Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Apr 2023 · 3 min read

आत्मनिर्भरता

आत्मनिर्भरता

सेठ किरोड़ीमल कई फैक्ट्रियों के मालिक थे। ईश्वर की कृपा से उन्हें पैसों की कोई कमी नहीं थी। यही कारण है कि वे अपने कर्मचारियों को पर्याप्त वेतन, भत्ते और सुविधाएं देते थे। इसलिए उनकी फैक्ट्रियों में काम करने वाले सभी कर्मचारी खुश रहते थे और सेठजी का बहुत सम्मान भी करते थे।
एक बार उनके यहां काम करने वाले कर्मचारियों के घर की महिलाओं ने सेठ जी से भेंट करते हुए कहा, “सेठ जी, हमारे परिवार के पुरुष सदस्य आपकी फैक्ट्रियों में काम करते हैं। उनको मिलने वाली वेतन-भत्तों से हम सबका गुजारा बहुत ही अच्छे से हो जाता है। आपके द्वारा खोले गए बेहतरीन स्कूल में हमारे बच्चे पढ़ रहे हैं। जरूरत पड़ने पर आपके द्वारा खोले गए हॉस्पिटल में हम सबका इलाज भी बहुत ही कम फीस में हो जाता है। हम लोग जीवनभर आपका शुक्रगुजार रहेंगे।”
सेठ जी विनम्रतापूर्वक बोले, “देखिए बहनों, मैं आप लोगों पर कोई अहसान नहीं कर रहा हूं। आपके परिवार के लोग हमारे लिए दिन-रात इतना कुछ कर रहे हैं, तो हमारा भी फर्ज बनता है कि उनके लिए कुछ करें। सो हम कर रहे हैं।”
एक वरिष्ठ महिला ने सेठ जी से आग्रह किया, “सेठ जी, हमारे घर के पुरुष जब काम पर और बच्चे स्कूल चले जाते हैं, तो हममें से ज्यादातर महिलाएं घर में खाली बैठी बोर होती रहती हैं। यदि आप हमारे लायक भी कोई काम की व्यवस्था कर दें, तो हम महिलाएं भी कुछ काम करके आत्मनिर्भर बनना चाहेंगी।”
सेठ जी ने पूछा, “हूं… बात तो आपकी एकदम सही है। अब आप ही लोग बताइए कि आप लोग क्या करना चाहेंगी ?”
उस महिला ने कहा, “सेठ जी, यदि आप चाहें तो हम लोग आचार, पापड़, बड़ी, सिलाई, कढ़ाई जैसा काम कर सकती हैं। अभी कुछ महिलाएं अपने व्यक्तिगत प्रयास से ये काम कर भी रही हैं, पर यदि हमें आपका साथ मिल जाए, तो यह बड़े पैमाने पर भी हो सकता है।”
सेठ जी ने कहा, “बहुत ही अच्छा सुझाव है आपका बहन जी। यदि आप लोग करना चाहें तो हम आचार, पापड़, बड़ी, सिलाई-कढ़ाई इन सब कामों के लिए अलग-अलग यूनिट खोल देंगे। जरूरत के मुताबिक आप लोगों के प्रशिक्षण की भी व्यवस्था करेंगे, ताकि कम समय, श्रम और खर्च में अधिक उत्पादन हो सके। मैं कल ही अपने कल्याण अधिकारी को आप लोगों के पास भेजूंगा। हर काम की शुरुआत के लिए हमें कम से कम बीस-बीस बहनों की जरुरत होगी। आप लोग अपनी-अपनी रूचि के अनुसार अपना नाम लिखवा दीजिएगा। फिर उसी के आधार पर आगे की योजना बनाई जाएगी।”
“वाह ! क्या बात है सेठ जी। हमें तो यकीन ही नहीं हो रहा है कि अब हम सब आपके साथ मिलकर काम करेंगी।” एक युवा महिला ने कहा।
सेठ जी कुछ सोचकर बोले, “मैं सोच रहा हूं कि शिशुवती महिलाओं की सुविधा के लिए कार्य परिसर के पास ही एक झूलाघर और एक कैंटीन भी खोल दिया जाए। झूलाघर का संचालन पूर्णतः नि:शुल्क रखेंगे जबकि कैंटीन नो-लॉस, नो प्रॉफिट के आधार पर करेंगे। इनका संचालन भी आप लोग ही करेंगी। आचार, पापड़, बड़ी, सिलाई, कढ़ाई और कैंटीन के काम में जो भी लाभ होगा, उसी के आधार पर आप लोगों को लाभांश दिया जाएगा।”
सबने पूरे उत्साह के साथ तालियां बजाकर सेठ जी के निर्णय का स्वागत किया।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

