Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

आतुरता

खिड़कियों की टूटी काँच से
अंदर आने को आतुर
रोशनी की किरणे
बस ठीक उसी तरह
मेरी आतुरता
तुम्हें छू भर जाने की
रोशनी से मिल
रोशनी हो जाने की
अनंत के अंतिम बिंदु से भी परे
कहीं खो जाने की
शून्यता और पूर्णता के
एक हो पाने की………

6 Likes · 6 Comments · 90 Views
You may also like:
माँ बाप का बटवारा
Ram Krishan Rastogi
खुश रहना
dks.lhp
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
सुरत और सिरत
Anamika Singh
सुकून :-
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कसूर किसका
Swami Ganganiya
✍️जिंदगी का फ़लसफ़ा✍️
'अशांत' शेखर
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️करम✍️
'अशांत' शेखर
आखिरी कोशिश
AMRESH KUMAR VERMA
✍️✍️रूपया✍️✍️
'अशांत' शेखर
चंदा मामा
Dr. Kishan Karigar
आखिर क्या... दुनिया को
Nitu Sah
इश्क़ में ज़िंदगी नहीं मिलती
Dr fauzia Naseem shad
✍️कालचक्र✍️
'अशांत' शेखर
नशामुक्ति (भोजपुरी लोकगीत)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
हर अश्क कह रहा है।
Taj Mohammad
चौदह अगस्त: विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस
Ravi Prakash
तुम बिन लगता नही मेरा मन है
Ram Krishan Rastogi
पुत्रवधु
Vikas Sharma'Shivaaya'
एक वही मल्लाह
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मौत
Alok Saxena
आयेगी मौत तो
Dr fauzia Naseem shad
मत छुपाओ हकीकत
gurudeenverma198
विचित्र प्राणी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
समय और मेहनत
Anamika Singh
यथा प्रदीप्तं ज्वलनं.…..
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...