Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2022 · 1 min read

आतुरता

खिड़कियों की टूटी काँच से
अंदर आने को आतुर
रोशनी की किरणे
बस ठीक उसी तरह
मेरी आतुरता
तुम्हें छू भर जाने की
रोशनी से मिल
रोशनी हो जाने की
अनंत के अंतिम बिंदु से भी परे
कहीं खो जाने की
शून्यता और पूर्णता के
एक हो पाने की………

Language: Hindi
7 Likes · 8 Comments · 447 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गोलू देवता मूर्ति स्थापना समारोह ।
गोलू देवता मूर्ति स्थापना समारोह ।
श्याम सिंह बिष्ट
कविता
कविता
Rambali Mishra
मुस्काती आती कभी, हौले से बरसात (कुंडलिया)
मुस्काती आती कभी, हौले से बरसात (कुंडलिया)
Ravi Prakash
हम जंगल की चिड़िया हैं
हम जंगल की चिड़िया हैं
ruby kumari
दूसरों को देते हैं ज्ञान
दूसरों को देते हैं ज्ञान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
24/226. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/226. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आज सबको हुई मुहब्बत है।
आज सबको हुई मुहब्बत है।
सत्य कुमार प्रेमी
💐अज्ञात के प्रति-59💐
💐अज्ञात के प्रति-59💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जिंदगी में.....
जिंदगी में.....
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
सूरज सा उगता भविष्य
सूरज सा उगता भविष्य
Harminder Kaur
मैं हिंदी में इस लिए बात करता हूं क्योंकि मेरी भाषा ही मेरे
मैं हिंदी में इस लिए बात करता हूं क्योंकि मेरी भाषा ही मेरे
Rj Anand Prajapati
मेरे खतों को अगर,तुम भी पढ़ लेते
मेरे खतों को अगर,तुम भी पढ़ लेते
gurudeenverma198
जवान वो थी तो नादान हम भी नहीं थे,
जवान वो थी तो नादान हम भी नहीं थे,
जय लगन कुमार हैप्पी
फगुनाई मन-वाटिका,
फगुनाई मन-वाटिका,
Rashmi Sanjay
परिवार
परिवार
नवीन जोशी 'नवल'
कहते हैं मृत्यु ही एक तय सत्य है,
कहते हैं मृत्यु ही एक तय सत्य है,
पूर्वार्थ
बरगद पीपल नीम तरु
बरगद पीपल नीम तरु
लक्ष्मी सिंह
पंछी और पेड़
पंछी और पेड़
नन्दलाल सुथार "राही"
तुझसा कोई प्यारा नहीं
तुझसा कोई प्यारा नहीं
Mamta Rani
शीतलहर
शीतलहर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
दुःख  से
दुःख से
Shweta Soni
मूर्ती माँ तू ममता की
मूर्ती माँ तू ममता की
Basant Bhagawan Roy
जय भगतसिंह
जय भगतसिंह
Shekhar Chandra Mitra
डिजिटल भारत
डिजिटल भारत
Satish Srijan
दो हज़ार का नोट
दो हज़ार का नोट
Dr Archana Gupta
सत्य संकल्प
सत्य संकल्प
Shaily
प्रियवर
प्रियवर
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
To be Invincible,
To be Invincible,
Dhriti Mishra
Sometimes words are not as desperate as feelings.
Sometimes words are not as desperate as feelings.
Sakshi Tripathi
■ आज की बात....!
■ आज की बात....!
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...