Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

आपकी ही मनहरण

आप की ही जय होगी, आप की विजय होगी,
आप ही का देश है ये, हम तो गुलाम है।।

आप जो कहोगे वही , होगा यहां पर सही,
आप ही के हाथ में तो, देश की लगाम है।।

बड़े जोरजोर से ही, शोर जोरशोर करो,
करो नाम वाले का ही, नाम बदनाम है।।

झूठ का प्रचार कर, झूठा कारोबार कर,
झूठ की ही नींव पर, आपका मुकाम है।।

139 Views
You may also like:
भारत के इतिहास में मुरादाबाद का स्थान
Ravi Prakash
सुधारने का वक्त
AMRESH KUMAR VERMA
आओ अब यशोदा के नन्द
शेख़ जाफ़र खान
दिये मुहब्बत के...
अरशद रसूल /Arshad Rasool
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग४]
Anamika Singh
युद्ध हमेशा टाला जाए
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पिता हैं नाथ.....
Dr. Alpa H. Amin
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
"अशांत" शेखर
बहंगी लचकत जाय
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
आत्महत्या क्यों ?
Anamika Singh
मकड़जाल
Vikas Sharma'Shivaaya'
बदला
शिव प्रताप लोधी
पंडित मदन मोहन व्यास की कुंडलियों में हास्य का पुट
Ravi Prakash
दौर-ए-सफर
DESH RAJ
जीवन
vikash Kumar Nidan
रिश्तों की बदलती परिभाषा
Anamika Singh
रोमांस है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
शायरी संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
त्रिशरण गीत
Buddha Prakash
रामायण आ रामचरित मानस मे मतभिन्नता -खीर वितरण
Rama nand mandal
पिता
Mamta Rani
कला के बिना जीवन सुना ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
🌻🌻🌸"इतना क्यों बहका रहे हो,अपने अन्दाज पर"🌻🌻🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ज़िन्दगी की धूप...
Dr. Alpa H. Amin
नवगीत
Mahendra Narayan
'तुम भी ना'
Rashmi Sanjay
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
डॉक्टर की दवाई
Buddha Prakash
एक दुखियारी माँ
DESH RAJ
संविधान निर्माता को मेरा नमन
Surabhi bharati
Loading...