Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jun 2023 · 1 min read

आदिपुरुष समीक्षा

आदिपुरुष समीक्षा

सनातन हैं धर्म मेरा
सनातनी हैं गुण मेरा
ज़ो हमको भड़काओगे
फिर कहाँ बचकर जाओगे
यहाँ हर घर में नर में राम ,
नारी में सीता माता हैं ।
आदिपुरुष में कथा पलट दी क्या
तुमको यही भाता हैं
आदिपुरुष देख बच्चे क्या इतिहास बतायेंगे ,
क्या हमारे धर्मग्रन्थ हंसी के पात्र बन जाएँगे ।
वक़्त अभी हैं संभल जाओ,
जनता अब निरीह नहीं,
तू तड़ाक की भाषा देवों के लिए क्या है सही ,
आधुनिकतावाद की चाह ने सब कुछ बदल दिया,
घर से मकान, गाँव हुए वीरान,
मेट्रो , प्लाजा, इमारतें ऊँची ।
इतना सब कुछ हो गया, पर ये ना होने पाएगा ,
देवताओं को आधुनिकता में रंगने से चारों और पतन हो जाएगा ,
सीता देवी माता रूप में ही सुहाए
फैशन की प्रतिमूर्ति नहीं चाहिए
श्रीराम हमारे आदर्श हैं
मर्यादा उनकी उत्तम, पुरुषों में है वो पुरुषोत्तम ।
संस्कारों से ना छेड़छाड़ करो, टिकने नहीं पाओगे ,
इस भारत में तुम कैसे मुँह दिखाओगे ,
पूजनीय देव हैं हमारे,हसीं की कोई बात नहीं,
पूरा चलचित्र ही बना दिया कार्टून इससे शर्मसार कोई और घटना नहीं ।

डॉ अर्चना मिश्रा

Tag: Poem
1 Like · 104 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*कमाल की बातें*
*कमाल की बातें*
आकांक्षा राय
असतो मा सद्गमय
असतो मा सद्गमय
Kanchan Khanna
कोई गुरबत
कोई गुरबत
Dr fauzia Naseem shad
माज़ी में जनाब ग़ालिब नज़र आएगा
माज़ी में जनाब ग़ालिब नज़र आएगा
Atul "Krishn"
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
उसकी बेहिसाब नेमतों का कोई हिसाब नहीं
उसकी बेहिसाब नेमतों का कोई हिसाब नहीं
shabina. Naaz
कुछ लोग जाहिर नहीं करते
कुछ लोग जाहिर नहीं करते
शेखर सिंह
*
*"मजदूर की दो जून रोटी"*
Shashi kala vyas
यह तो हम है जो कि, तारीफ तुम्हारी करते हैं
यह तो हम है जो कि, तारीफ तुम्हारी करते हैं
gurudeenverma198
"खत"
Dr. Kishan tandon kranti
*आइसक्रीम (बाल कविता)*
*आइसक्रीम (बाल कविता)*
Ravi Prakash
आईना देख
आईना देख
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
मैं बेटी हूँ
मैं बेटी हूँ
लक्ष्मी सिंह
* वेदना का अभिलेखन : आपदा या अवसर *
* वेदना का अभिलेखन : आपदा या अवसर *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़़ज़ल
ग़़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
मंजिल तक पहुँचने के लिए
मंजिल तक पहुँचने के लिए
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
हम कितने आँसू पीते हैं।
हम कितने आँसू पीते हैं।
Anil Mishra Prahari
दिवाकर उग गया देखो,नवल आकाश है हिंदी।
दिवाकर उग गया देखो,नवल आकाश है हिंदी।
Neelam Sharma
दोस्ती
दोस्ती
Mukesh Kumar Sonkar
ছায়া যুদ্ধ
ছায়া যুদ্ধ
Otteri Selvakumar
मुक्तक
मुक्तक
गुमनाम 'बाबा'
2401.पूर्णिका
2401.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कोई चोर है...
कोई चोर है...
Srishty Bansal
तुम कहते हो की हर मर्द को अपनी पसंद की औरत को खोना ही पड़ता है चाहे तीनों लोक के कृष्ण ही क्यों ना हो
तुम कहते हो की हर मर्द को अपनी पसंद की औरत को खोना ही पड़ता है चाहे तीनों लोक के कृष्ण ही क्यों ना हो
$úDhÁ MãÚ₹Yá
आगे हमेशा बढ़ें हम
आगे हमेशा बढ़ें हम
surenderpal vaidya
मत छेड़ हमें देशभक्ति में हम डूबे है।
मत छेड़ हमें देशभक्ति में हम डूबे है।
Rj Anand Prajapati
सोने की चिड़िया
सोने की चिड़िया
Bodhisatva kastooriya
चला गया
चला गया
Mahendra Narayan
हिम्मत मत हारो, नए सिरे से फिर यात्रा शुरू करो, कामयाबी ज़रूर
हिम्मत मत हारो, नए सिरे से फिर यात्रा शुरू करो, कामयाबी ज़रूर
Nitesh Shah
My Precious Gems
My Precious Gems
Natasha Stephen
Loading...