Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Dec 2022 · 3 min read

आपको कहीं देखा है ?(छोटी कहानी)

आपको कहीं देखा है ?(छोटी कहानी)
*****************************
पार्क में टहलते टहलते अचानक वे दोनों एक दूसरे को देखने लगे। कुछ – कुछ पहचानने की कोशिश कर रहे थे । उनमें से एक स्त्री थी , जिसकी आयु लगभग साठ वर्ष होगी तथा दूसरा पुरुष था जिसकी आयु लगभग सत्तर वर्ष की थी। दोनों में दस वर्ष का अंतर था लेकिन कहने की आवश्यकता नहीं कि दोनों ही बुढ़ापे की दहलीज पर कदम रख चुके थे । काफी देर तक वे दोनों एक दूसरे को देखते हुए कुछ सोचते रहे फिर कुछ समझ में जब नहीं आया तो आगे बढ़ गए।
कॉलोनी का यह बहुत खूबसूरत पार्क था जिसमें कॉलोनी के निवासी रोजाना सुबह को टहलने के लिए आते थे। यह स्त्री और पुरुष उसी कॉलोनी के नये-नये निवासी थे। दोनों रिटायर्ड व्यक्ति थे। स्त्री सरकारी नौकरी से अभी रिटायर हुई थी तथा पुरुष को रिटायर हुए दस वर्ष हो गए थे। दोनों का अपना भरा पूरा घर संसार था घर गृहस्थी थी। बेटे बहू थे। पोते पोती थे । खुशी खुशी दोनों का घर संसार चल रहा था।
अगले दिन फिर कॉलोनी के पार्क में वे दोनों एक दूसरे के आमने सामने आए। स्त्री की आंखों में अब विद्रोह का भाव था और पुरुष उस स्त्री को देख कर नजरें झुका रहा था ।
स्त्री ने कड़क आवाज में कहा-” आप वही हैं जो स्कूल के मोड़ पर मुझे मिलते थे ?”
पुरुष ने कुछ नहीं कहा ।चुपचाप सिर झुका दिया।
स्त्री बोली-” केवल मुझे ही नहीं आपने तो सैकड़ों लड़कियों को छेड़ा है। उनके दुपट्टे छीने हैं और इस प्रकार से उनसे दुर्व्यवहार किया है कि उनका घर से स्कूल जाना दूभर हो गया था। उस समय शर्म के मारे हम लोग किसी से आपकी शिकायत भी तो नहीं कर पाते थे। बस आपस मे सहेलियों के बीच में यह बात होती थी कि एक साथ इकट्ठा मिलकर चलो ! कहीं वह गुंडा मिल न जाए और हर बार वह गुंडा हमारे स्कूल के रास्ते पर खड़ा होता था ! ”
पुरुष सूखे गले से बोला -“मुझे माफ कर दो । अब यह पुरानी बातें हो गई । अब मैं बूढ़ा हो चुका हूं ।”
स्त्री बोली -“मेरी जिंदगी के चार पांच साल तुम्हारी दहशत की वजह से आतंक के साए में जैसे गुजरे हैं। बहुत बार सोचा कि पढ़ाई छोड़ दूं। कहीं तुम कोई हरकत ना कर बैठो। बहुत बार मन में आया कि मम्मी पापा से तुम्हारी शिकायत करूं, लेकिन मालूम था कि बात का बतंगड़ बनेगा और उल्टा मेरी ही पढ़ाई छुड़वा दी जाएगी। स्कूल में प्रिंसिपल के पास जाने का भी कई बार मन करता था लेकिन तुम्हारा क्या होता ! बदनामी तो मेरी ही होती ।आज तुम भले और इज्जत दार बन कर बैठ गए हो लेकिन तुम्हारी हरकतों को केवल मैं नहीं स्कूल की सारी लड़कियां अच्छी तरह जानती हैं। आज भी अगर स्कूल में पढ़ने वाली लड़कियों से कोई बात कर ले तो वह तुम्हारा चेहरा देखकर बता देंगी कि तुमने किस तरह से उनकी जिंदगी को नर्क बना दिया था।”
पुरुष थोड़ा सा गुस्से में आया ,बोला -” मैंने तुम्हारे साथ कोई बलात्कार थोड़ी कर लिया था ? ”
स्त्री ने आंखों में अंगारे भरकर कहा -“क्या केवल बलात्कार करना ही सब कुछ होता है ? स्त्री के शरीर को छूना, उसे घूरना, उसका दुपट्टा छीन लेना ,रास्ता रोक लेना, किसी ना किसी रूप में क्या यह सब स्त्री के मान सम्मान को ठेस पहुंचाने वाला कार्य नहीं है? क्या इसकी कोई सजा नहीं होनी चाहिए ?”
पुरुष का चेहरा पूरी तरह सफेद पड़ चुका था ।उसने कहा कुछ नहीं, लेकिन वह बदहवास हालत में पार्क से निकल कर अपने घर की तरफ भागा । स्त्री ने उसका पीछा किया और कहा-” तुम अब जब भी घर से बाहर निकलोगे, मैं तुम्हें तुम्हारा अतीत याद दिलाऊंगी । तुम्हारा जीना दूभर हो जाएगा और तुम कुछ नहीं कर सकोगे। ”
————————————————————
लेखक: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

