Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Aug 2023 · 1 min read

आप और हम

आप और हम ही किरदार रहते हैं।
आज और कल हमें समाज कहते हैं।

झूठ फरेब और स्वार्थ हमारे अपने हैं।
सच आप और हम ही मन भावों रखते हैं।

जीवन की विडंबना सच हम जानते हैं।
आप और हम फिर भी अनजान रहते हैं।

हां अहम और वहम की जिंदगी जीते हैं।
आप और हम शायद अंतर्मन न जानते हैं।

आप और हम बस हवा-पानी पंचतत्व हैं।
सोचे समझे तब जीवन एक अवसर हैं।

आप और हम एक सांसों की सरगम हैं।
आओ हम सच सरगम को समझते हैं।

आप और हम कदम बढ़ा कर चलते हैं।
कुछ हम कुछ आप जिंदगी के सच पढ़ते हैं।

नीरज अग्रवाल चंदौसी उ.प्र

Language: Hindi
2 Likes · 97 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पड़ोसन की ‘मी टू’ (व्यंग्य कहानी)
पड़ोसन की ‘मी टू’ (व्यंग्य कहानी)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Just lost in a dilemma when the abscisic acid of negativity
Just lost in a dilemma when the abscisic acid of negativity
Sukoon
भूल गई
भूल गई
Pratibha Pandey
#संवाद (#नेपाली_लघुकथा)
#संवाद (#नेपाली_लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
2712.*पूर्णिका*
2712.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ख़्वाब आंखों में टूट जाते है
ख़्वाब आंखों में टूट जाते है
Dr fauzia Naseem shad
/// जीवन ///
/// जीवन ///
जगदीश लववंशी
जरूरत के हिसाब से सारे मानक बदल गए
जरूरत के हिसाब से सारे मानक बदल गए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
Ram Krishan Rastogi
जनैत छी हमर लिखबा सँ
जनैत छी हमर लिखबा सँ
DrLakshman Jha Parimal
कमज़ोर सा एक लम्हा
कमज़ोर सा एक लम्हा
Surinder blackpen
मां जब मैं तेरे गर्भ में था, तू मुझसे कितनी बातें करती थी...
मां जब मैं तेरे गर्भ में था, तू मुझसे कितनी बातें करती थी...
Anand Kumar
Kohre ki bunde chhat chuki hai,
Kohre ki bunde chhat chuki hai,
Sakshi Tripathi
सावन
सावन
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हिन्दू नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं।
हिन्दू नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं।
निशांत 'शीलराज'
रेत पर मकान बना ही नही
रेत पर मकान बना ही नही
कवि दीपक बवेजा
परदेसी की  याद  में, प्रीति निहारे द्वार ।
परदेसी की याद में, प्रीति निहारे द्वार ।
sushil sarna
मेरा बचपन
मेरा बचपन
Ankita Patel
यहां कोई बेरोजगार नहीं हर कोई अपना पक्ष मजबूत करने में लगा ह
यहां कोई बेरोजगार नहीं हर कोई अपना पक्ष मजबूत करने में लगा ह
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
नारी शक्ति का सम्मान🙏🙏
नारी शक्ति का सम्मान🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"Looking up at the stars, I know quite well
पूर्वार्थ
💐प्रेम कौतुक-413💐
💐प्रेम कौतुक-413💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*श्री सुंदरलाल जी ( लघु महाकाव्य)*
*श्री सुंदरलाल जी ( लघु महाकाव्य)*
Ravi Prakash
प्यार है ही नही ज़माने में
प्यार है ही नही ज़माने में
SHAMA PARVEEN
*मजदूर*
*मजदूर*
Shashi kala vyas
युवा शक्ति
युवा शक्ति
संजय कुमार संजू
गठबंधन INDIA
गठबंधन INDIA
Bodhisatva kastooriya
आज फिर उनकी याद आई है,
आज फिर उनकी याद आई है,
Yogini kajol Pathak
मुझे अपनी दुल्हन तुम्हें नहीं बनाना है
मुझे अपनी दुल्हन तुम्हें नहीं बनाना है
gurudeenverma198
हिंदी सबसे प्यारा है
हिंदी सबसे प्यारा है
शेख रहमत अली "बस्तवी"
Loading...