Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2017 · 1 min read

आपकी ही मनहरण

आप की ही जय होगी, आप की विजय होगी,
आप ही का देश है ये, हम तो गुलाम है।।

आप जो कहोगे वही , होगा यहां पर सही,
आप ही के हाथ में तो, देश की लगाम है।।

बड़े जोरजोर से ही, शोर जोरशोर करो,
करो नाम वाले का ही, नाम बदनाम है।।

झूठ का प्रचार कर, झूठा कारोबार कर,
झूठ की ही नींव पर, आपका मुकाम है।।

Language: Hindi
279 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जुगनू
जुगनू
Gurdeep Saggu
हमें याद है ९ बजे रात के बाद एस .टी .डी. बूथ का मंजर ! लम्बी
हमें याद है ९ बजे रात के बाद एस .टी .डी. बूथ का मंजर ! लम्बी
DrLakshman Jha Parimal
खुशी पाने की जद्दोजहद
खुशी पाने की जद्दोजहद
डॉ० रोहित कौशिक
मृतशेष
मृतशेष
AJAY AMITABH SUMAN
प्यार में ही तकरार होती हैं।
प्यार में ही तकरार होती हैं।
Neeraj Agarwal
*
*"मर्यादा पुरूषोत्तम श्री राम"*
Shashi kala vyas
ग़ज़ल/नज़्म - इश्क के रणक्षेत्र में बस उतरे वो ही वीर
ग़ज़ल/नज़्म - इश्क के रणक्षेत्र में बस उतरे वो ही वीर
अनिल कुमार
//सुविचार//
//सुविचार//
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
किसी को उदास पाकर
किसी को उदास पाकर
Shekhar Chandra Mitra
सृजन के जन्मदिन पर
सृजन के जन्मदिन पर
Satish Srijan
जब तुम्हारे भीतर सुख के लिए जगह नही होती है तो
जब तुम्हारे भीतर सुख के लिए जगह नही होती है तो
Aarti sirsat
यूं ही कह दिया
यूं ही कह दिया
Koमल कुmari
बाबूजी
बाबूजी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मौन तपधारी तपाधिन सा लगता है।
मौन तपधारी तपाधिन सा लगता है।
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
तेरा फिक्र
तेरा फिक्र
Basant Bhagawan Roy
पढ़ाकू
पढ़ाकू
Dr. Mulla Adam Ali
दरवाज़ों पे खाली तख्तियां अच्छी नहीं लगती,
दरवाज़ों पे खाली तख्तियां अच्छी नहीं लगती,
पूर्वार्थ
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
स्वार्थवश या आपदा में
स्वार्थवश या आपदा में
*प्रणय प्रभात*
आज नए रंगों से तूने घर अपना सजाया है।
आज नए रंगों से तूने घर अपना सजाया है।
Manisha Manjari
मन की गति
मन की गति
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन को सफल बनाने का तीन सूत्र : श्रम, लगन और त्याग ।
जीवन को सफल बनाने का तीन सूत्र : श्रम, लगन और त्याग ।
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
अपने कदमों को बढ़ाती हूँ तो जल जाती हूँ
अपने कदमों को बढ़ाती हूँ तो जल जाती हूँ
SHAMA PARVEEN
मुझे तो मेरी फितरत पे नाज है
मुझे तो मेरी फितरत पे नाज है
नेताम आर सी
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
चाह और आह!
चाह और आह!
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
प्यारा हिन्दुस्तान
प्यारा हिन्दुस्तान
Dinesh Kumar Gangwar
मनुष्य और प्रकृति
मनुष्य और प्रकृति
Sanjay ' शून्य'
‘’The rain drop from the sky: If it is caught in hands, it i
‘’The rain drop from the sky: If it is caught in hands, it i
Vivek Mishra
कया बताएं 'गालिब'
कया बताएं 'गालिब'
Mr.Aksharjeet
Loading...