Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jul 2023 · 1 min read

आभा पंखी से बढ़ी ,

आभा पंखी से बढ़ी ,
मुरली अधर लुभाय
निरखि प्रेममय राधिका,
मन ही मन हर्षाय

रश्मि लहर

2 Likes · 2 Comments · 163 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुस्कानों पर दिल भला,
मुस्कानों पर दिल भला,
sushil sarna
तू तो सब समझता है ऐ मेरे मौला
तू तो सब समझता है ऐ मेरे मौला
SHAMA PARVEEN
माँ कहने के बाद भला अब, किस समर्थ कुछ देने को,
माँ कहने के बाद भला अब, किस समर्थ कुछ देने को,
pravin sharma
🌸दे मुझे शक्ति🌸
🌸दे मुझे शक्ति🌸
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
मातु शारदे वंदना
मातु शारदे वंदना
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
■
■ "मान न मान, मैं तेरा मेहमान" की लीक पर चलने का सीधा सा मतल
*Author प्रणय प्रभात*
अभिनेता बनना है
अभिनेता बनना है
Jitendra kumar
मेरा नौकरी से निलंबन?
मेरा नौकरी से निलंबन?
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
2732. 🌷पूर्णिका🌷
2732. 🌷पूर्णिका🌷
Dr.Khedu Bharti
राधा की भक्ति
राधा की भक्ति
Dr. Upasana Pandey
"आँखें"
Dr. Kishan tandon kranti
शाम के ढलते
शाम के ढलते
manjula chauhan
*नौका में आता मजा, करिए मधुर-विहार(कुंडलिया)*
*नौका में आता मजा, करिए मधुर-विहार(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दिल का कोई
दिल का कोई
Dr fauzia Naseem shad
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
कोई पढ़ ले न चेहरे की शिकन
कोई पढ़ ले न चेहरे की शिकन
Shweta Soni
गीत - जीवन मेरा भार लगे - मात्रा भार -16x14
गीत - जीवन मेरा भार लगे - मात्रा भार -16x14
Mahendra Narayan
रिश्ते
रिश्ते
पूर्वार्थ
वक्त कि ये चाल अजब है,
वक्त कि ये चाल अजब है,
SPK Sachin Lodhi
खुशकिस्मत है कि तू उस परमात्मा की कृति है
खुशकिस्मत है कि तू उस परमात्मा की कृति है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
साथ
साथ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*नन्हीं सी गौरिया*
*नन्हीं सी गौरिया*
Shashi kala vyas
सन्यासी
सन्यासी
Neeraj Agarwal
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Don't bask in your success
Don't bask in your success
सिद्धार्थ गोरखपुरी
किसी की तारीफ़ करनी है तो..
किसी की तारीफ़ करनी है तो..
Brijpal Singh
*Keep Going*
*Keep Going*
Poonam Matia
कभी धूप तो कभी बदली नज़र आयी,
कभी धूप तो कभी बदली नज़र आयी,
Rajesh Kumar Arjun
जिस नारी ने जन्म दिया
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD CHAUHAN
भक्तिकाल
भक्तिकाल
Sanjay ' शून्य'
Loading...