Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Nov 2023 · 1 min read

*आया जाने कौन-सा, लेकर नाम बुखार (कुंडलिया)*

आया जाने कौन-सा, लेकर नाम बुखार (कुंडलिया)
—————————————-
आया जाने कौन-सा, लेकर नाम बुखार
काया सब काली हुई, सूखी रस की धार
सूखी रस की धार, हाथ को हाथ डराता
पैरों को बेकार, दुष्ट ज्वर कर-कर जाता
कहते रवि कविराय, गली हर घर है छाया
मरण भयानक पाश, नाम ज्वर लेकर आया
————————————
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

2 Likes · 103 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
राम
राम
Sanjay ' शून्य'
3108.*पूर्णिका*
3108.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सामाजिक रिवाज
सामाजिक रिवाज
Anil "Aadarsh"
भाई बहन का प्रेम
भाई बहन का प्रेम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
#dr Arun Kumar shastri
#dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
संवेदनशील होना किसी भी व्यक्ति के जीवन का महान गुण है।
संवेदनशील होना किसी भी व्यक्ति के जीवन का महान गुण है।
Mohan Pandey
मित्रता स्वार्थ नहीं बल्कि एक विश्वास है। जहाँ सुख में हंसी-
मित्रता स्वार्थ नहीं बल्कि एक विश्वास है। जहाँ सुख में हंसी-
Dr Tabassum Jahan
🥀 *✍अज्ञानी की*🥀
🥀 *✍अज्ञानी की*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
विषय:गुलाब
विषय:गुलाब
Harminder Kaur
खंड 8
खंड 8
Rambali Mishra
साक्षात्कार एक स्वास्थ्य मंत्री से [ व्यंग्य ]
साक्षात्कार एक स्वास्थ्य मंत्री से [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
👍👍👍
👍👍👍
*Author प्रणय प्रभात*
जीवन का फलसफा/ध्येय यह हो...
जीवन का फलसफा/ध्येय यह हो...
Dr MusafiR BaithA
क्यों नहीं बदल सका मैं, यह शौक अपना
क्यों नहीं बदल सका मैं, यह शौक अपना
gurudeenverma198
*कभी उन चीजों के बारे में न सोचें*
*कभी उन चीजों के बारे में न सोचें*
नेताम आर सी
अजब गजब
अजब गजब
साहिल
ମୁଁ ତୁମକୁ ଭଲପାଏ
ମୁଁ ତୁମକୁ ଭଲପାଏ
Otteri Selvakumar
जो गुज़र गया
जो गुज़र गया
Dr fauzia Naseem shad
रामायण में हनुमान जी को संजीवनी बुटी लाते देख
रामायण में हनुमान जी को संजीवनी बुटी लाते देख
शेखर सिंह
*राजा-रंक समान, हाथ सब खाली जाते (कुंडलिया)*
*राजा-रंक समान, हाथ सब खाली जाते (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Sari bandisho ko nibha ke dekha,
Sari bandisho ko nibha ke dekha,
Sakshi Tripathi
बेशक ! बसंत आने की, खुशी मनाया जाए
बेशक ! बसंत आने की, खुशी मनाया जाए
Keshav kishor Kumar
आया तेरे दर पर बेटा माँ
आया तेरे दर पर बेटा माँ
Basant Bhagawan Roy
*बेवफ़ा से इश्क़*
*बेवफ़ा से इश्क़*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
इंसान दुनिया जमाने से भले झूठ कहे
इंसान दुनिया जमाने से भले झूठ कहे
ruby kumari
किसी शायर का ख़्वाब
किसी शायर का ख़्वाब
Shekhar Chandra Mitra
मन हो अगर उदास
मन हो अगर उदास
कवि दीपक बवेजा
मन को कर देता हूँ मौसमो के साथ
मन को कर देता हूँ मौसमो के साथ
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
आस्था होने लगी अंधी है
आस्था होने लगी अंधी है
पूर्वार्थ
दो धारी तलवार
दो धारी तलवार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
Loading...