Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jan 2023 · 1 min read

आज भी ढूंढती नज़र उसको

आज भी ढूंढती नज़र उसको ।
मेरी आंखों का ख़्वाब था जैसे ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
9 Likes · 165 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
दिल में
दिल में
Dr fauzia Naseem shad
आँचल की छाँह🙏
आँचल की छाँह🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सारथी
सारथी
लक्ष्मी सिंह
फितरत
फितरत
मनोज कर्ण
मुस्कराना
मुस्कराना
Neeraj Agarwal
शोख लड़की
शोख लड़की
Ghanshyam Poddar
कांधा होता हूं
कांधा होता हूं
Dheerja Sharma
गुरु रामदास
गुरु रामदास
कवि रमेशराज
"माखुर"
Dr. Kishan tandon kranti
क्या कहती है तस्वीर
क्या कहती है तस्वीर
Surinder blackpen
5
5"गांव की बुढ़िया मां"
राकेश चौरसिया
*सुनकर खबर आँखों से आँसू बह रहे*
*सुनकर खबर आँखों से आँसू बह रहे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
2842.*पूर्णिका*
2842.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
गंधारी
गंधारी
Shashi Mahajan
उलझनें
उलझनें
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
मोहब्बत कि बाते
मोहब्बत कि बाते
Rituraj shivem verma
ख्वाबों में भी तेरा ख्याल मुझे सताता है
ख्वाबों में भी तेरा ख्याल मुझे सताता है
Bhupendra Rawat
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बेशक हुआ इस हुस्न पर दीदार आपका।
बेशक हुआ इस हुस्न पर दीदार आपका।
Phool gufran
मन की प्रीत
मन की प्रीत
भरत कुमार सोलंकी
आत्मस्वरुप
आत्मस्वरुप
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
बदली बारिश बुंद से
बदली बारिश बुंद से
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
The wrong partner in your life will teach you that you can d
The wrong partner in your life will teach you that you can d
पूर्वार्थ
* बिखर रही है चान्दनी *
* बिखर रही है चान्दनी *
surenderpal vaidya
मन तो मन है
मन तो मन है
Pratibha Pandey
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
Sanjay ' शून्य'
पहले कविता जीती है
पहले कविता जीती है
Niki pushkar
पापा जी..! उन्हें भी कुछ समझाओ न...!
पापा जी..! उन्हें भी कुछ समझाओ न...!
VEDANTA PATEL
■ बेचारे...
■ बेचारे...
*प्रणय प्रभात*
Loading...