Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Aug 2023 · 1 min read

आज वो भी भारत माता की जय बोलेंगे,

आज वो भी भारत माता की जय बोलेंगे,
जिन्होने भारत कें बच्चों का भविष्य और लड़कियों की इज्जत लूटवाई है।
आज देश के तिरंगें की डोर उस हात में है,जिसने अपनें देश को ही बेच दिया।

77th INDEPENDENT DAY

411 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आ रही है लौटकर अपनी कहानी
आ रही है लौटकर अपनी कहानी
Suryakant Dwivedi
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
Sanjay ' शून्य'
"कैसे सबको खाऊँ"
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
बादल और बरसात
बादल और बरसात
Neeraj Agarwal
ये दूरियां सिर्फ मैंने कहाँ बनायी थी //
ये दूरियां सिर्फ मैंने कहाँ बनायी थी //
गुप्तरत्न
पिता, इन्टरनेट युग में
पिता, इन्टरनेट युग में
Shaily
,,,,,,,,,,,,?
,,,,,,,,,,,,?
शेखर सिंह
कैसे वोट बैंक बढ़ाऊँ? (हास्य कविता)
कैसे वोट बैंक बढ़ाऊँ? (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
2617.पूर्णिका
2617.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मातृभूमि पर तू अपना सर्वस्व वार दे
मातृभूमि पर तू अपना सर्वस्व वार दे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
शिव अराधना
शिव अराधना
नवीन जोशी 'नवल'
Pardushan
Pardushan
ASHISH KUMAR SINGH
बाप अपने घर की रौनक.. बेटी देने जा रहा है
बाप अपने घर की रौनक.. बेटी देने जा रहा है
Shweta Soni
आहिस्ता चल
आहिस्ता चल
Dr.Priya Soni Khare
अज़ीज़ टुकड़ों और किश्तों में नज़र आते हैं
अज़ीज़ टुकड़ों और किश्तों में नज़र आते हैं
Atul "Krishn"
#गीत-
#गीत-
*Author प्रणय प्रभात*
Canine Friends
Canine Friends
Dhriti Mishra
छोटी छोटी चीजें देख कर
छोटी छोटी चीजें देख कर
Dheerja Sharma
आलस मेरी मोहब्बत है
आलस मेरी मोहब्बत है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
उम्र के हर पड़ाव पर
उम्र के हर पड़ाव पर
Surinder blackpen
*खाते नहीं जलेबियॉं, जिनको डायबिटीज (हास्य कुंडलिया)*
*खाते नहीं जलेबियॉं, जिनको डायबिटीज (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"रुदाली"
Dr. Kishan tandon kranti
रूप जिसका आयतन है, नेत्र जिसका लोक है
रूप जिसका आयतन है, नेत्र जिसका लोक है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
रंग रहे उमंग रहे और आपका संग रहे
रंग रहे उमंग रहे और आपका संग रहे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आज के जमाने में
आज के जमाने में
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
परेशां सोच से
परेशां सोच से
Dr fauzia Naseem shad
Be careful having relationships with people with no emotiona
Be careful having relationships with people with no emotiona
पूर्वार्थ
खिला हूं आजतक मौसम के थपेड़े सहकर।
खिला हूं आजतक मौसम के थपेड़े सहकर।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
लौटेगी ना फिर कभी,
लौटेगी ना फिर कभी,
sushil sarna
चार बजे
चार बजे
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
Loading...