Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Mar 2024 · 1 min read

आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो

आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो वो सुनना चाहते है।
– रविकेश झा

2 Likes · 127 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ आज की बात
■ आज की बात
*प्रणय प्रभात*
सम्मान से सम्मान
सम्मान से सम्मान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जीवन जितना
जीवन जितना
Dr fauzia Naseem shad
मुक्तक
मुक्तक
महेश चन्द्र त्रिपाठी
*वैज्ञानिक विद्वान सबल है, शक्तिपुंज वह नारी है (मुक्तक )*
*वैज्ञानिक विद्वान सबल है, शक्तिपुंज वह नारी है (मुक्तक )*
Ravi Prakash
वाह मेरा देश किधर जा रहा है!
वाह मेरा देश किधर जा रहा है!
कृष्ण मलिक अम्बाला
ना नींद है,ना चैन है,
ना नींद है,ना चैन है,
लक्ष्मी सिंह
Sometimes we feel like a colourless wall,
Sometimes we feel like a colourless wall,
Sakshi Tripathi
इश्क जितना गहरा है, उसका रंग उतना ही फीका है
इश्क जितना गहरा है, उसका रंग उतना ही फीका है
पूर्वार्थ
हार पर प्रहार कर
हार पर प्रहार कर
Saransh Singh 'Priyam'
**कुछ तो कहो**
**कुछ तो कहो**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
23/95.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/95.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"शायरा सँग होली"-हास्य रचना
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Line.....!
Line.....!
Vicky Purohit
गुरुर ज्यादा करोगे
गुरुर ज्यादा करोगे
Harminder Kaur
मत करना तू मुझ पर भरोसा
मत करना तू मुझ पर भरोसा
gurudeenverma198
लोकतंत्र का महापर्व
लोकतंत्र का महापर्व
नवीन जोशी 'नवल'
Not longing for prince who will give you taj after your death
Not longing for prince who will give you taj after your death
Ankita Patel
कवित्व प्रतिभा के आप क्यों ना धनी हों ,पर आप में यदि व्यावहा
कवित्व प्रतिभा के आप क्यों ना धनी हों ,पर आप में यदि व्यावहा
DrLakshman Jha Parimal
आप करते तो नखरे बहुत हैं
आप करते तो नखरे बहुत हैं
Dr Archana Gupta
पिताजी हमारे
पिताजी हमारे
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
भारत
भारत
Bodhisatva kastooriya
दिल से दिल गर नहीं मिलाया होली में।
दिल से दिल गर नहीं मिलाया होली में।
सत्य कुमार प्रेमी
उतर गए निगाह से वे लोग भी पुराने
उतर गए निगाह से वे लोग भी पुराने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सच तो सच ही रहता हैं।
सच तो सच ही रहता हैं।
Neeraj Agarwal
सर्वप्रथम पिया से रंग
सर्वप्रथम पिया से रंग
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"परिवर्तन के कारक"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
7) पूछ रहा है दिल
7) पूछ रहा है दिल
पूनम झा 'प्रथमा'
वक्त जब बदलता है
वक्त जब बदलता है
Surinder blackpen
Loading...