Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

आटा

लूटा दिया, मैने भी यौवन
खातिर तुम्हारी जान के
मैं भी तो चाहता था खिलना
महकना चाहता था शान से।
सखी पवन संग झूला- झूलना
हल्की-हल्की बरसात में
मस्ती करता था मैं भी कभी
बसंत की बारात में ।
था याद मुझे कर्तव्य
यौवन छोड़ा निर्भय
पकने लगा धूप में
आने लगा स्वरूप में ।
दाना बनना कर्म मेरा
खाना बनना धर्म मेरा
पीसने चला मैं घराटा
नाम मेरा हुआ तब आटा ।
दाने से मैं बन गया चूर्ण
तभी हुआ मैं सम्पूर्ण ।
हर प्राण की भूख मिटाकर
चला हूँ मैं सज – सँवरकर
आग, पानी संग मिलकर
भूख मिटाऊँ जी भरकर।
तृप्ति मन की पूर्ण कराऊँ
नाम अमर कर “आटा” कहलाऊँ।।

✍संजय कुमार “सन्जू”

Language: Hindi
93 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from संजय कुमार संजू
View all
You may also like:
हमारा दिल।
हमारा दिल।
Taj Mohammad
# विचार
# विचार
DrLakshman Jha Parimal
"संकल्प-शक्ति"
Dr. Kishan tandon kranti
तुमसे मिलना इतना खुशनुमा सा था
तुमसे मिलना इतना खुशनुमा सा था
Kumar lalit
सर्दी का उल्लास
सर्दी का उल्लास
Harish Chandra Pande
आराम का हराम होना जरूरी है
आराम का हराम होना जरूरी है
हरवंश हृदय
2583.पूर्णिका
2583.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जरा विचार कीजिए
जरा विचार कीजिए
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
चांद का टुकड़ा
चांद का टुकड़ा
Santosh kumar Miri
राम का चिंतन
राम का चिंतन
Shashi Mahajan
बेटी ही बेटी है सबकी, बेटी ही है माँ
बेटी ही बेटी है सबकी, बेटी ही है माँ
Anand Kumar
तेरी कमी......
तेरी कमी......
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
*छल-कपट को बीच में, हर्गिज न लाना चाहिए【हिंदी गजल/गीतिका】*
*छल-कपट को बीच में, हर्गिज न लाना चाहिए【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
प्रभु का प्राकट्य
प्रभु का प्राकट्य
Anamika Tiwari 'annpurna '
सहज रिश्ता
सहज रिश्ता
Dr. Rajeev Jain
अपनी हीं क़ैद में हूँ
अपनी हीं क़ैद में हूँ
Shweta Soni
Dr arun kumar shastri
Dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जिंदगी....एक सोच
जिंदगी....एक सोच
Neeraj Agarwal
उन्होंने कहा बात न किया कीजिए मुझसे
उन्होंने कहा बात न किया कीजिए मुझसे
विकास शुक्ल
महुब्बत
महुब्बत
Vibha Jain
कुछ औरतें खा जाती हैं, दूसरी औरतों के अस्तित्व । उनके सपने,
कुछ औरतें खा जाती हैं, दूसरी औरतों के अस्तित्व । उनके सपने,
पूर्वार्थ
होली आने वाली है
होली आने वाली है
नेताम आर सी
🙅दोहा🙅
🙅दोहा🙅
*प्रणय प्रभात*
शब्द
शब्द
Ajay Mishra
तब गाँव हमे अपनाता है
तब गाँव हमे अपनाता है
संजय कुमार संजू
* अवधपुरी की ओर *
* अवधपुरी की ओर *
surenderpal vaidya
वेलेंटाइन डे बिना विवाह के सुहागरात के समान है।
वेलेंटाइन डे बिना विवाह के सुहागरात के समान है।
Rj Anand Prajapati
हो नजरों में हया नहीं,
हो नजरों में हया नहीं,
Sanjay ' शून्य'
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बैठी रहो कुछ देर और
बैठी रहो कुछ देर और
gurudeenverma198
Loading...