Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jan 2024 · 1 min read

*आम आदमी क्या कर लेगा, जब चाहे दुत्कारो (मुक्तक)*

आम आदमी क्या कर लेगा, जब चाहे दुत्कारो (मुक्तक)
_______________________
आम आदमी क्या कर लेगा, जब चाहे दुत्कारो
उसकी लाठी छीन उसी के, सिर पर चाहे मारो
आम आदमी कहॉं संगठित, बिखर-बिखर कर जीता
आम आदमी खाता चाबुक, कड़वा सच स्वीकारो
—————————-
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997 615 451

123 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
मेरी साँसों से अपनी साँसों को - अंदाज़े बयाँ
मेरी साँसों से अपनी साँसों को - अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जय शिव शंकर ।
जय शिव शंकर ।
Anil Mishra Prahari
*राम भक्ति नवधा बतलाते (कुछ चौपाइयॉं)*
*राम भक्ति नवधा बतलाते (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
कसरत करते जाओ
कसरत करते जाओ
Harish Chandra Pande
शीत लहर
शीत लहर
Madhu Shah
!! एक ख्याल !!
!! एक ख्याल !!
Swara Kumari arya
जिसकी जिससे है छनती,
जिसकी जिससे है छनती,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
सम्बन्ध (नील पदम् के दोहे)
सम्बन्ध (नील पदम् के दोहे)
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
2512.पूर्णिका
2512.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मूल्यों में आ रही गिरावट समाधान क्या है ?
मूल्यों में आ रही गिरावट समाधान क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
हंसकर मुझे तू कर विदा
हंसकर मुझे तू कर विदा
gurudeenverma198
स्त्री यानी
स्त्री यानी
पूर्वार्थ
क्या से क्या हो गया देखते देखते।
क्या से क्या हो गया देखते देखते।
सत्य कुमार प्रेमी
दलितों, वंचितों की मुक्ति का आह्वान करती हैं अजय यतीश की कविताएँ/ आनंद प्रवीण
दलितों, वंचितों की मुक्ति का आह्वान करती हैं अजय यतीश की कविताएँ/ आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
- दीवारों के कान -
- दीवारों के कान -
bharat gehlot
उसका प्यार
उसका प्यार
Dr MusafiR BaithA
14- वसुधैव कुटुम्ब की, गरिमा बढाइये
14- वसुधैव कुटुम्ब की, गरिमा बढाइये
Ajay Kumar Vimal
#पैरोडी-
#पैरोडी-
*प्रणय प्रभात*
मन का समंदर
मन का समंदर
Sûrëkhâ
आस्था और चुनौती
आस्था और चुनौती
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
महाकाल हैं
महाकाल हैं
Ramji Tiwari
तेरा-मेरा साथ, जीवनभर का ...
तेरा-मेरा साथ, जीवनभर का ...
Sunil Suman
अमृत महोत्सव आजादी का
अमृत महोत्सव आजादी का
लक्ष्मी सिंह
महबूब से कहीं ज़्यादा शराब ने साथ दिया,
महबूब से कहीं ज़्यादा शराब ने साथ दिया,
Shreedhar
जिंदगी भी एक लिखा पत्र हैं
जिंदगी भी एक लिखा पत्र हैं
Neeraj Agarwal
"अकेले रहना"
Dr. Kishan tandon kranti
वाह भाई वाह
वाह भाई वाह
Dr Mukesh 'Aseemit'
डार्क वेब और इसके संभावित खतरे
डार्क वेब और इसके संभावित खतरे
Shyam Sundar Subramanian
गुरु महाराज के श्री चरणों में, कोटि कोटि प्रणाम है
गुरु महाराज के श्री चरणों में, कोटि कोटि प्रणाम है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चिंतन करत मन भाग्य का
चिंतन करत मन भाग्य का
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
Loading...