Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Feb 2024 · 1 min read

आलता-महावर

रचना क्रमाँक –4
मन- बतियाँ

विधा काव्य ..

जिन्दा रहने के मौसम बहुत हैं मिले ,
जान दे दूँ वतन के लिए,होंठ हैं सिले।

मक्कारियाँ लहू में इस कदर है मिली
होश खो दिये ,जोश भी ठंडे हैं मिले ।

लूट खसोट की राजनीति आबाद यहाँ ,
मान तिरंगे का रखने वाले कम हैं मिले।

फनाँ हो गयी जो जवानी कौम के लिए
उनको कफ़न उढ़ाने वाले कब हैं मिले।

रोती है ममता, मासूमियत बिसूरती दिखी
बाँट कर रोटियाँ खाने वाले नहीं है मिले।

फक़त एक दिन का जश्न आजादी के नाम
गर्दिश करता लहू नसों में अब नहीं है मिले।

खींच दी लहू से अपने जमीन पे थी लकीर
स्वार्थ में उस लकीर को मिटाने वाले हैं मिले ।

इस जवानी की कीमत ,न समझते हैं लोग
भारत रहे अक्षुण्ण ,यह सोच वाले नहीं है मिले।

प्रहरी बन निगाहबान आँखें लगी सीमा पर
अस्मिता की रक्षा करने वाले नहीं है मिले ।

गफ़लतो का दौर है ,हर तरफ इक शोर है
आस्तीन में पल रहे ,साँप वही हैं मिले।

कर चले ,फिदा जाँ और तन साथियों
भगत आजाद जैसे पैदा,नर नहीं हैं मिले ।

चाह नहीं सिंहासन की ,वो जमाना और था
मातृभूमि की माटी हित मिटने वाले नहीं मिले।

रगो में जोश भर दे, अब वही गीत गाओ तुम
फिर से गुलशन महकाओ, लग जाओ तुम गले।

तुमको पुकारती , पिचहत्तर साला बूढ़ी माँ
नौजवानों ,हुंकार से अपनी फिर गुँजा दो आस्माँ।

देश ने तुमको जीवन दिया ,माटी ने दिया अन्न
हवाओं ने आजाद साँसें दी ,यह मत भूलो तुम।
पाखी

Language: Hindi
84 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
युद्ध
युद्ध
Dr.Priya Soni Khare
बाल दिवस विशेष- बाल कविता - डी के निवातिया
बाल दिवस विशेष- बाल कविता - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
यादो की चिलमन
यादो की चिलमन
Sandeep Pande
कृष्ण जन्म
कृष्ण जन्म
लक्ष्मी सिंह
बुझे अलाव की
बुझे अलाव की
Atul "Krishn"
भेड़ चालों का रटन हुआ
भेड़ चालों का रटन हुआ
Vishnu Prasad 'panchotiya'
जिस देश मे पवन देवता है
जिस देश मे पवन देवता है
शेखर सिंह
मैं क्या जानूं क्या होता है किसी एक  के प्यार में
मैं क्या जानूं क्या होता है किसी एक के प्यार में
Manoj Mahato
हिंदुत्व - जीवन का आधार
हिंदुत्व - जीवन का आधार
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
2389.पूर्णिका
2389.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
" जुदाई "
Aarti sirsat
जब जब तुझे पुकारा तू मेरे करीब हाजिर था,
जब जब तुझे पुकारा तू मेरे करीब हाजिर था,
Sukoon
सच तो कुछ भी न,
सच तो कुछ भी न,
Neeraj Agarwal
राखी
राखी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
👤
👤"जिसका स्थिरता और विश्वसनीयता
*Author प्रणय प्रभात*
जब हासिल हो जाए तो सब ख़ाक़ बराबर है
जब हासिल हो जाए तो सब ख़ाक़ बराबर है
Vishal babu (vishu)
मासुमियत - बेटी हूँ मैं।
मासुमियत - बेटी हूँ मैं।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
कुछ खामोशियाँ तुम ले आना।
कुछ खामोशियाँ तुम ले आना।
Manisha Manjari
ज़रा सी बात पे तू भी अकड़ के बैठ गया।
ज़रा सी बात पे तू भी अकड़ के बैठ गया।
सत्य कुमार प्रेमी
भाव गणित
भाव गणित
Shyam Sundar Subramanian
"ഓണാശംസകളും ആശംസകളും"
DrLakshman Jha Parimal
बाबा केदारनाथ जी
बाबा केदारनाथ जी
Bodhisatva kastooriya
जलती बाती प्रेम की,
जलती बाती प्रेम की,
sushil sarna
*पल्लव काव्य मंच द्वारा कवि सम्मेलन, पुस्तकों का लोकार्पण तथ
*पल्लव काव्य मंच द्वारा कवि सम्मेलन, पुस्तकों का लोकार्पण तथ
Ravi Prakash
धिक्कार
धिक्कार
Dr. Mulla Adam Ali
* रेत समंदर के...! *
* रेत समंदर के...! *
VEDANTA PATEL
परीक्षा है सर पर..!
परीक्षा है सर पर..!
भवेश
मन का महाभारत
मन का महाभारत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"लाभ का लोभ"
पंकज कुमार कर्ण
विरह गीत
विरह गीत
नाथ सोनांचली
Loading...