Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jul 3, 2016 · 1 min read

आसमां शरारत पे उतरा , जमीं को गिला कर दिया

आषाढ़ की धूप को ढककर बादल ने नशीला कर दिया
आसमां शरारत पे उतरा , जमीं को गिला कर दिया

269 Views
You may also like:
पिता
Keshi Gupta
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Saraswati Bajpai
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
💔💔...broken
Palak Shreya
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
✍️कश्मकश भरी ज़िंदगी ✍️
Vaishnavi Gupta
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Shiva Gouri tiwari
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
जो दिल ओ ज़ेहन में
Dr fauzia Naseem shad
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार कर्ण
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
Loading...