Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Apr 2023 · 1 min read

आत्मा की शांति

वृद्धाश्रम पहुँचे रासबिहारी जी से गोविंद जी ने पूछा- ” कैसे हैं भाई साहब? चिंता मत करिए, कुछ दिन बाद मन लगने लग जाएगा। यहाँ सभी लोग बहुत अच्छे हैं। एक दूसरे का खूब ख्याल रखते हैं।”
“ख्याल तो खूब हमारे बच्चों ने भी रखा। न बेटों के घर में हमारे लिए जगह थी और न बेटी के घर में।”
“अब जब अंतिम सहारे के रूप में यह जगह मिली है तो मन तो लगाना ही पड़ेगा।”
“आपके घर में कौन-कौन है?” गोविंद जी ने पूछा।
“दो बेटे हैं, जो मल्टीनेशनल कम्पनी में काम करते हैं और बड़ी बहू बैंक में मैनेजर है और दूसरी छोटी बहू डाॅक्टर है। बेटी और दामाद भी हैं। दामाद आर्मी में कैप्टन है।”
“अरे वाह , आपका तो भरा-पूरा परिवार है। बच्चे खुश रहें, हम बड़े-बूढ़ों को और क्या चाहिए इस उम्र में। सही बात है कि नहीं।”
” बिल्कुल सही कह रहे हैं आप। यहाँ आकर मुझे बहुत सुकून महसूस हो रहा है।”
“सबसे बड़ी बात दुनिया की एक सच्चाई पता चली कि कोई किसी का नहीं। न बेटा, न बहू और न बेटी , न दामाद। सबकी बहुत चिंता रहती थी। अब , इस आश्रम में रहते हुए प्राण निकलेंगे तो आत्मा भटकेगी नहीं क्योंकि कोई अपना इस संसार में है ही नहीं।”
डाॅ बिपिन पाण्डेय

Language: Hindi
1 Like · 209 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नववर्ष-अभिनंदन
नववर्ष-अभिनंदन
Kanchan Khanna
*बोले बच्चे माँ तुम्हीं, जग में सबसे नेक【कुंडलिया】*
*बोले बच्चे माँ तुम्हीं, जग में सबसे नेक【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
3013.*पूर्णिका*
3013.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चाय की दुकान पर
चाय की दुकान पर
gurudeenverma198
धार्मिक नहीं इंसान बनों
धार्मिक नहीं इंसान बनों
Dr fauzia Naseem shad
इस धरा का इस धरा पर सब धरा का धरा रह जाएगा,
इस धरा का इस धरा पर सब धरा का धरा रह जाएगा,
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
निराशा एक आशा
निराशा एक आशा
डॉ. शिव लहरी
श्री राम एक मंत्र है श्री राम आज श्लोक हैं
श्री राम एक मंत्र है श्री राम आज श्लोक हैं
Shankar N aanjna
कभी खामोशियां.. कभी मायूसिया..
कभी खामोशियां.. कभी मायूसिया..
Ravi Betulwala
छोटी सी दुनिया
छोटी सी दुनिया
shabina. Naaz
डॉ अरूण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक 😚🤨
डॉ अरूण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक 😚🤨
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरे प्यारे भैया
मेरे प्यारे भैया
Samar babu
तुम भी 2000 के नोट की तरह निकले,
तुम भी 2000 के नोट की तरह निकले,
Vishal babu (vishu)
दोहे-बच्चे
दोहे-बच्चे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चोट
चोट
आकांक्षा राय
आहवान
आहवान
नेताम आर सी
खता खतों की नहीं थीं , लम्हों की थी ,
खता खतों की नहीं थीं , लम्हों की थी ,
Manju sagar
#देसी_ग़ज़ल
#देसी_ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
तुम जिसे खुद से दूर करने की कोशिश करोगे उसे सृष्टि तुमसे मिल
तुम जिसे खुद से दूर करने की कोशिश करोगे उसे सृष्टि तुमसे मिल
Rashmi Ranjan
नाम उल्फत में तेरे जिंदगी कर जाएंगे।
नाम उल्फत में तेरे जिंदगी कर जाएंगे।
Phool gufran
मेरी भी कहानी कुछ अजीब है....!
मेरी भी कहानी कुछ अजीब है....!
singh kunwar sarvendra vikram
कभी तो तुम्हे मेरी याद आयेगी
कभी तो तुम्हे मेरी याद आयेगी
Ram Krishan Rastogi
मोहन कृष्ण मुरारी
मोहन कृष्ण मुरारी
Mamta Rani
सदद्विचार
सदद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
देख कर उनको
देख कर उनको
हिमांशु Kulshrestha
बाल कविता: चूहे की शादी
बाल कविता: चूहे की शादी
Rajesh Kumar Arjun
एकांत में रहता हूँ बेशक
एकांत में रहता हूँ बेशक
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
हर इक सैलाब से खुद को बचाकर
हर इक सैलाब से खुद को बचाकर
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
सात जन्मों तक
सात जन्मों तक
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...