Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Oct 2023 · 1 min read

आज भी अधूरा है

#दिनांक:-21/10/2023
#शीर्षक:-आज भी अधूरा है।

बदल गया समय ,
बदल गए हालात ,
बदल गई उलझनें,
बदल गई कायनात।
बदल गई आदतें,
बदल गई राहतें,
बदल गए चेहरे,
बदल गए तेवर,
बदल गए स्वाद घेवर,
बदल गया जख़्म का स्वरूप,
बदल गई हर नज्म,
बदल गई आहटें,
बदल गई सिलवटें,
बदल गए फैशन,
बदल गई रौशनी एकदम,
बदल गई आह,
बदल गई चाह,
बदल गया आईना ,
बदल गई हसीना ,
बदल गए ऋतुराज ,
बदल गए हर राज़,
बदल गई पुरानी रस्में,
बदल गया दुल्हन अक्स,
बदल गए इंसान,
बदल गए तरीके सम्मान देने के,
अगर कुछ नहीं बदला है तो ,
वह है प्रेम!
जो पहले भी अधूरा था ,
आज भी अधूरा है ,
और कल भी अधूरा ही रहेगा।
चाहत जिससे भी जिसे होगी ,
वो कभी नसीब में नहीं होगा,
अगर नसीब बन गया तो,
वह मुहब्बत ही नहीं होगा,
इश्क़ अश्क के बिना अधूरा रहेगा,
याद हर घाव को भरता कुरेदता रहेगा |

रचना मौलिक, स्वरचित और सर्वाधिकार सुरक्षित है।

प्रतिभा पाण्डेय “प्रति”
चेन्नई

Language: Hindi
3 Likes · 143 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कुछ नमी अपने
कुछ नमी अपने
Dr fauzia Naseem shad
हर बार नहीं मनाना चाहिए महबूब को
हर बार नहीं मनाना चाहिए महबूब को
शेखर सिंह
सावन
सावन
Ambika Garg *लाड़ो*
मेरी जिंदगी में जख्म लिखे हैं बहुत
मेरी जिंदगी में जख्म लिखे हैं बहुत
Dr. Man Mohan Krishna
"फर्क बहुत गहरा"
Dr. Kishan tandon kranti
कभी सुलगता है, कभी उलझता  है
कभी सुलगता है, कभी उलझता है
Anil Mishra Prahari
फितरत कभी नहीं बदलती
फितरत कभी नहीं बदलती
Madhavi Srivastava
😊पुलिस को मशवरा😊
😊पुलिस को मशवरा😊
*Author प्रणय प्रभात*
(हमसफरी की तफरी)
(हमसफरी की तफरी)
Sangeeta Beniwal
3280.*पूर्णिका*
3280.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सवा सेर
सवा सेर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वो नेमतों की अदाबत है ज़माने की गुलाम है ।
वो नेमतों की अदाबत है ज़माने की गुलाम है ।
Phool gufran
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जन्माष्टमी
जन्माष्टमी
लक्ष्मी सिंह
जिंदगी कंही ठहरी सी
जिंदगी कंही ठहरी सी
A🇨🇭maanush
‘ विरोधरस ‘---3. || विरोध-रस के आलंबन विभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---3. || विरोध-रस के आलंबन विभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
जीवन में जब संस्कारों का हो जाता है अंत
जीवन में जब संस्कारों का हो जाता है अंत
प्रेमदास वसु सुरेखा
शब्द
शब्द
Neeraj Agarwal
सबने हाथ भी छोड़ दिया
सबने हाथ भी छोड़ दिया
Shweta Soni
*कैसे हार मान लूं
*कैसे हार मान लूं
Suryakant Dwivedi
अर्ज किया है
अर्ज किया है
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
*महाराजा अग्रसेन और महात्मा गॉंधी (नौ दोहे)*
*महाराजा अग्रसेन और महात्मा गॉंधी (नौ दोहे)*
Ravi Prakash
शांतिवार्ता
शांतिवार्ता
Prakash Chandra
यह जरूर एक क्रांति है... जो सभी आडंबरो को तोड़ता है
यह जरूर एक क्रांति है... जो सभी आडंबरो को तोड़ता है
Utkarsh Dubey “Kokil”
स्त्री न देवी है, न दासी है
स्त्री न देवी है, न दासी है
Manju Singh
बुला रही है सीता तुम्हारी, तुमको मेरे रामजी
बुला रही है सीता तुम्हारी, तुमको मेरे रामजी
gurudeenverma198
प्रेम में सब कुछ सहज है
प्रेम में सब कुछ सहज है
Ranjana Verma
स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
मुझे तुझसे महब्बत है, मगर मैं कह नहीं सकता
मुझे तुझसे महब्बत है, मगर मैं कह नहीं सकता
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...