Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 May 2024 · 1 min read

आधुनिक टंट्या कहूं या आधुनिक बिरसा कहूं,

क्रांतिकारी युवा महेंद्र सिंह कन्नौज को समर्पित:

आधुनिक टंट्या कहूं या आधुनिक बिरसा कहूं, तुझे कम पड़ेगा। मुझे विश्वास है मेरे भाई, तु मरते दम तक आदिवासी समाज के लिए लड़ेगा।।

तेरे बेतहासा जुनून से आंधियां अपना रास्ता मोड़ लेती है,
मध्यप्रदेश की नदियां तेरे साहस पर कल-कल के गीत जोड़ लेती है।

बवंडर साथ चलते है, तूफान तुझसे मिलने को तरसते हैं।
तेरे दिल में आदिवासी समाज के गरीबों के दर्द बसते है,

तेरी आवाज बब्बरशेर की दहाड़ है, बाहुबली तू अकेला खड़ा हो जाए तो मजबूत चट्टान व पूरा पहाड़ है।।

एक बात मुझे बेहद सच्ची लगती है, मां प्रकृति की कसम तेरी हर मुस्कुराहट मुझे अच्छी लगती है। सुनो! एक बात और दिल में घर करती है, तेरी हर “कुर्रराटी” मुझे अच्छी लगती है।।

आदिवासी समाज का इतिहास जब जब लिखा जाएगा, क्रांतिसूर्य धरती आबा भगवान बिरसा, महाविद्रोही राष्ट्रपिता टंटया भील के साथ आपको भी स्वर्ण अक्षरों में पढ़ा जाएगा ।।

जब किसी मां बहन बेटी पर अत्याचार होता है, पुरा समाज खून के आंसू रोता है।

ऐसी हालत में आप बेबाक फाचरा फाड़ आवाज बुलंद करते हैं, प्रशासन में बैठे लोग आपके नाम से डरते हैं।।

प्रकृति पुत्र महेन्द्र भाई कन्नौज आप तो आप हो, आपका रुबाब क्या। आप तो लाजवाब है आपका जवाब क्या।।

आधुनिक टंट्या कहूं या आधुनिक बिरसा कहूं, तुझे कम पड़ेगा। मुझे विश्वास है, तु मरते दम तक आदिवासी समाज के लिए लड़ेगा।

:राकेश देवड़े बिरसावादी

Language: Hindi
1 Like · 32 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#मुझे_गर्व_है
#मुझे_गर्व_है
*प्रणय प्रभात*
शेर
शेर
Monika Verma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
मैं बड़ा ही खुशनसीब हूं,
मैं बड़ा ही खुशनसीब हूं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
उड़ रहा खग पंख फैलाए गगन में।
उड़ रहा खग पंख फैलाए गगन में।
surenderpal vaidya
2531.पूर्णिका
2531.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
महसूस करो दिल से
महसूस करो दिल से
Dr fauzia Naseem shad
" कुछ काम करो "
DrLakshman Jha Parimal
नौका को सिन्धु में उतारो
नौका को सिन्धु में उतारो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Noone cares about your feelings...
Noone cares about your feelings...
Suryash Gupta
तुम शायद मेरे नहीं
तुम शायद मेरे नहीं
Rashmi Ranjan
ज़िंदगी की दौड़
ज़िंदगी की दौड़
Dr. Rajeev Jain
जो गुजर गया
जो गुजर गया
ruby kumari
*.....मै भी उड़ना चाहती.....*
*.....मै भी उड़ना चाहती.....*
Naushaba Suriya
उसकी सौंपी हुई हर निशानी याद है,
उसकी सौंपी हुई हर निशानी याद है,
Vishal babu (vishu)
मुझे लगता था —
मुझे लगता था —
SURYA PRAKASH SHARMA
उसका प्यार
उसका प्यार
Dr MusafiR BaithA
कहां से लाऊं शब्द वो
कहां से लाऊं शब्द वो
Seema gupta,Alwar
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
Ram Krishan Rastogi
माँ
माँ
Dinesh Kumar Gangwar
लागे न जियरा अब मोरा इस गाँव में।
लागे न जियरा अब मोरा इस गाँव में।
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
आकाश
आकाश
Dr. Kishan tandon kranti
*रोते बूढ़े कर रहे, यौवन के दिन याद ( कुंडलिया )*
*रोते बूढ़े कर रहे, यौवन के दिन याद ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
आकाश से आगे
आकाश से आगे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
दोहा
दोहा
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
भावनाओं की किसे पड़ी है
भावनाओं की किसे पड़ी है
Vaishaligoel
लम्हें हसीन हो जाए जिनसे
लम्हें हसीन हो जाए जिनसे
शिव प्रताप लोधी
दस रुपए की कीमत तुम क्या जानोगे
दस रुपए की कीमत तुम क्या जानोगे
Shweta Soni
किसने क्या खूबसूरत लिखा है
किसने क्या खूबसूरत लिखा है
शेखर सिंह
Loading...