Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jun 2016 · 1 min read

आदमी अमीर हूँ

आदमी अमीर हूँ
खो चुका ज़मीर हूँ

जो न खुल के रो सकी
वो जिगर की पीर हूँ

जख़्म के जहान की
दर्द की नज़ीर हूँ

जाने किस हसीन की
ज़ुल्फ़ का असीर हूँ

सल्तनत लुटा चुका
प्यार में फ़कीर हूँ

सरहदों के नाम पर
खिंच रही लकीर हूँ

कह रहा खरी खरी
सिरफिरा कबीर हूँ

राकेश दुबे “गुलशन”
10/06/2016
बरेली

1 Comment · 287 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं रूठ जाता हूँ खुद से, उससे, सबसे
मैं रूठ जाता हूँ खुद से, उससे, सबसे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जब तक नहीं है पास,
जब तक नहीं है पास,
Satish Srijan
#अग्रिम_शुभकामनाएँ
#अग्रिम_शुभकामनाएँ
*Author प्रणय प्रभात*
बहुत
बहुत
sushil sarna
कैसा होगा कंटेंट सिनेमा के दौर में मसाला फिल्मों का भविष्य?
कैसा होगा कंटेंट सिनेमा के दौर में मसाला फिल्मों का भविष्य?
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
तुम किसी झील का मीठा पानी..(✍️kailash singh)
तुम किसी झील का मीठा पानी..(✍️kailash singh)
Kailash singh
एक लेख...…..बेटी के साथ
एक लेख...…..बेटी के साथ
Neeraj Agarwal
*पद का मद सबसे बड़ा, खुद को जाता भूल* (कुंडलिया)
*पद का मद सबसे बड़ा, खुद को जाता भूल* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
गरीबी की उन दिनों में ,
गरीबी की उन दिनों में ,
Yogendra Chaturwedi
चेहरा
चेहरा
नन्दलाल सुथार "राही"
दवा दारू में उनने, जमकर भ्रष्टाचार किया
दवा दारू में उनने, जमकर भ्रष्टाचार किया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मुहब्बत
मुहब्बत
बादल & बारिश
एक generation अपने वक्त और हालात के अनुभव
एक generation अपने वक्त और हालात के अनुभव
पूर्वार्थ
जब हम छोटे से बच्चे थे।
जब हम छोटे से बच्चे थे।
लक्ष्मी सिंह
गणेश चतुर्थी के शुभ पावन अवसर पर सभी को हार्दिक मंगल कामनाओं के साथ...
गणेश चतुर्थी के शुभ पावन अवसर पर सभी को हार्दिक मंगल कामनाओं के साथ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
हिंदी दिवस पर राष्ट्राभिनंदन
हिंदी दिवस पर राष्ट्राभिनंदन
Seema gupta,Alwar
चुनावी वादा
चुनावी वादा
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
हिंदीग़ज़ल में होता है ऐसा ! +रमेशराज
हिंदीग़ज़ल में होता है ऐसा ! +रमेशराज
कवि रमेशराज
सिंदूरी भावों के दीप
सिंदूरी भावों के दीप
Rashmi Sanjay
अवधी स्वागत गीत
अवधी स्वागत गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
सांझा चूल्हा4
सांझा चूल्हा4
umesh mehra
कितनी सहमी सी
कितनी सहमी सी
Dr fauzia Naseem shad
मेरी खूबसूरती बदन के ऊपर नहीं,
मेरी खूबसूरती बदन के ऊपर नहीं,
ओसमणी साहू 'ओश'
समझौता
समझौता
Sangeeta Beniwal
दिल कि आवाज
दिल कि आवाज
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
उसने
उसने
Ranjana Verma
हिंदी - दिवस
हिंदी - दिवस
Ramswaroop Dinkar
गमों ने जिन्दगी को जीना सिखा दिया है।
गमों ने जिन्दगी को जीना सिखा दिया है।
Taj Mohammad
मजदूर
मजदूर
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
आज का श्रवण कुमार
आज का श्रवण कुमार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...