Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2022 · 2 min read

आवत हिय हरषै नहीं नैनन नहीं स्नेह।

आवत हिय हरषै नहीं नैनन नहीं सनेह ।
तुलसी तहां न जाइए कंचन बरसे मेह।।
कहते है सज्जन मानुष का पेट भले ही भूखा क्यों न रह जाए मगर प्रेम और आदर, सम्मान भाव मात्र से वह संतुष्ट रहता है,और जहाँ प्रेम भाव नहीं वह स्थान उसके लिए त्याज्य होता है। तुलसीदास जी कहते हैं कि जिस स्थान पर लोग आपके आने से प्रसन्न न हो और जहां लोगों की आंखों में आपके लिए प्रेम अथवा स्नेह,आदर न हो ऐसे स्थान पर भले ही धन की कितनी भी बर्षा ही क्यों न हो रही हो आपको वहां नहीं जाना चाहिए। अर्थात कोई भी ऐसा स्थान जहां पर अपार धन संपदा हो ,संपूर्ण भव्यता हो ,आलीशान वस्तुएं हो परन्तु वहां आपका मान सम्मान न हो और वहां आप के प्रति किसी के हृदय में प्रेम भाव पैदा न हो आपका कोई स्वागत न करें और मित्रता का भाव भी न हो ऐसी जगह पर हमें नहीं जाना चाहिए।वास्तव में मनुष्य का आचार व्यावहार ही निर्णय बिन्दू पर ठहर कर सही आंकलन कर ही परिणाम तक पहुंचता है। मनुष्य की तार्किक शक्ति की प्रबलता उसे वैचारिक संयोगता प्रदान करती है। जो आत्म सम्मान के लिए आत्म परीक्षणार्थ सोचने समझने की ताकत बनती है।
हमारे इतिहास के पन्ने अनेकों उदाहरणों से भरे है –महाभारत में भगवान कृष्ण ने दुर्योधन के महल के पकवानों को छोड़कर विदुर के घर साग भाजी खाई थी ।दुर्योधन में अंह भाव कूट कूट कर भरा था, उसके द्वारा परोसा जाने वाला आतिथ्य भाव भी उससे अछूता नहीं रह सकता था।इसके विपरीत महान विदुर का निष्छल प्रेम और सत्कार भाव ग्राह्य था। भगवान कृष्ण यह सब जानते थे, इसीलिए उन्होने अंहकारी ,कपटी और मलिन हृदय भाव का त्याग किया था और सरल हृदय मगर विधि नायक के घर प्रेम सत्कार से भरपूर सादा भोजन किया ।
एक अन्य उदाहरण में जब गुरु नानक देव जी ने एक अमीर व्यापारी मलिक भागों के पकवान ठुकरा कर एक गरीब ‘भाई लालो जी’ के घर भोजन ग्रहण किया था ।
महाकवि रहीम ने भी अपने दोहों के माध्यम से समाज में यही सीख हमेशा दी है कि जहाँ छल कपट और बेईमानी से कोई अपना मतलब निकालना चाहे, वहाँ न ही मेहनत की और न ही मेहनती व्यक्ति की कदर होती है। ऐसे लोगों से नाता जोड़ना कभी भी श्रेयकर नहीं रहता। इसीलिए ऐसे स्थान का त्याग कर देना चाहिए।
इससे यह सीख मिलती है कि जिस स्थान पर आप का सत्कार न हो आपको यथोचित सम्मान न मिले ऐसे स्थान पर व्यक्तियों के हृदय के भाव शुद्ध कभी नहीं हो सकते।ऐसे स्थान पर कदापि नहीं जाना चाहिए ।

शीला सिंह बिलासपुर हिमाचल प्रदेश

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 2420 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जब चांद चमक रहा था मेरे घर के सामने
जब चांद चमक रहा था मेरे घर के सामने
shabina. Naaz
अंधा वो नहीं होता है
अंधा वो नहीं होता है
ओंकार मिश्र
हे परम पिता !
हे परम पिता !
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
23/70.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/70.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नयी भोर का स्वप्न
नयी भोर का स्वप्न
Arti Bhadauria
सिनेमा,मोबाइल और फैशन और बोल्ड हॉट तस्वीरों के प्रभाव से आज
सिनेमा,मोबाइल और फैशन और बोल्ड हॉट तस्वीरों के प्रभाव से आज
Rj Anand Prajapati
मन-मंदिर में यादों के नित, दीप जलाया करता हूँ ।
मन-मंदिर में यादों के नित, दीप जलाया करता हूँ ।
Ashok deep
💐अज्ञात के प्रति-4💐
💐अज्ञात के प्रति-4💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
👌फिर हुआ साबित👌
👌फिर हुआ साबित👌
*Author प्रणय प्रभात*
ऐसा नही था कि हम प्यारे नही थे
ऐसा नही था कि हम प्यारे नही थे
Dr Manju Saini
माँ महान है
माँ महान है
Dr. Man Mohan Krishna
कैसा हो रामराज्य
कैसा हो रामराज्य
Rajesh Tiwari
शरीक-ए-ग़म
शरीक-ए-ग़म
Shyam Sundar Subramanian
स्वागत हे ऋतुराज (कुंडलिया)
स्वागत हे ऋतुराज (कुंडलिया)
Ravi Prakash
आजादी का अमृत महोत्सव
आजादी का अमृत महोत्सव
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दोस्त के शादी
दोस्त के शादी
Shekhar Chandra Mitra
"We are a generation where alcohol is turned into cold drink
पूर्वार्थ
ఓ యువత మేలుకో..
ఓ యువత మేలుకో..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
माँ तेरी याद
माँ तेरी याद
Dr fauzia Naseem shad
शिमला
शिमला
Dr Parveen Thakur
माँ काली साक्षात
माँ काली साक्षात
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
* थके नयन हैं *
* थके नयन हैं *
surenderpal vaidya
मेरी भैंस को डण्डा क्यों मारा
मेरी भैंस को डण्डा क्यों मारा
gurudeenverma198
भ्रातृ चालीसा....रक्षा बंधन के पावन पर्व पर
भ्रातृ चालीसा....रक्षा बंधन के पावन पर्व पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
हाथ पताका, अंबर छू लूँ।
हाथ पताका, अंबर छू लूँ।
संजय कुमार संजू
बुनते हैं जो रात-दिन
बुनते हैं जो रात-दिन
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
वो दो साल जिंदगी के (2010-2012)
वो दो साल जिंदगी के (2010-2012)
Shyam Pandey
आंखें मेरी तो नम हो गई है
आंखें मेरी तो नम हो गई है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
पापा के परी
पापा के परी
जय लगन कुमार हैप्पी
!!दर्पण!!
!!दर्पण!!
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
Loading...