Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 1 min read

आलाप

आलाप दिल का,

सुन रहा है,

इच्छाओं का स्पंज

और उनको सोखता

रहता है,

ये गुब्बारे

सा फूलता मन।

डायबिटीज की

गोली जैसा मीठा

उसका बोलना।

पर, दिनचर्या की,

जददोजहद,

ऐसी,जैसे

कांटो भरे गुलाब के

बगीचे मे लहराती

आवारा महक ।

इसलिए,

मन के आकाश

में खूब पानी वाला

काला बादल बनाया उसने ।

जो, चुपके से,

बरसता है,

रसोई की ,

खिडकी के बाहर,

आटा ,चावल के

खाली कनस्तर से

बजबजाते

इस मन को

इतना तो विश्वास है कि

कभी न कभी सांसों के

पुल पर होकर

बचपन वाला गांव छू भर ही

आयेंगे कभी न कभी।

3 Likes · 137 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Punam Pande
View all
You may also like:
*है गृहस्थ जीवन कठिन
*है गृहस्थ जीवन कठिन
Sanjay ' शून्य'
विकलांगता : नहीं एक अभिशाप
विकलांगता : नहीं एक अभिशाप
Dr. Upasana Pandey
2324.पूर्णिका
2324.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
पतंग को हवा की दिशा में उड़ाओगे तो बहुत दूर तक जाएगी नहीं तो
पतंग को हवा की दिशा में उड़ाओगे तो बहुत दूर तक जाएगी नहीं तो
Rj Anand Prajapati
गुमराह जिंदगी में अब चाह है किसे
गुमराह जिंदगी में अब चाह है किसे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कहाॅ॑ है नूर
कहाॅ॑ है नूर
VINOD CHAUHAN
आने जाने का
आने जाने का
Dr fauzia Naseem shad
कहानी :#सम्मान
कहानी :#सम्मान
Usha Sharma
संकल्प
संकल्प
Shyam Sundar Subramanian
युवा संवाद
युवा संवाद
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
युवा मन❤️‍🔥🤵
युवा मन❤️‍🔥🤵
डॉ० रोहित कौशिक
परिणय प्रनय
परिणय प्रनय
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
कभी यदि मिलना हुआ फिर से
कभी यदि मिलना हुआ फिर से
Dr Manju Saini
Jo Apna Nahin 💔💔
Jo Apna Nahin 💔💔
Yash mehra
माँ-बाप
माँ-बाप
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
दो साँसों के तीर पर,
दो साँसों के तीर पर,
sushil sarna
चिरैया पूछेंगी एक दिन
चिरैया पूछेंगी एक दिन
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
जो उनसे पूछा कि हम पर यक़ीं नहीं रखते
जो उनसे पूछा कि हम पर यक़ीं नहीं रखते
Anis Shah
"मिलते है एक अजनबी बनकर"
Lohit Tamta
💐प्रेम कौतुक-170💐
💐प्रेम कौतुक-170💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"शिष्ट लेखनी "
DrLakshman Jha Parimal
नया एक रिश्ता पैदा क्यों करें हम
नया एक रिश्ता पैदा क्यों करें हम
Shakil Alam
19-कुछ भूली बिसरी यादों की
19-कुछ भूली बिसरी यादों की
Ajay Kumar Vimal
विषधर
विषधर
आनन्द मिश्र
#आलेख-
#आलेख-
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
"हकीकत"
Dr. Kishan tandon kranti
अब मै ख़ुद से खफा रहने लगा हूँ
अब मै ख़ुद से खफा रहने लगा हूँ
Bhupendra Rawat
पहिए गाड़ी के हुए, पत्नी-पति का साथ (कुंडलिया)
पहिए गाड़ी के हुए, पत्नी-पति का साथ (कुंडलिया)
Ravi Prakash
अंदाज़े शायरी
अंदाज़े शायरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...