Language: Hindi
133 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
तूं ऐसे बर्ताव करोगी यें आशा न थी
तूं ऐसे बर्ताव करोगी यें आशा न थी
Keshav kishor Kumar
कौन कहता है कि लहजा कुछ नहीं होता...
कौन कहता है कि लहजा कुछ नहीं होता...
कवि दीपक बवेजा
गणतंत्र का जश्न
गणतंत्र का जश्न
Kanchan Khanna
मेरी माँ......
मेरी माँ......
Awadhesh Kumar Singh
दोहा- सरस्वती
दोहा- सरस्वती
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कविता ही तो परंम सत्य से, रूबरू हमें कराती है
कविता ही तो परंम सत्य से, रूबरू हमें कराती है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
अन्नदाता
अन्नदाता
Akash Yadav
जो ये समझते हैं कि, बेटियां बोझ है कन्धे का
जो ये समझते हैं कि, बेटियां बोझ है कन्धे का
Sandeep Kumar
भ्रम नेता का
भ्रम नेता का
Sanjay ' शून्य'
वो लम्हें जो हर पल में, तुम्हें मुझसे चुराते हैं।
वो लम्हें जो हर पल में, तुम्हें मुझसे चुराते हैं।
Manisha Manjari
23/17.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/17.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
पहले दिन स्कूल (बाल कविता)
पहले दिन स्कूल (बाल कविता)
Ravi Prakash
ऊँचाई .....
ऊँचाई .....
sushil sarna
महोब्बत की बस इतनी सी कहानी है
महोब्बत की बस इतनी सी कहानी है
शेखर सिंह
हो गई जब खत्म अपनी जिंदगी की दास्तां..
हो गई जब खत्म अपनी जिंदगी की दास्तां..
Vishal babu (vishu)
DR अरूण कुमार शास्त्री
DR अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वर्तमान सरकारों ने पुरातन ,
वर्तमान सरकारों ने पुरातन ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
"आग और पानी"
Dr. Kishan tandon kranti
जिदंगी भी साथ छोड़ देती हैं,
जिदंगी भी साथ छोड़ देती हैं,
Umender kumar
पापा के वह शब्द..
पापा के वह शब्द..
Harminder Kaur
You never know when the prolixity of destiny can twirl your
You never know when the prolixity of destiny can twirl your
Sukoon
हाय हाय रे कमीशन
हाय हाय रे कमीशन
gurudeenverma198
मैंने  देखा  ख्वाब में  दूर  से  एक  चांद  निकलता  हुआ
मैंने देखा ख्वाब में दूर से एक चांद निकलता हुआ
shabina. Naaz
सुना है सपने सच होते हैं।
सुना है सपने सच होते हैं।
Shyam Pandey
शिव अविनाशी, शिव संयासी , शिव ही हैं शमशान निवासी।
शिव अविनाशी, शिव संयासी , शिव ही हैं शमशान निवासी।
Gouri tiwari
हमें तो देखो उस अंधेरी रात का भी इंतजार होता है
हमें तो देखो उस अंधेरी रात का भी इंतजार होता है
VINOD CHAUHAN
मां का प्यार पाने प्रभु धरा पर आते है♥️
मां का प्यार पाने प्रभु धरा पर आते है♥️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ज़िंदगी
ज़िंदगी
नन्दलाल सुथार "राही"
इंसान जीवन क़ो अच्छी तरह जीने के लिए पूरी उम्र मेहनत में गुजा
इंसान जीवन क़ो अच्छी तरह जीने के लिए पूरी उम्र मेहनत में गुजा
अभिनव अदम्य
Loading...