Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Feb 2024 · 1 min read

आज फिर वही पहली वाली मुलाकात करनी है

आज फिर वही पहली वाली मुलाकात करनी है
दो कप चाय के और फिर वही दिल वाली बात करनी है

बताऊं कैसे कोई और हो या न हो
बस तू ही मुझे हर लम्हा नही उम्र भर अपने साथ रखनी है

बिन तेरे रास्ता जिंदगी का यो मने आज कल सुनसान सा लगे
तू नही होती जब पास मेरे तो अपना भी हर कोई अंजान सा लगे

मने मेरा खास रिश्ता बस तेरे साथ ही बनाने का दिल करे
बताऊं कैसे तने में बगैर तेरे लम्हा हर एक जीवन का मुश्किल लगे

मेरी तो देखी जायेगी तुझे खुश रखने की रब से फरियाद रहया करे
कोई और शक्श नी रहता आज कल जितना की तू मुझे याद रहया करे

40 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"यादें"
Dr. Kishan tandon kranti
परिवर्तन
परिवर्तन
लक्ष्मी सिंह
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
कौआ और कोयल (दोस्ती)
कौआ और कोयल (दोस्ती)
VINOD CHAUHAN
बीतल बरस।
बीतल बरस।
Acharya Rama Nand Mandal
खुद को मैंने कम उसे ज्यादा लिखा। जीस्त का हिस्सा उसे आधा लिखा। इश्क में उसके कृष्णा बन गया। प्यार में अपने उसे राधा लिखा
खुद को मैंने कम उसे ज्यादा लिखा। जीस्त का हिस्सा उसे आधा लिखा। इश्क में उसके कृष्णा बन गया। प्यार में अपने उसे राधा लिखा
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
तन पर तन के रंग का,
तन पर तन के रंग का,
sushil sarna
विचार, संस्कार और रस [ तीन ]
विचार, संस्कार और रस [ तीन ]
कवि रमेशराज
कभी कभी किसी व्यक्ति(( इंसान))से इतना लगाव हो जाता है
कभी कभी किसी व्यक्ति(( इंसान))से इतना लगाव हो जाता है
Rituraj shivem verma
*दो स्थितियां*
*दो स्थितियां*
Suryakant Dwivedi
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
श्री राम भक्ति सरिता (दोहावली)
श्री राम भक्ति सरिता (दोहावली)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
भोले भाले शिव जी
भोले भाले शिव जी
Harminder Kaur
मनुष्यता बनाम क्रोध
मनुष्यता बनाम क्रोध
Dr MusafiR BaithA
वर्दी
वर्दी
Satish Srijan
3181.*पूर्णिका*
3181.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
माँ वो है जिसे
माँ वो है जिसे
shabina. Naaz
तू जो लुटाये मुझपे वफ़ा
तू जो लुटाये मुझपे वफ़ा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नारी वेदना के स्वर
नारी वेदना के स्वर
Shyam Sundar Subramanian
“WE HAVE TO DO SOMETHING”
“WE HAVE TO DO SOMETHING”
DrLakshman Jha Parimal
आज खुश हे तु इतना, तेरी खुशियों में
आज खुश हे तु इतना, तेरी खुशियों में
Swami Ganganiya
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
■ एक_नज़्म_ख़ुद_पर
■ एक_नज़्म_ख़ुद_पर
*Author प्रणय प्रभात*
शायरी
शायरी
goutam shaw
कहमुकरी
कहमुकरी
डॉ.सीमा अग्रवाल
माहिया छंद विधान (पंजाबी ) सउदाहरण
माहिया छंद विधान (पंजाबी ) सउदाहरण
Subhash Singhai
चश्मे
चश्मे
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
तुझसा कोई प्यारा नहीं
तुझसा कोई प्यारा नहीं
Mamta Rani
Loading...