Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Apr 2023 · 1 min read

*आवारा कुत्ते हुए, शेरों-से खूंखार (कुंडलिया)*

आवारा कुत्ते हुए, शेरों-से खूंखार (कुंडलिया)
__________________________
आवारा कुत्ते हुए, शेरों-से खूंखार
चलती इनकी गुंडई, करते बंटाधार
करते बंटाधार, भौंकते दॉंत गड़ाते
देख अकेला एक, नोंच कर खा-खा जाते
कहते रवि कविराय, आमजन इन से हारा
शहर-शहर हर गॉंव, डराते यह आवारा
————————————–
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

183 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
कर्बला की मिट्टी
कर्बला की मिट्टी
Paras Nath Jha
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अफवाह एक ऐसा धुआं है को बिना किसी आग के उठता है।
अफवाह एक ऐसा धुआं है को बिना किसी आग के उठता है।
Rj Anand Prajapati
लेकर सांस उधार
लेकर सांस उधार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
*एक मां की कलम से*
*एक मां की कलम से*
Dr. Priya Gupta
शाम
शाम
Neeraj Agarwal
Augmented Reality: Unveiling its Transformative Prospects
Augmented Reality: Unveiling its Transformative Prospects
Shyam Sundar Subramanian
*जमीं भी झूमने लगीं है*
*जमीं भी झूमने लगीं है*
Krishna Manshi
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
धरती का बस एक कोना दे दो
धरती का बस एक कोना दे दो
Rani Singh
पा रही भव्यता अवधपुरी उत्सव मन रहा अनोखा है।
पा रही भव्यता अवधपुरी उत्सव मन रहा अनोखा है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
खेल खिलाड़ी
खेल खिलाड़ी
Mahender Singh
तितली
तितली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*जिंदगी में साथ जब तक, प्रिय तुम्हारा मिल रहा (हिंदी गजल)*
*जिंदगी में साथ जब तक, प्रिय तुम्हारा मिल रहा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
जब गेंद बोलती है, धरती हिलती है, मोहम्मद शमी का जादू, बयां क
जब गेंद बोलती है, धरती हिलती है, मोहम्मद शमी का जादू, बयां क
Sahil Ahmad
जब कभी तुम्हारा बेटा ज़बा हों, तो उसे बताना ज़रूर
जब कभी तुम्हारा बेटा ज़बा हों, तो उसे बताना ज़रूर
The_dk_poetry
उफ़  ये लम्हा चाय का ख्यालों में तुम हो सामने
उफ़ ये लम्हा चाय का ख्यालों में तुम हो सामने
Jyoti Shrivastava(ज्योटी श्रीवास्तव)
जिंदगी भर किया इंतजार
जिंदगी भर किया इंतजार
पूर्वार्थ
मैं दोस्तों से हाथ मिलाने में रह गया कैसे ।
मैं दोस्तों से हाथ मिलाने में रह गया कैसे ।
Neelam Sharma
क्यों नारी लूट रही है
क्यों नारी लूट रही है
gurudeenverma198
बेटियां ?
बेटियां ?
Dr.Pratibha Prakash
ना कुछ जवाब देती हो,
ना कुछ जवाब देती हो,
Dr. Man Mohan Krishna
ध्यान एकत्र
ध्यान एकत्र
शेखर सिंह
गीत.......✍️
गीत.......✍️
SZUBAIR KHAN KHAN
मुझ को किसी एक विषय में मत बांधिए
मुझ को किसी एक विषय में मत बांधिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
"चुनौतियाँ"
Dr. Kishan tandon kranti
जलपरी
जलपरी
लक्ष्मी सिंह
23/168.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/168.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हयात कैसे कैसे गुल खिला गई
हयात कैसे कैसे गुल खिला गई
Shivkumar Bilagrami
अन्तर्राष्ट्रीय श्रमिक दिवस
अन्तर्राष्ट्रीय श्रमिक दिवस
Bodhisatva kastooriya
Loading...