Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Oct 2023 · 1 min read

#आज_का_संदेश

#एक_संदेश-
■ आज के पर्व पर…!
★ वर्तमान समय की मांग
【प्रणय प्रभात】
“ठीक है चंदन बनें, महका करें।
फिर भी थोड़ी सी अगन पैदा करो।।
चाँद सी शीतल भले हों बेटियाँ।
सूर्य सी इनमें तपन पैदा करो।।”
■प्रणय प्रभात■
●संपादक/न्यूज़&व्यूज़●
श्योपुर (मध्यप्रदेश)

1 Like · 109 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मन मंथन कर ले एकांत पहर में
मन मंथन कर ले एकांत पहर में
Neelam Sharma
रामलला के विग्रह की जब, भव में प्राण प्रतिष्ठा होगी।
रामलला के विग्रह की जब, भव में प्राण प्रतिष्ठा होगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ईमान धर्म बेच कर इंसान खा गया।
ईमान धर्म बेच कर इंसान खा गया।
सत्य कुमार प्रेमी
वक्त
वक्त
Madhavi Srivastava
"सृष्टि निहित माँ शब्द में,
*Author प्रणय प्रभात*
मशीन कलाकार
मशीन कलाकार
Harish Chandra Pande
Har Ghar Tiranga
Har Ghar Tiranga
Tushar Jagawat
पुरुष को एक ऐसी प्रेमिका की चाह होती है!
पुरुष को एक ऐसी प्रेमिका की चाह होती है!
पूर्वार्थ
अध खिला कली तरुणाई  की गीत सुनाती है।
अध खिला कली तरुणाई की गीत सुनाती है।
Nanki Patre
तेरे इश्क़ में
तेरे इश्क़ में
Gouri tiwari
चंद्रशेखर आज़ाद जी की पुण्यतिथि पर भावभीनी श्रद्धांजलि
चंद्रशेखर आज़ाद जी की पुण्यतिथि पर भावभीनी श्रद्धांजलि
Dr Archana Gupta
*चार साल की उम्र हमारी ( बाल-कविता/बाल गीतिका )*
*चार साल की उम्र हमारी ( बाल-कविता/बाल गीतिका )*
Ravi Prakash
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
💐प्रेम कौतुक-547💐
💐प्रेम कौतुक-547💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
व्यवहार कैसा होगा बोल बता देता है..,
व्यवहार कैसा होगा बोल बता देता है..,
कवि दीपक बवेजा
होकर मजबूर हमको यार
होकर मजबूर हमको यार
gurudeenverma198
"Battling Inner Demons"
Manisha Manjari
महाप्रयाण
महाप्रयाण
Shyam Sundar Subramanian
"डोली बेटी की"
Ekta chitrangini
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
सिंहासन पावन करो, लम्बोदर भगवान ।
सिंहासन पावन करो, लम्बोदर भगवान ।
जगदीश शर्मा सहज
"सम्भव"
Dr. Kishan tandon kranti
2853.*पूर्णिका*
2853.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
🥀* अज्ञानी की कलम*🥀
🥀* अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
फिरकापरस्ती
फिरकापरस्ती
Shekhar Chandra Mitra
लर्जिश बड़ी है जुबान -ए -मोहब्बत में अब तो
लर्जिश बड़ी है जुबान -ए -मोहब्बत में अब तो
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जो बेटी गर्भ में सोई...
जो बेटी गर्भ में सोई...
आकाश महेशपुरी
शेयर
शेयर
rekha mohan
रास्ता दुर्गम राह कंटीली, कहीं शुष्क, कहीं गीली गीली
रास्ता दुर्गम राह कंटीली, कहीं शुष्क, कहीं गीली गीली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मानवता
मानवता
विजय कुमार अग्रवाल
Loading...