Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2023 · 2 min read

“ आलोचना ,समालोचना और विश्लेषण”

डॉ लक्ष्मण झा “ परिमल “
========================
इस रंगमंच में हरेक भाषा ,विभिन्य व्यक्तित्व और विचार के कलाकार हैं ! सब अपने -अपने क्षेत्र के धनुर्धर हैं ! कोई मौन अभिनय के महारथी हैं ,कोई दिग्दर्शक हैं ,किसी की लेखनी काव्यात्मक और गद्यात्मक की श्रेष्टता हमें मंत्रमुग्ध कर देती हैं ! किसी का संगीत ,किसी का गीत और किसी की प्रस्तुति एक यादगार बन जाती है ! हास्य ,व्यंग ,प्रचार -प्रसार और यादगार लम्हों का प्रदर्शन मस्तिष्क में घूमते रहते हैं ! यह सारी प्रतिभाएं अधिकाशतः अविवादित होते हैं ! भले किन्हीं को ना भाए पर अधिकाशतः ये प्रतिभाएं सदिओं तक सराहे जाते हैं !
बस विवादित विषयों का सृजन राजनीति परिदृश में ही होते हैं और समय के साथ -साथ राजनीतिक संवादों का महत्व मलिन होने लगता है ! विषय बदल जाते हैं ! सत्ता स्थानांतरण के बाद विषय भी पुराने हो जाते हैं ! समय के साथ सारे के सारे किसी कोने में धरे के धरे रह जाते हैं ! पर छोड़ जाती है एक पीड़ा ,एक दर्द ,एक कटु अनुभव ! अपने दोस्तों के बीच विचारों का महाभारत प्रारंभ हो जाता है ! सबके अपने -अपने विचार होते हैं ! किन्हीं न किन्हीं संगठनों से प्रत्यक्ष अथवा परोक्ष रूप से लोग जुड़े रहते हैं ! और यदि विवादित व्यक्तित्व का मुकुट अपने सर पर रखना है तो अपने अभिनय में राजनीति भंगिमा अपनाएं !
आलोचना ,समालोचना और विश्लेषण साहित्य का दर्पण है ! इसके बिना साहित्य ही नहीं हरेक विधाओं में इसकी मान्यता है ! आलोचना ,समालोचना और विश्लेषण यदि राजनीति में आप क्यों ना सकारात्मक ही करें पर महाभारत को भला कौन रोक सकता है ? यह कुछ क्षणों के बाद एक भयंकर वाद -विवाद बन जाता है ! लोग अपनी मर्यादा को भूल कर शालीनता ,शिष्टाचार और मृदुलता के दीवारों को तोड़कर अभद्रता के चादर को अपने शरीरों पर ओढ़ लेते हैं ! नौबत यहाँ तक पहुँच जाती है कि अपनी सूची से या तो लोग हटा देते हैं या तो उसको जन्मजन्मांतर ब्लॉक कर देते हैं !
यह बातें ,यह उठापटक ,यह युद्ध और महाभारत की काली घटा अधिकाशतः डिजिटल के राजनीति परिवेश में ही देखने को मिलता हैं ! दरअसल डिजिटल मित्रों को कभी हमने देखा नहीं हैं ,उनके स्वभाव से अवगत नहीं हैं और ना उनके विषय में हम जानते हैं ! फिज़िकल फ्रेंडशिप में यह कटुता कुछ क्षणों के लिए रहती है पर डिजिटल मित्रता के कमेन्ट बॉक्स पर प्रहार लगातार होने लगता है ! सारे के सारे लोग अपनी हॉबबी से जुड़े हैं ! उन्हें अपना काम करना पड़ता है ! कोई भी महाभारत करना नहीं चाहता ! हमारी कोशिश यही रहनी चाहिए कि कम से कम विवादित मुद्दों पर आलोचना ,समालोचना और विश्लेषण करें ताकि आप सदा ही सुरक्षित रह सकें !
======================
डॉ लक्ष्मण झा “ परिमल “
साउंड हेल्थ क्लिनिक
डॉक्टर’स लेन
दुमका
झारखण्ड
09.02.2023

Language: Hindi
197 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उसने मुझको बुलाया तो जाना पड़ा।
उसने मुझको बुलाया तो जाना पड़ा।
सत्य कुमार प्रेमी
मुस्कुरायें तो
मुस्कुरायें तो
sushil sarna
💐प्रेम कौतुक-448💐
💐प्रेम कौतुक-448💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बे-असर
बे-असर
Sameer Kaul Sagar
योग का एक विधान
योग का एक विधान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"लू"
Dr. Kishan tandon kranti
Ajeeb hai ye duniya.......pahle to karona se l ladh rah
Ajeeb hai ye duniya.......pahle to karona se l ladh rah
shabina. Naaz
रहना चाहें स्वस्थ तो , खाएँ प्रतिदिन सेब(कुंडलिया)
रहना चाहें स्वस्थ तो , खाएँ प्रतिदिन सेब(कुंडलिया)
Ravi Prakash
जीतना अच्छा है,पर अपनों से हारने में ही मज़ा है।
जीतना अच्छा है,पर अपनों से हारने में ही मज़ा है।
अनिल कुमार निश्छल
फेसबुक ग्रूपों से कुछ मन उचट गया है परिमल
फेसबुक ग्रूपों से कुछ मन उचट गया है परिमल
DrLakshman Jha Parimal
वक़्त गुज़रे तो
वक़्त गुज़रे तो
Dr fauzia Naseem shad
अबके रंग लगाना है
अबके रंग लगाना है
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
मिलने को उनसे दिल तो बहुत है बेताब मेरा
मिलने को उनसे दिल तो बहुत है बेताब मेरा
gurudeenverma198
2515.पूर्णिका
2515.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
परिवर्तन विकास बेशुमार
परिवर्तन विकास बेशुमार
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*मन  में  पर्वत  सी पीर है*
*मन में पर्वत सी पीर है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
🥀 *✍अज्ञानी की*🥀
🥀 *✍अज्ञानी की*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हर एक नागरिक को अपना, सर्वश्रेष्ठ देना होगा
हर एक नागरिक को अपना, सर्वश्रेष्ठ देना होगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
इंतजार करो
इंतजार करो
Buddha Prakash
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
उस दिन
उस दिन
Shweta Soni
Bahut fark h,
Bahut fark h,
Sakshi Tripathi
*किस्मत में यार नहीं होता*
*किस्मत में यार नहीं होता*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
#मुक्तक-
#मुक्तक-
*Author प्रणय प्रभात*
सीमवा पे डटल हवे, हमरे भैय्या फ़ौजी
सीमवा पे डटल हवे, हमरे भैय्या फ़ौजी
Er.Navaneet R Shandily
हिंदी दोहा- महावीर
हिंदी दोहा- महावीर
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कहते हैं मृत्यु ही एक तय सत्य है,
कहते हैं मृत्यु ही एक तय सत्य है,
पूर्वार्थ
!!  श्री गणेशाय् नम्ः  !!
!! श्री गणेशाय् नम्ः !!
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
-- फिर हो गयी हत्या --
-- फिर हो गयी हत्या --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
ब्रज के एक सशक्त हस्ताक्षर लोककवि रामचरन गुप्त +प्रोफेसर अशोक द्विवेदी
ब्रज के एक सशक्त हस्ताक्षर लोककवि रामचरन गुप्त +प्रोफेसर अशोक द्विवेदी
कवि रमेशराज
Loading...