फूल होते हैं।
Neeraj Agarwal
*स्वप्न को साकार करे साहस वो विकराल हो*
*स्वप्न को साकार करे साहस वो विकराल हो*
पूर्वार्थ
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
భరత మాతకు వందనం
భరత మాతకు వందనం
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
"तब पता चलेगा"
Dr. Kishan tandon kranti
"डबल इंजन" ही क्यों?
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...