Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jul 2023 · 1 min read

आप प्रारब्ध वश आपको रावण और बाली जैसे पिता और बड़े भाई मिले

आप प्रारब्ध वश आपको रावण और बाली जैसे पिता और बड़े भाई मिले तो, आप तुरंत प्रभु राम को समर्पित हो जाय। उनकी कृपा से आपके जीवन में किसी न किसी रूप में हनुमान आते रहेंगे, यह सनातन विश्वास है।

1 Like · 198 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ऐसी दीपावली मनाएँ..….
ऐसी दीपावली मनाएँ..….
Kavita Chouhan
रिश्तो मे गलतफ़हमी
रिश्तो मे गलतफ़हमी
Anamika Singh
मूहूर्त
मूहूर्त
Neeraj Agarwal
"अहमियत"
Dr. Kishan tandon kranti
बोलते हैं जैसे सारी सृष्टि भगवान चलाते हैं ना वैसे एक पूरा प
बोलते हैं जैसे सारी सृष्टि भगवान चलाते हैं ना वैसे एक पूरा प
Vandna thakur
"गुमनाम जिन्दगी ”
Pushpraj Anant
भक्त गोरा कुम्हार
भक्त गोरा कुम्हार
Pravesh Shinde
इससे पहले कि ये जुलाई जाए
इससे पहले कि ये जुलाई जाए
Anil Mishra Prahari
वर्तमान, अतीत, भविष्य...!!!!
वर्तमान, अतीत, भविष्य...!!!!
Jyoti Khari
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
मेरी हर आरजू में,तेरी ही ज़ुस्तज़ु है
मेरी हर आरजू में,तेरी ही ज़ुस्तज़ु है
Pramila sultan
💐प्रेम कौतुक-180💐
💐प्रेम कौतुक-180💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वतन
वतन
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
बाबा केदारनाथ जी
बाबा केदारनाथ जी
Bodhisatva kastooriya
प्यार में
प्यार में
श्याम सिंह बिष्ट
फिर दिल मेरा बेचैन न हो,
फिर दिल मेरा बेचैन न हो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
* मोरे कान्हा *
* मोरे कान्हा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बिन शादी के रह कर, संत-फकीरा कहा सुखी हो पायें।
बिन शादी के रह कर, संत-फकीरा कहा सुखी हो पायें।
Anil chobisa
किस किस को वोट दूं।
किस किस को वोट दूं।
Dushyant Kumar
"तुम्हें राहें मुहब्बत की अदाओं से लुभाती हैं
आर.एस. 'प्रीतम'
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
होना चाहिए निष्पक्ष
होना चाहिए निष्पक्ष
gurudeenverma198
स्वाधीनता के घाम से।
स्वाधीनता के घाम से।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जलन इंसान को ऐसे खा जाती है
जलन इंसान को ऐसे खा जाती है
shabina. Naaz
फूल तो सारे जहां को अच्छा लगा
फूल तो सारे जहां को अच्छा लगा
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
रिमझिम बरसो
रिमझिम बरसो
surenderpal vaidya
*गंगा स्नान (घनाक्षरी)*
*गंगा स्नान (घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
A heart-broken Soul.
A heart-broken Soul.
Manisha Manjari
आज 31 दिसंबर 2023 साल का अंतिम दिन है।ढूंढ रहा हूं खुद को कि
आज 31 दिसंबर 2023 साल का अंतिम दिन है।ढूंढ रहा हूं खुद को कि
पूर्वार्थ
Writing Challenge- अति (Excess)
Writing Challenge- अति (Excess)
Sahityapedia
Loading...