Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Apr 2023 · 1 min read

आराधन

कुण्डलिया छंद
विषय-आराधन

पूरी होगी साधना, करो शारदा ध्यान।
हो सच्ची आराधना,मात भरे नित ज्ञान।
मात भरे नित ज्ञान, कृपा से झोली भर लो।
जगत मिले सम्मान,भाल‌ ज्योतिर्मय कर लो।
नित छंद अलंकार, सजी‌ रचनाएं जरुरी।
हो सरगम‌ झंकार, गीत से रचना पूरी ।।

मानव जीवन हो भला, नित आराधन ईश।
सुख सागर मे हो पला, भगवत हो आशीश।
भगवत हो आशीश,रहे सुख-दुख मे ढलता
चिंता नहीं लवलेश,कृपा ईश्वर की पलता।
बहे प्रेम की गंग, मिटे विकार के दानव।
जो भजता नित ईश, भला हो‌ जीवन मानव।।

कर आराधन ईश से, मिटे हृदय विकार।
सुखी रहें इस देश में, हर मानव सरकार।।
हर मानव सरकार, का है देश से नाता।
सींचे सौ-सौ बार, देश हरियाला भाता।
रहे सदा खुश हाल, रहेगा सबसे बढ़कर।
झुके प्रेम से भाल, चरण में इसके आकर।।

ललिता कश्यप जिला बिलासपुर हिमाचल प्रदेश

138 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कह दिया आपने साथ रहना हमें।
कह दिया आपने साथ रहना हमें।
surenderpal vaidya
यादों के तराने
यादों के तराने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
💐प्रेम कौतुक-308💐
💐प्रेम कौतुक-308💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मन मेरा कर रहा है, कि मोदी को बदल दें, संकल्प भी कर लें, तो
मन मेरा कर रहा है, कि मोदी को बदल दें, संकल्प भी कर लें, तो
Sanjay ' शून्य'
थोपा गया कर्तव्य  बोझ जैसा होता है । उसमें समर्पण और सेवा-भा
थोपा गया कर्तव्य बोझ जैसा होता है । उसमें समर्पण और सेवा-भा
Seema Verma
आ भी जाओ मेरी आँखों के रूबरू अब तुम
आ भी जाओ मेरी आँखों के रूबरू अब तुम
Vishal babu (vishu)
नसीब तो ऐसा है मेरा
नसीब तो ऐसा है मेरा
gurudeenverma198
कोई भोली समझता है
कोई भोली समझता है
VINOD CHAUHAN
तू फ़रिश्ता है अगर तो
तू फ़रिश्ता है अगर तो
*Author प्रणय प्रभात*
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
शाम हो गई है अब हम क्या करें...
शाम हो गई है अब हम क्या करें...
राहुल रायकवार जज़्बाती
दोस्ती.......
दोस्ती.......
Harminder Kaur
लौट कर रास्ते भी
लौट कर रास्ते भी
Dr fauzia Naseem shad
नफ़रत
नफ़रत
विजय कुमार अग्रवाल
ज़हालत का दौर
ज़हालत का दौर
Shekhar Chandra Mitra
चार दिनों की जिंदगी है, यूँ हीं गुज़र के रह जानी है...!!
चार दिनों की जिंदगी है, यूँ हीं गुज़र के रह जानी है...!!
Ravi Betulwala
एक मीठा सा एहसास
एक मीठा सा एहसास
हिमांशु Kulshrestha
कामयाबी का नशा
कामयाबी का नशा
SHAMA PARVEEN
इस दुनिया में दोस्त हीं एक ऐसा विकल्प है जिसका कोई विकल्प नह
इस दुनिया में दोस्त हीं एक ऐसा विकल्प है जिसका कोई विकल्प नह
Shweta Soni
"सार"
Dr. Kishan tandon kranti
#सुप्रभात
#सुप्रभात
आर.एस. 'प्रीतम'
देश भक्ति का ढोंग
देश भक्ति का ढोंग
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
नई शिक्षा
नई शिक्षा
अंजनीत निज्जर
आज कुछ अजनबी सा अपना वजूद लगता हैं,
आज कुछ अजनबी सा अपना वजूद लगता हैं,
Jay Dewangan
काश तुम्हारी तस्वीर भी हमसे बातें करती
काश तुम्हारी तस्वीर भी हमसे बातें करती
Dushyant Kumar Patel
🌷🧑‍⚖️हिंदी इन माय इंट्रो🧑‍⚖️⚘️
🌷🧑‍⚖️हिंदी इन माय इंट्रो🧑‍⚖️⚘️
Ms.Ankit Halke jha
अभी सत्य की खोज जारी है...
अभी सत्य की खोज जारी है...
Vishnu Prasad 'panchotiya'
प्रेम और घृणा से ऊपर उठने के लिए जागृत दिशा होना अनिवार्य है
प्रेम और घृणा से ऊपर उठने के लिए जागृत दिशा होना अनिवार्य है
Ravikesh Jha
*वैराग्य के आठ दोहे*
*वैराग्य के आठ दोहे*
Ravi Prakash
सत्य खोज लिया है जब
सत्य खोज लिया है जब
Buddha Prakash
Loading...