Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jun 2016 · 1 min read

आदमी अमीर हूँ

आदमी अमीर हूँ
खो चुका ज़मीर हूँ

जो न खुल के रो सकी
वो जिगर की पीर हूँ

जख़्म के जहान की
दर्द की नज़ीर हूँ

जाने किस हसीन की
ज़ुल्फ़ का असीर हूँ

सल्तनत लुटा चुका
प्यार में फ़कीर हूँ

सरहदों के नाम पर
खिंच रही लकीर हूँ

कह रहा खरी खरी
सिरफिरा कबीर हूँ

राकेश दुबे “गुलशन”
10/06/2016
बरेली

1 Comment · 181 Views
You may also like:
मन को मत हारने दो
जगदीश लववंशी
अंगडाई अंग की, वो पुकार है l
अरविन्द व्यास
Writing Challenge- भय (Fear)
Sahityapedia
कुछ पल का है तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
प्रारब्ध प्रबल है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हमारे पापा
पाण्डेय चिदानन्द
जब सावन का मौसम आता
लक्ष्मी सिंह
Once Again You Visited My Dream Town
Manisha Manjari
पिता
Madhu Sethi
नारियां
AMRESH KUMAR VERMA
*जिनका साधु-सा व्यवहार होता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
✍️सलं...!✍️
'अशांत' शेखर
चलो जिन्दगी को फिर से।
Taj Mohammad
नीति के दोहे
Rakesh Pathak Kathara
कुण्डलिया
शेख़ जाफ़र खान
मुझको क्या मतलब तुमसे
gurudeenverma198
तेरे बिना ये ज़िन्दगी
Shivkumar Bilagrami
कोरोना काल
AADYA PRODUCTION
पढ़ने का शौक़
Shekhar Chandra Mitra
विश्व वरिष्ठ नागरिक दिवस
Ram Krishan Rastogi
🍀🌺मैंने हर जगह ज़िक्र किया है तुम्हारा🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नयी बहुरिया घर आयी*
Dr. Sunita Singh
मृदुल कीर्ति जी का गद्यकोष एव वैचारिक ऊर्जा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
भगतसिंह कैसा ये तेरा पंजाब हो गया
Kaur Surinder
तितली
Shyam Sundar Subramanian
उसकी बातें
Sandeep Albela
तुम्हें देखा
Anamika Singh
पिता
अवध किशोर 'अवधू'
वर्तमान से वक्त बचा लो [भाग6]
AJAY AMITABH SUMAN
Loading...