Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jul 2023 · 1 min read

आने घर से हार गया

जीता जग सारा मैंने
अपने घर से हार गया
रोकर एक पिता यूं बोला
चंदा से सूरज हार गया।।

शब्द, शब्द से शब्द बड़े
शब्द, शांत नि:शब्द खड़े
नेह-प्यार के शब्दकोश में
निष्ठुर-निर्लज शब्द मिले।।

अपनों की इस व्याकरण में
शब्द-शब्द का अपना मोल
हर शब्द की अपनी मर्यादा
वरना यह तो धरती गोल

शुचिता शाश्वत शब्दों की
अनुशासन से ही घर बना
मर्यादा और मान-नेह से
सपनों का संसार बना।।

होती नहीं प्रेम की भाषा
कैसा घर शिवालय कैसा
पत्नी, पिता, पुत्र-पुत्री से
प्रतिष्ठित ये देवालय कैसा।।

-सूर्यकांत

Language: Hindi
1 Like · 126 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
किस्सा मशहूर है जमाने में मेरा
किस्सा मशहूर है जमाने में मेरा
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
'खामोश बहती धाराएं'
'खामोश बहती धाराएं'
Dr MusafiR BaithA
संविधान को अपना नाम देने से ज्यादा महान तो उसको बनाने वाले थ
संविधान को अपना नाम देने से ज्यादा महान तो उसको बनाने वाले थ
SPK Sachin Lodhi
क्या कहुं ऐ दोस्त, तुम प्रोब्लम में हो, या तुम्हारी जिंदगी
क्या कहुं ऐ दोस्त, तुम प्रोब्लम में हो, या तुम्हारी जिंदगी
लक्की सिंह चौहान
आगे क्या !!!
आगे क्या !!!
Dr. Mahesh Kumawat
जिंदगी
जिंदगी
Bodhisatva kastooriya
मुझे तुम मिल जाओगी इतना विश्वास था
मुझे तुम मिल जाओगी इतना विश्वास था
Keshav kishor Kumar
चलो अब बुद्ध धाम दिखाए ।
चलो अब बुद्ध धाम दिखाए ।
Buddha Prakash
गिरने से जो डरते नहीं.. और उठकर जो बहकते नहीं। वो ही..
गिरने से जो डरते नहीं.. और उठकर जो बहकते नहीं। वो ही.. "जीवन
पूर्वार्थ
*नौकरपेशा लोग रिटायर, होकर मस्ती करते हैं (हिंदी गजल)*
*नौकरपेशा लोग रिटायर, होकर मस्ती करते हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मायके से दुआ लीजिए
मायके से दुआ लीजिए
Harminder Kaur
* हासिल होती जीत *
* हासिल होती जीत *
surenderpal vaidya
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
इसी से सद्आत्मिक -आनंदमय आकर्ष हूँ
इसी से सद्आत्मिक -आनंदमय आकर्ष हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नींद और ख्वाब
नींद और ख्वाब
Surinder blackpen
Pain of separation
Pain of separation
Bidyadhar Mantry
बातें कल भी होती थी, बातें आज भी होती हैं।
बातें कल भी होती थी, बातें आज भी होती हैं।
ओसमणी साहू 'ओश'
ख़ुद को मुर्दा शुमार मत करना
ख़ुद को मुर्दा शुमार मत करना
Dr fauzia Naseem shad
अपना-अपना भाग्य
अपना-अपना भाग्य
Indu Singh
23/200. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/200. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
किस क़दर
किस क़दर
हिमांशु Kulshrestha
"जिन्दाबाद"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रतीक्षा अहिल्या की.......
प्रतीक्षा अहिल्या की.......
पं अंजू पांडेय अश्रु
सृजन
सृजन
Rekha Drolia
खुद ही परेशान हूँ मैं, अपने हाल-ऐ-मज़बूरी से
खुद ही परेशान हूँ मैं, अपने हाल-ऐ-मज़बूरी से
डी. के. निवातिया
नर को न कभी कार्य बिना
नर को न कभी कार्य बिना
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मिट गई गर फितरत मेरी, जीवन को तरस जाओगे।
मिट गई गर फितरत मेरी, जीवन को तरस जाओगे।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बस मुझे महसूस करे
बस मुझे महसूस करे
Pratibha Pandey
"आज की रात "
Pushpraj Anant
*मनुष्य जब मरता है तब उसका कमाया हुआ धन घर में ही रह जाता है
*मनुष्य जब मरता है तब उसका कमाया हुआ धन घर में ही रह जाता है
Shashi kala vyas
Loading...