Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Dec 2022 · 2 min read

आलेख : सजल क्या हैं

क्या हैं सजल?

सजल आज एक साहित्यिक विधा है जिसका अवतरण साहित्य में आज से चार वर्ष पूर्व हुआ और जिसकाश्रेय पूर्ण रूप से मथुरा निवासी डिग्री कालेज से सेवानिवृत श्री अनिल गहलौट जी को जाता हैं।
यह ग़ज़ल की भाँति ही लिखी जाती है लेकिन किसी पूर्व सुनियोजित मीटर, मात्रा-विधान, गण-विधान या बहर पर अपने शब्द या वैचारिक कल्पना नहीं सजाई जाती। छंद-विधान हो या ग़ज़ल-विधान, दोनों पर ही अपनी भावपक्ष व कलापक्ष को सजा कर रखना और स्वरचित रचना कहना एक प्रकार की चोरी ही है। ऐसे रचनाओं में मौलिकता का आभाव सदा चुभता रहता है।
मुझे सजल में कई मौलिकताएँ देखने को मिली –

१–सजल का अपना छंद होता है।

२–इसका अपना व्याकरण होता है। अपने नियम हैं और अपनी शब्दावली व नमावली है अर्थात ‘भाषा में व्याकरण ढूँढा जाता है” जैसी उक्ति को चरितार्थ करती करता है।

३–इसकी अपनी लय, अपनी ताल तथा अपनी गति होती है।
इसका अपना मौलिक छंद या बहर है

४–इसके कोई भेद नहीं होते। ग़ज़ल की तरह सजल ही कहलाती है।

५–रचनाकार की मौलिकता को विशुद्ध बनाए रखती है।

६–विशुद्ध हिंदी की समर्थक है। हिंदी शब्दावली इसकी आत्मा है।
रदीफ़, क़ाफ़िया, कता जैसे शब्दों को समान्त, पदान्त, पल्लव जैसे शब्द प्रदान किए हैं।

७–लेखन बहुत सरल व मनभावन हैं।गेयता इसका प्रधान तत्व हैं।

८–बोलचाल भाषा के शब्द व विशुद्ध हिंदी के शब्द स्वीकार्य हैं किन्तु क्लिष्ट उर्दू के शब्द स्वीकार्य नहीं।

९–बोलचाल के उर्दू के शब्द यदि प्रयुक्त किए भी गए हैं तो उनका व्याकरण हिंदी का होना अनिवार्य हैं।

१०–सजल का विषय पटल ग़ज़ल की तुलना में अत्यंत विशद हैं इश्क और माशूक के दायरे से निकल समाज और राष्ट्र व अंतराष्ट्रीय नभ में कुलाचे भरती है।

११–अभी चार वर्ष ही हुए हैं सजल विधा के अवतरण काल को लेकिन इतनी लोकप्रियता प्राप्त की कि अब सभी सजल लिख रहें हैं।

१२–सबसे बड़ी बात यह कि गीत की तरह मौलिकता के हर बिंदु की कसौटी पर खरी सिद्ध हो रही हैक्योंकि कोई भी रचना तभी मौलिक कहलाती है जिसका हर तत्व स्वयंभू हो।

सुशीला जोशी, विद्योत्मा
मुजफ्फरनगर उप्र

Language: Hindi
1 Like · 744 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
Anil chobisa
भोर काल से संध्या तक
भोर काल से संध्या तक
देवराज यादव
डर डर के उड़ रहे पंछी
डर डर के उड़ रहे पंछी
डॉ. शिव लहरी
“देवभूमि क दिव्य दर्शन” मैथिली ( यात्रा -संस्मरण )
“देवभूमि क दिव्य दर्शन” मैथिली ( यात्रा -संस्मरण )
DrLakshman Jha Parimal
"राबता" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
अवसाद
अवसाद
Dr Parveen Thakur
आ गए आसमाॅ॑ के परिंदे
आ गए आसमाॅ॑ के परिंदे
VINOD CHAUHAN
मैं घाट तू धारा…
मैं घाट तू धारा…
Rekha Drolia
■ संडे इज़ द फंडे...😊
■ संडे इज़ द फंडे...😊
*प्रणय प्रभात*
**
**"कोई गिला नहीं "
Dr Mukesh 'Aseemit'
कुश्ती दंगल
कुश्ती दंगल
मनोज कर्ण
फिर कभी तुमको बुलाऊं
फिर कभी तुमको बुलाऊं
Shivkumar Bilagrami
"अनाज के दानों में"
Dr. Kishan tandon kranti
कुंडलिया - होली
कुंडलिया - होली
sushil sarna
लड़कियों को हर इक चीज़ पसंद होती है,
लड़कियों को हर इक चीज़ पसंद होती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
" है वही सुरमा इस जग में ।
Shubham Pandey (S P)
मुक्त पुरूष #...वो चला गया.....
मुक्त पुरूष #...वो चला गया.....
Santosh Soni
पहाड़ चढ़ना भी उतना ही कठिन होता है जितना कि पहाड़ तोड़ना ठीक उस
पहाड़ चढ़ना भी उतना ही कठिन होता है जितना कि पहाड़ तोड़ना ठीक उस
Dr. Man Mohan Krishna
23/137.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/137.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मम्मास बेबी
मम्मास बेबी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जश्न आजादी का ....!!!
जश्न आजादी का ....!!!
Kanchan Khanna
संवेदना अभी भी जीवित है
संवेदना अभी भी जीवित है
Neena Kathuria
*कहीं जन्म की खुशियॉं हैं, तो कहीं मौत का गम है (हिंदी गजल ग
*कहीं जन्म की खुशियॉं हैं, तो कहीं मौत का गम है (हिंदी गजल ग
Ravi Prakash
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
Rj Anand Prajapati
अरमानों की भीड़ में,
अरमानों की भीड़ में,
Mahendra Narayan
मीना
मीना
Shweta Soni
सच
सच
Neeraj Agarwal
***** सिंदूरी - किरदार ****
***** सिंदूरी - किरदार ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
नींद आती है......
नींद आती है......
Kavita Chouhan
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
Loading...