Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jun 2023 · 1 min read

आये हो मिलने तुम,जब ऐसा हुआ

शेर- तुमको अपना तो कहे, लेकिन अपनों में क्या कहे।
तुमको अपना हमदर्द कहे, या तुमको फिर बेदर्द कहे।।
————————————————————-
आये हो मिलने तुम, जब ऐसा हुआ।
मरघट को जनाजा, रवाना हुआ।।
आये हो मिलने तुम—————।।

कुछ ही फासले पर , तुम रहते थे।
तुमको जानेजिगर, हम कहते थे।।
चेहरा तुमने दिखाया, जब ऐसा हुआ।
जब जलकर चिता में, खाक हुआ।।
आये हो मिलने तुम—————–।।
————————————————————–
शेर- ऐसे भी आये थे मिलने, जिनको गैर हम कहते थे।
करते थे जिनको नापसंद, देखना पसंद नहीं करते थे।।
——————————————————————–
खबर तुमने सुनी,तुम फुरसत में थे।
हमसे कह दिया, तुम मजलिस में थे।।
याद आया तुम्हें, जब ऐसा हुआ।
इस दुनिया से जब , अलविदा हुआ।।
आये हो मिलने तुम——————।।
——————————————————–
शेर- बहुत महशूर हो तुम, गुमनाम हम भी नहीं।
पूछते हैं हमको भी लोग, बदनाम हम भी नहीं।।
—————————————————————
दौलतवाले हो तुम, क्यों जमीं देखोगे।
हम यतीम-मुफलिसों से, क्यों मिलोगे।।
तुम्हें आई शर्म, जब ऐसा हुआ।
हाल तुम्हारा जब , मेरे जैसा हुआ।।
आये हो मिलने तुम——————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ साहित्यकार-
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
92 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बचपन
बचपन
लक्ष्मी सिंह
ज़िंदगी के रंगों में भरे हुए ये आख़िरी छीटें,
ज़िंदगी के रंगों में भरे हुए ये आख़िरी छीटें,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*नर से कम नहीं है नारी*
*नर से कम नहीं है नारी*
Dushyant Kumar
हाथी के दांत
हाथी के दांत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
(आखिर कौन हूं मैं )
(आखिर कौन हूं मैं )
Sonia Yadav
* मुस्कुराते नहीं *
* मुस्कुराते नहीं *
surenderpal vaidya
************ कृष्ण -लीला ***********
************ कृष्ण -लीला ***********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कुंडलिया. . .
कुंडलिया. . .
sushil sarna
मंत्र :या देवी सर्वभूतेषु सृष्टि रूपेण संस्थिता।
मंत्र :या देवी सर्वभूतेषु सृष्टि रूपेण संस्थिता।
Harminder Kaur
किरदार हो या
किरदार हो या
Mahender Singh
अदाकारियां
अदाकारियां
Surinder blackpen
"𝗜 𝗵𝗮𝘃𝗲 𝗻𝗼 𝘁𝗶𝗺𝗲 𝗳𝗼𝗿 𝗹𝗼𝘃𝗲."
पूर्वार्थ
*कुल मिलाकर आदमी मजदूर है*
*कुल मिलाकर आदमी मजदूर है*
sudhir kumar
ओढ़े जुबां झूठे लफ्जों की।
ओढ़े जुबां झूठे लफ्जों की।
Rj Anand Prajapati
जाति-पाति देखे नहीं,
जाति-पाति देखे नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कभी उन बहनों को ना सताना जिनके माँ पिता साथ छोड़ गये हो।
कभी उन बहनों को ना सताना जिनके माँ पिता साथ छोड़ गये हो।
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
सबूत ना बचे कुछ
सबूत ना बचे कुछ
Dr. Kishan tandon kranti
देख तुझको यूँ निगाहों का चुराना मेरा - मीनाक्षी मासूम
देख तुझको यूँ निगाहों का चुराना मेरा - मीनाक्षी मासूम
Meenakshi Masoom
The Sound of Birds and Nothing Else
The Sound of Birds and Nothing Else
R. H. SRIDEVI
#मुझे_गर्व_है
#मुझे_गर्व_है
*प्रणय प्रभात*
आज ज़माना चांद पर पांव रख आया है ,
आज ज़माना चांद पर पांव रख आया है ,
पूनम दीक्षित
अजन्मी बेटी का प्रश्न!
अजन्मी बेटी का प्रश्न!
Anamika Singh
****शिव शंकर****
****शिव शंकर****
Kavita Chouhan
3136.*पूर्णिका*
3136.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*नेत्रदान-संकल्प (गीत)*
*नेत्रदान-संकल्प (गीत)*
Ravi Prakash
प्रेम-प्रेम रटते सभी,
प्रेम-प्रेम रटते सभी,
Arvind trivedi
मुझे किराए का ही समझो,
मुझे किराए का ही समझो,
Sanjay ' शून्य'
मना लिया नव बर्ष, काम पर लग जाओ
मना लिया नव बर्ष, काम पर लग जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बारिश के लिए तरस रहे
बारिश के लिए तरस रहे
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
शहर के लोग
शहर के लोग
Madhuyanka Raj
Loading...