Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2023 · 1 min read

आवारा पंछी / लवकुश यादव “अज़ल”

आईने के दर्पण के जैसे था प्यार हमारा,
तिनका तिनका बिखरा जैसे घड़ा सारा।
हम समेट लेते फिर से तुम्हें बाजुओं में,
पानी जैसा था प्यार हाथ न आया दुबारा।।

अश्क़ मोतियों को संभाल कर रखते भला कब तक,
कमबख्त जब सूख गया तो फिर नहीं आया दोबारा।
हर दर्द को सहना सीख ही गया बिना किसी मुराद के,
वो वक़्त था कैसा की लौट के फिर न आया दुबारा।।

तुम्हारी प्रेम की गली अधूरी हो गयी सुनो बेखबर,
एक मुसाफिर न आया तुमसे फिर तुमसे मिलने दुबारा।
हम समेट लेते फिर से तुम्हें बाजुओं में,
पानी जैसा था प्यार हाथ न आया दुबारा।।

मुमकिन था संभल गया तुम्हारा वो अज़ल इशारा,
कैसे करता सजदा और प्यार वो तुमसे दोबारा।
अश्क़ मोतियों को संभाल कर रखते भला कब तक,
कमबख्त जब सूख गया तो फिर नहीं आया दोबारा।।

लवकुश यादव “अज़ल”
अमेठी, उत्तर प्रदेश

3 Likes · 351 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कारण कोई बतायेगा
कारण कोई बतायेगा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मत मन को कर तू उदास
मत मन को कर तू उदास
gurudeenverma198
होली की पौराणिक कथाएँ।।।
होली की पौराणिक कथाएँ।।।
Jyoti Khari
23/167.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/167.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*केवल पुस्तक को रट-रट कर, किसने प्रभु को पाया है (हिंदी गजल)
*केवल पुस्तक को रट-रट कर, किसने प्रभु को पाया है (हिंदी गजल)
Ravi Prakash
शहर की बस्तियों में घोर सन्नाटा होता है,
शहर की बस्तियों में घोर सन्नाटा होता है,
Abhishek Soni
कैसे हाल-हवाल बचाया मैंने
कैसे हाल-हवाल बचाया मैंने
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"गजब के नजारे"
Dr. Kishan tandon kranti
सत्य छिपकर तू कहां बैठा है।
सत्य छिपकर तू कहां बैठा है।
Taj Mohammad
सम्राट कृष्णदेव राय
सम्राट कृष्णदेव राय
Ajay Shekhavat
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
Mukesh Kumar Sonkar
देव-कृपा / कहानीकार : Buddhsharan Hans
देव-कृपा / कहानीकार : Buddhsharan Hans
Dr MusafiR BaithA
मेरा दामन भी तार- तार रहा
मेरा दामन भी तार- तार रहा
Dr fauzia Naseem shad
क्या से क्या हो गया देखते देखते।
क्या से क्या हो गया देखते देखते।
सत्य कुमार प्रेमी
हम जानते हैं - दीपक नीलपदम्
हम जानते हैं - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
आईना बोला मुझसे
आईना बोला मुझसे
Kanchan Advaita
हर मंदिर में दीप जलेगा
हर मंदिर में दीप जलेगा
Ansh
मैं तो हमेशा बस मुस्कुरा के चलता हूॅ॑
मैं तो हमेशा बस मुस्कुरा के चलता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
फ़ब्तियां
फ़ब्तियां
Shivkumar Bilagrami
सप्तपदी
सप्तपदी
Arti Bhadauria
👍कमाल👍
👍कमाल👍
*Author प्रणय प्रभात*
ये बेकरारी, बेखुदी
ये बेकरारी, बेखुदी
हिमांशु Kulshrestha
🦋 आज की प्रेरणा 🦋
🦋 आज की प्रेरणा 🦋
Tarun Singh Pawar
देने के लिए मेरे पास बहुत कुछ था ,
देने के लिए मेरे पास बहुत कुछ था ,
Rohit yadav
तेरे जागने मे ही तेरा भला है
तेरे जागने मे ही तेरा भला है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पितृ दिवस
पितृ दिवस
Ram Krishan Rastogi
कहा हों मोहन, तुम दिखते नहीं हों !
कहा हों मोहन, तुम दिखते नहीं हों !
The_dk_poetry
परिणति
परिणति
Shyam Sundar Subramanian
बेसबब हैं ऐशो इशरत के मकाँ
बेसबब हैं ऐशो इशरत के मकाँ
अरशद रसूल बदायूंनी
वसुधैव कुटुंबकम है, योग दिवस की थीम
वसुधैव कुटुंबकम है, योग दिवस की थीम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...