Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jul 2023 · 3 min read

आप और हम जीवन के सच…………….एक सोच

आप और हम जीवन के सच में……..
आज हम सभी प्यार प्रेम का नाम बस नज़दीकियां और जीवन में एक एहसास और जज़्बात के रिश्तों में एतबार के साथ समर्पण को शब्दों में सच्चाई के साथ कहते हैं परन्तु आज हम नारी के मन भाव को समझ नहीं पाते हैं बस हम अपने पुरुष समाज में 25% ही एक दूसरे को समझ पाते है और हम सभी समाज के साथ – साथ आज के समय में आधुनिक विचार और सोच का दिखावा तो करते है परन्तु बहुत सी बातों में हम आज भी लालची और दूसरे की भावनाओं को भूल जाते है
उदाहरणार्थ हम सब में किसी के लिए एक नारी का रिश्ता पुरुष की सहमति पर भी बना होता है बस आज आप और हम जीवन के सच में जीना सीखना है की जब बारात लेकर खास फेरों के समय दहेज की सोच बनती है अगर नारी के घरवाले लाचार होते है तब वह पुरुष जो बारात लेकर आता है उस समय वह चुप हो जाता है और नारी जो कुछ देर पहले मंडप में धर्मपत्नी बनाने जा रही थी।
अब दहेज रूपी दिमाग की सोच ने मानवता खत्म कर दी और हम नारी के परिवार पर दबाव और अपनी मांग बता देते है अगर हाँ तब पत्नी रुप स्त्री का बनेगा बंधन नहीं तो तब इज्ज़त और को जाना समझे सच आज आप सभी सोचे क्या?
ऐसा आधुनिक समाज में अब सही है बस हाँ हम सभी मानवता के संदेश उपदेशों को भूल जाते हैं और हम जीवन के सच में जिस नारी से परिवार बनाने की चाहत और प्रेम की जरूरत की चाहत लेकर आए थे। आज हम बस अपने स्वार्थ और कुछ धन के लालच में सच को हम भूला देते हैं और हम मानवता को चंद रूपए के लिए जीवन‌ रुपी मोह माया के साथ संबंध भूल जाते हैं और ऐसे ही हमारे तलाक के लिए हम सोचे जो नारी को हम पत्नी बनाकर लाए थे अब हम सभी प्रेम की शारीरिक नजदिकयाँ और एक दूसरे की चाहत केवल एक कागज के टुकड़े पर दस्खत करने से सब कुछ भूला देते हैं हम सभी सोचे समझे
जीवन‌ में संग साथ निभाने के साथ फेरे और वचन सब कहां गये हैं। आप और हम जीवन के सच में मन और भाव सब भूल जाते हैं सोचे जीवन और जिंदगी के साथ हम सभी मानवता के साथ जीवन जीते हैं तब हम ऐसा सोच भी नहीं सकते हैं।
बस हम सभी जीवन के सच में मन और भाव को स्वीकार करें और एक दूसरे के सहयोगी पूरक और जीवन खुशहाल बनाने के साथ साथ हम सभी को आज मे भी सोचना होगा। क्योंकि जीवन में नारी पुरुष एक दूसरे के पूरक हैं और सांसारिक परंपरा के संग साथ अनुसार जिंदगी में जो मनोभव से एक दूसरे के साथ जोड़ते हैं वही जीवन में जिंदगी का प्रेम और नजदीकियां ही खुशहाली की ओर हमसफ़र का साथ दूर तक ले जाती हैं और हम किसी के दिल में एक प्रेरणा और एक जीवन की राह बनकर संसारिक मानवता के साथ हम सभी अपने आप और हम जीवन के सच में मन की सोच बदले। क्योंकि जीवन में हम इंसान दूसरे इंसान की भावनाओं की कद्र करते है और इसी का नाम जिंदगी है क्योंकि ईश्वर ने हम सभी का एक दूसरे के सम्मान और भावनाओं के लिए मानव जीवन दिया है आप और हम जीवन के सच में आगे भी ऐसे ही जीवन के पहलुओं को छूने वाले अंदाज पढ़ते रहेंगे आओ हम सब मिलकर प्रेम को एक मनभाव की सोच और अटूट बंधन के साथ बनाते हैं……………

अलग अलग कहानियों के साथ आप और हम जीवन के सच में पढ़ते रहे।

Language: Hindi
177 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बे-ख़ुद
बे-ख़ुद
Shyam Sundar Subramanian
इससे ज़्यादा
इससे ज़्यादा
Dr fauzia Naseem shad
"हाशिये में पड़ी नारी"
Dr. Kishan tandon kranti
बदल देते हैं ये माहौल, पाकर चंद नोटों को,
बदल देते हैं ये माहौल, पाकर चंद नोटों को,
Jatashankar Prajapati
कविताश्री
कविताश्री
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
नंद के घर आयो लाल
नंद के घर आयो लाल
Kavita Chouhan
DR अरूण कुमार शास्त्री
DR अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
💐अज्ञात के प्रति-129💐
💐अज्ञात के प्रति-129💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
23/117.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/117.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हा मैं हारता नहीं, तो जीतता भी नहीं,
हा मैं हारता नहीं, तो जीतता भी नहीं,
Sandeep Mishra
#प्रथम_स्मृति_दिवस
#प्रथम_स्मृति_दिवस
*Author प्रणय प्रभात*
दिनकर/सूर्य
दिनकर/सूर्य
Vedha Singh
राम
राम
Sanjay ' शून्य'
शबे दर्द जाती नही।
शबे दर्द जाती नही।
Taj Mohammad
औलाद
औलाद
Surinder blackpen
क़िताबों से मुहब्बत कर तुझे ज़न्नत दिखा देंगी
क़िताबों से मुहब्बत कर तुझे ज़न्नत दिखा देंगी
आर.एस. 'प्रीतम'
खुद के व्यक्तिगत अस्तित्व को आर्थिक सामाजिक तौर पर मजबूत बना
खुद के व्यक्तिगत अस्तित्व को आर्थिक सामाजिक तौर पर मजबूत बना
पूर्वार्थ
हरा न पाये दौड़कर,
हरा न पाये दौड़कर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हां मैं पागल हूं दोस्तों
हां मैं पागल हूं दोस्तों
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
निरीह गौरया
निरीह गौरया
Dr.Pratibha Prakash
*सवा लाख से एक लड़ाऊं ता गोविंद सिंह नाम कहांउ*
*सवा लाख से एक लड़ाऊं ता गोविंद सिंह नाम कहांउ*
Harminder Kaur
Moti ki bhi ajib kahani se , jisne bnaya isko uska koi mole
Moti ki bhi ajib kahani se , jisne bnaya isko uska koi mole
Sakshi Tripathi
अधर्म का उत्पात
अधर्म का उत्पात
Dr. Harvinder Singh Bakshi
हुनर
हुनर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
श्री भूकन शरण आर्य
श्री भूकन शरण आर्य
Ravi Prakash
शाम सुहानी
शाम सुहानी
लक्ष्मी सिंह
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
Neerja Sharma
शब्दों मैं अपने रह जाऊंगा।
शब्दों मैं अपने रह जाऊंगा।
गुप्तरत्न
आया सखी बसंत...!
आया सखी बसंत...!
Neelam Sharma
Loading...