Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-353💐

आयन्दा कोई इश्क़ का तमाशा नहीं करेगा,
एतिबार को बुरा कह तमाशा नहीं करेगा,
तुम समेटो अपने हिस्से के ग़मो को सुन लो,
अब इस मर्ज़ की दवा उनकी कोई न करेगा।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
41 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
~रेत की आत्मकथा ~
~रेत की आत्मकथा ~
Vijay kannauje
हाँ बहुत प्रेम करती हूँ तुम्हें
हाँ बहुत प्रेम करती हूँ तुम्हें
Saraswati Bajpai
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की   कोशिश मत करना
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की कोशिश मत करना
Anand.sharma
तुझे स्पर्श न कर पाई
तुझे स्पर्श न कर पाई
Dr fauzia Naseem shad
जो भी कहा है उसने.......
जो भी कहा है उसने.......
कवि दीपक बवेजा
जो गलत उसको गलत कहना पड़ेगा ।
जो गलत उसको गलत कहना पड़ेगा ।
Arvind trivedi
भारत माँ के वीर सपूत
भारत माँ के वीर सपूत
Kanchan Khanna
वक्त के हाथों मजबूर सभी होते है
वक्त के हाथों मजबूर सभी होते है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
"यादों के अवशेष"
Dr. Kishan tandon kranti
भुनेश्वर सिन्हा कांग्रेस के युवा नेता जिसने संघर्ष से बनाया अपना नाम जानिए?
भुनेश्वर सिन्हा कांग्रेस के युवा नेता जिसने संघर्ष से बनाया अपना नाम जानिए?
Jansamavad
अतीत का गौरव गान
अतीत का गौरव गान
Shekhar Chandra Mitra
नमन माँ गंग !पावन
नमन माँ गंग !पावन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
गुलाब-से नयन तुम्हारे
गुलाब-से नयन तुम्हारे
परमार प्रकाश
इश्क़ का दस्तूर
इश्क़ का दस्तूर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तेरे बग़ैर ये ज़िंदगी अब
तेरे बग़ैर ये ज़िंदगी अब
Aksharjeet Ingole
💐प्रेम कौतुक-297💐
💐प्रेम कौतुक-297💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरी माँ......
मेरी माँ......
Awadhesh Kumar Singh
सौंधी सौंधी महक मेरे मिट्टी की इस बदन में घुली है
सौंधी सौंधी महक मेरे मिट्टी की इस बदन में घुली है
'अशांत' शेखर
बहुत सहा है दर्द हमने।
बहुत सहा है दर्द हमने।
Taj Mohammad
मंगलमय कर दो प्रभो ,जटिल जगत की राह (कुंडलिया)
मंगलमय कर दो प्रभो ,जटिल जगत की राह (कुंडलिया)
Ravi Prakash
उसे देख खिल गयीं थीं कलियांँ
उसे देख खिल गयीं थीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
मैं मांझी सा जिद्दी हूं
मैं मांझी सा जिद्दी हूं
AMRESH KUMAR VERMA
बजट
बजट
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*कड़वाहट केवल ज़ुबान का स्वाद ही नहीं बिगाड़ती है..... यह आव
*कड़वाहट केवल ज़ुबान का स्वाद ही नहीं बिगाड़ती है..... यह आव
Seema Verma
तेरे बाद
तेरे बाद
Surinder blackpen
श्री श्री रवि शंकर जी
श्री श्री रवि शंकर जी
Satish Srijan
*चुन मुन पर अत्याचार*
*चुन मुन पर अत्याचार*
Nishant prakhar
■ काव्यमय उलाहना....
■ काव्यमय उलाहना....
*Author प्रणय प्रभात*
मेरा तितलियों से डरना
मेरा तितलियों से डरना
ruby kumari
सियासत हो
सियासत हो
Vishal babu (vishu)
Loading...