Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 May 2024 · 1 min read

आवारा बादल

मन रंगीन बादलों सा अवारा
अधखुला सा नींद में ,
चाहे ,अनचाहे
उड़ते चले जाते…पर
न जमीं पर ,न आसमाँ में
ठौर कहाँ?
कहीं और, दूर कहीं और..
जहाँ सूरज की रोशनी भी छू न सके,
धरती की हरियाली भीगों न सके,
जहाँ प्रेम बंधन न हो,
बंधकर भी बंध न पाऊँ,
मुक्त होकर भी मुक्त न हो पाऊँ,
बस पिघल जाऊँ ,पिघल जाऊँ
मोम की तरह,
फूलों की पंखुड़ियों सा कोमल अहसास
लिए,निःसीम आसमॉं सा विस्तार लिए,
शब्द से निःशब्द हो जाऊँ,
अपने ही अस्तित्व में
ब्राह्मण्ड- सा विखंडित हो जाऊँ।
पूनम कुमारी(आगाज ए दिल)

Language: Hindi
1 Like · 40 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
निगाहें
निगाहें
Sunanda Chaudhary
मां भारती से कल्याण
मां भारती से कल्याण
Sandeep Pande
জীবন চলচ্চিত্রের একটি খালি রিল, যেখানে আমরা আমাদের ইচ্ছামত গ
জীবন চলচ্চিত্রের একটি খালি রিল, যেখানে আমরা আমাদের ইচ্ছামত গ
Sakhawat Jisan
'प्यासा'कुंडलिया(Vijay Kumar Pandey' pyasa'
'प्यासा'कुंडलिया(Vijay Kumar Pandey' pyasa'
Vijay kumar Pandey
*स्वच्छ रहेगी गली हमारी (बाल कविता)*
*स्वच्छ रहेगी गली हमारी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
गुरु तेगबहादुर की शहादत का साक्षी है शीशगंज गुरुद्वारा
गुरु तेगबहादुर की शहादत का साक्षी है शीशगंज गुरुद्वारा
कवि रमेशराज
हे मानव! प्रकृति
हे मानव! प्रकृति
साहित्य गौरव
**** फागुन के दिन आ गईल ****
**** फागुन के दिन आ गईल ****
Chunnu Lal Gupta
यदि आप अपनी असफलता से संतुष्ट हैं
यदि आप अपनी असफलता से संतुष्ट हैं
Paras Nath Jha
10 Habits of Mentally Strong People
10 Habits of Mentally Strong People
पूर्वार्थ
डायरी मे लिखे शब्द निखर जाते हैं,
डायरी मे लिखे शब्द निखर जाते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ख्वाबों से परहेज़ है मेरा
ख्वाबों से परहेज़ है मेरा "वास्तविकता रूह को सुकून देती है"
Rahul Singh
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet kumar Shukla
जिन्दगी जीना बहुत ही आसान है...
जिन्दगी जीना बहुत ही आसान है...
Abhijeet
सत्ता की हवस वाले राजनीतिक दलों को हराकर मुद्दों पर समाज को जिताना होगा
सत्ता की हवस वाले राजनीतिक दलों को हराकर मुद्दों पर समाज को जिताना होगा
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
"शतरंज"
Dr. Kishan tandon kranti
न जागने की जिद भी अच्छी है हुजूर, मोल आखिर कौन लेगा राह की द
न जागने की जिद भी अच्छी है हुजूर, मोल आखिर कौन लेगा राह की द
Sanjay ' शून्य'
लोग चाहे इश्क़ को दें नाम कोई
लोग चाहे इश्क़ को दें नाम कोई
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गये ज़माने की यादें
गये ज़माने की यादें
Shaily
■ लानत ऐसे सिस्टम पर।।
■ लानत ऐसे सिस्टम पर।।
*प्रणय प्रभात*
मुल्क
मुल्क
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फितरत
फितरत
Dr.Priya Soni Khare
कविता: एक राखी मुझे भेज दो, रक्षाबंधन आने वाला है।
कविता: एक राखी मुझे भेज दो, रक्षाबंधन आने वाला है।
Rajesh Kumar Arjun
पिता है तो लगता परिवार है
पिता है तो लगता परिवार है
Ram Krishan Rastogi
गले लगा लेना
गले लगा लेना
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
नज़्म - चांद हथेली में
नज़्म - चांद हथेली में
Awadhesh Singh
दुःख हरणी
दुःख हरणी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
भाई घर की शान है, बहनों का अभिमान।
भाई घर की शान है, बहनों का अभिमान।
डॉ.सीमा अग्रवाल
बेवफा
बेवफा
Neeraj Agarwal
*Khus khvab hai ye jindagi khus gam ki dava hai ye jindagi h
*Khus khvab hai ye jindagi khus gam ki dava hai ye jindagi h
Vicky Purohit
Loading...