Language: Hindi
349 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अभी जाम छल्का रहे आज बच्चे, इन्हें देख आँखें फटी जा रही हैं।
अभी जाम छल्का रहे आज बच्चे, इन्हें देख आँखें फटी जा रही हैं।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
रमेशराज के 2 मुक्तक
रमेशराज के 2 मुक्तक
कवि रमेशराज
महात्मा गाँधी को राष्ट्रपिता क्यों कहा..?
महात्मा गाँधी को राष्ट्रपिता क्यों कहा..?
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
" खामोश आंसू "
Aarti sirsat
■ आदी हैं मल-वमन के।।
■ आदी हैं मल-वमन के।।
*Author प्रणय प्रभात*
कुंवारों का तो ठीक है
कुंवारों का तो ठीक है
शेखर सिंह
ख्याल नहीं थे उम्दा हमारे, इसलिए हालत ऐसी हुई
ख्याल नहीं थे उम्दा हमारे, इसलिए हालत ऐसी हुई
gurudeenverma198
"दिल चाहता है"
Pushpraj Anant
आईने में ...
आईने में ...
Manju Singh
बरपा बारिश का कहर, फसल खड़ी तैयार।
बरपा बारिश का कहर, फसल खड़ी तैयार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
वृक्षारोपण का अर्थ केवल पौधे को रोपित करना ही नहीं बल्कि उसक
वृक्षारोपण का अर्थ केवल पौधे को रोपित करना ही नहीं बल्कि उसक
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
गांव की सैर
गांव की सैर
जगदीश लववंशी
ख़्वाब
ख़्वाब
Monika Verma
सत्य ही शिव
सत्य ही शिव
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
रिश्ता कभी खत्म नहीं होता
रिश्ता कभी खत्म नहीं होता
Ranjeet kumar patre
"दण्डकारण्य"
Dr. Kishan tandon kranti
रिश्ता
रिश्ता
Santosh Shrivastava
💐प्रेम कौतुक-545💐
💐प्रेम कौतुक-545💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जीत का सेहरा
जीत का सेहरा
Dr fauzia Naseem shad
मूर्दों की बस्ती
मूर्दों की बस्ती
Shekhar Chandra Mitra
हाल मियां।
हाल मियां।
Acharya Rama Nand Mandal
भ्रमन टोली ।
भ्रमन टोली ।
Nishant prakhar
"भँडारे मेँ मिलन" हास्य रचना
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*जिनको चॉंदी का मिला, चम्मच श्रेष्ठ महान (कुंडलिया)*
*जिनको चॉंदी का मिला, चम्मच श्रेष्ठ महान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
फोन
फोन
Kanchan Khanna
अगर प्रेम है
अगर प्रेम है
हिमांशु Kulshrestha
सर्वनाम
सर्वनाम
Neelam Sharma
आज़ाद भारत एक ऐसा जुमला है
आज़ाद भारत एक ऐसा जुमला है
SURYA PRAKASH SHARMA
मंत्र  :  दधाना करपधाभ्याम,
मंत्र : दधाना करपधाभ्याम,
Harminder Kaur
श्री राम जय राम।
श्री राम जय राम।
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
Loading...