Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-490💐

आज बरसा बरसा बरसा पानी,
क्या कल यह फिर बरसेगा पानी,
बस तुम इश्क़ को यूँ ही बदनाम करो,
फ़ानी ज़िंदगी है,यही बता रहा है यह पानी।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
380 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
Sanjay ' शून्य'
*शब्द*
*शब्द*
Sûrëkhâ Rãthí
मैथिली साहित्य मे परिवर्तन से आस जागल।
मैथिली साहित्य मे परिवर्तन से आस जागल।
Acharya Rama Nand Mandal
#बधाई
#बधाई
*Author प्रणय प्रभात*
"Battling Inner Demons"
Manisha Manjari
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
Shekhar Chandra Mitra
यादें
यादें
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
"भूल गए हम"
Dr. Kishan tandon kranti
मा भारती को नमन
मा भारती को नमन
Bodhisatva kastooriya
चांद पे हमको
चांद पे हमको
Dr fauzia Naseem shad
गुलाम
गुलाम
Punam Pande
स्वप्न ....
स्वप्न ....
sushil sarna
धुंध इतनी की खुद के
धुंध इतनी की खुद के
Atul "Krishn"
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
बुश का बुर्का
बुश का बुर्का
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
कुछ तो ऐसे हैं कामगार,
कुछ तो ऐसे हैं कामगार,
Satish Srijan
गौर फरमाइए
गौर फरमाइए
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चांद बिना
चांद बिना
Surinder blackpen
बाल चुभे तो पत्नी बरसेगी बन गोला/आकर्षण से मार कांच का दिल है भामा
बाल चुभे तो पत्नी बरसेगी बन गोला/आकर्षण से मार कांच का दिल है भामा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दलाल ही दलाल (हास्य कविता)
दलाल ही दलाल (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
युवा है हम
युवा है हम
Pratibha Pandey
* सहारा चाहिए *
* सहारा चाहिए *
surenderpal vaidya
रिश्ते जोड़ कर रखना (गीतिका)
रिश्ते जोड़ कर रखना (गीतिका)
Ravi Prakash
करो पढ़ाई
करो पढ़ाई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मैं निकल पड़ी हूँ
मैं निकल पड़ी हूँ
Vaishaligoel
2608.पूर्णिका
2608.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
माँ का अबोला / मुसाफ़िर बैठा
माँ का अबोला / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
shabina. Naaz
ज़िंदगी
ज़िंदगी
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
सीता छंद आधृत मुक्तक
सीता छंद आधृत मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...