Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 28, 2022 · 2 min read

आदर्श पिता

पिता का अर्थ हीं होता है पता होना, अर्थात अपने पुत्र की हर गतिविधि भावना व विचार का पता होना ।
एक आदर्श पिता अपने पुत्र के हित के लिए अपना सर्वस्व न्यौछावर कर देता है।
पिता के महत्व और पुत्र कल्याण का परिदृश्य हमें रामायण काल में सर्वोत्कृष्ट दिखता है।
राजा दशरथ में आदर्श पिता को देख सकते हैं।
जिन्होंने पुत्र हित में अपना प्राण त्याग दिया।
राजा दशरथ को राम की मनोभावना व विचार के बारे में स्पष्ट पता था कि राम किस मन:पीड़ा से पीड़ित हैं।
वे जानते थे कि मेरे वचन न पूर्ण करने पर राम अपने आप को कभी माफ नहीं कर पाएगा। अंतः पीड़ा से राम हमेशा व्यथित रहेंगे ,और ये पुत्र हित के लिए अच्छा नहीं है।
राजा दशरथ ये जानते हुए की राम के वन जाते ही हमारे प्राण निकल जायेंगे।
पर पुत्र जिस अवस्था में खुश रहना चाहता है वे उसके मार्ग में अवरोधक नही बनेंगे।
इस प्रकार राम के वन जाते हीं राजा दशरथ के प्राण निकल जाता है।
ये प्राण राम के मोह में नही निकलता बल्कि पुत्र हित निमित निकलता है।
क्योंकि पिता को पता था की राम को(पुत्र को)वन भेज के हम राजसुख नही पा सकते । यू हीं व्यथित रहूंगा
और मेरे व्यथित रहने से राम वन में भी व्यथित रहेगा
इस प्रकार मेरी पीड़ा से वो पीड़ित रहेगा
और जिस पीड़ा को दूर करने के लिए उसने सर्वस्व
त्याग किया उसी को पुनःपीड़ा देना पिता धर्म के विरुद्ध होगा। और पुत्र के लोककल्याण में बाधक होगा।राजा दशरथ एक पिता अपना प्राण त्याग कर अपने पुत्र की व्यथा को कम करने के साथ साथ अपने पुत्र को वन भेजने के लांछन से मुक्त हुए।

साहिल
कुदरा,सासाराम ।

14 Likes · 11 Comments · 256 Views
You may also like:
गंगा से है प्रेमभाव गर
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️हम वतनपरस्त जागते रहे..✍️
'अशांत' शेखर
एहसासात
Shyam Sundar Subramanian
साँझ
Alok Saxena
उपदेश से तृप्त किया ।
Buddha Prakash
अरि ने अरि को
bhavishaya6t
ख्वाहिश है।
Taj Mohammad
ज़मीं पे रहे या फलक पे उड़े हम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
खुदा चाहे तो।
Taj Mohammad
श्रंगार के वियोगी कवि श्री मुन्नू लाल शर्मा और उनकी...
Ravi Prakash
ज़िंदगी इम्तिहान लेती रही
Dr fauzia Naseem shad
*#सिरफिरा (#लघुकथा)*
Ravi Prakash
ताला-चाबी
Buddha Prakash
आकाश
AMRESH KUMAR VERMA
हर लम्हा कमी तेरी
Dr fauzia Naseem shad
देश के हित मयकशी करना जरूरी है।
सत्य कुमार प्रेमी
" छुपी प्रतिभा "
DrLakshman Jha Parimal
सोचा था जिसको मैंने
Dr fauzia Naseem shad
दर्द
Anamika Singh
*श्री विष्णु शरण अग्रवाल सर्राफ द्वारा ध्यान का आयोजन*
Ravi Prakash
लागेला धान आई ना घरे
आकाश महेशपुरी
ज़िन्दा रहना है तो जीवन के लिए लड़
Shivkumar Bilagrami
ये मोहब्बत राज ना रहती है।
Taj Mohammad
लाख सितारे ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
✍️ज़ख्मो का स्वाद✍️
'अशांत' शेखर
अक्सर सोचतीं हुँ.........
Palak Shreya
भाइयों के बीच प्रेम, प्रतिस्पर्धा और औपचारिकताऐं
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ये चिड़िया
Anamika Singh
राम भरोसे (हास्य व्यंग कविता )
ओनिका सेतिया 'अनु '
Freedom
Aditya Prakash
Loading...