Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jan 2023 · 1 min read

आज फिर गणतंत्र दिवस का

आज फिर गणतंत्र दिवस का,ऐसा उत्सव आया है।
जनता ने संविधान का, दिल से यशोगान गाया है।।
आज फिर गणतंत्र दिवस ——————।।

इस दिन भारत का संविधान, लागू हुआ था भारत में।
अधिकार कई संविधान से,मिले लोगों को भारत में।।
संविधान से ही भारत को , ऐसा गणतंत्र मिल पाया है।
भारत में हर मानव का जिसने, जीवन स्वर्ग बनाया है।।
आज फिर गणतंत्र दिवस——————।।

धन्य हैं हम भारतवासी, जन्म हमारा यहाँ जो हुआ।
ऋषि- मुनियों,महापुरुषों से, यह देश सुशोभित हुआ।।
जिनके ज्ञान- कर्मों से भारत, विश्वगुरु कहलाया है।
इस भारत में गणतंत्र से, फिर से स्वर्णयुग आया है।।
आज फिर गणतंत्र दिवस—————-।।

वह मानव महामानव है, जिसने यह संविधान लिखा।
हर जाति और धर्म का, जिसने इसमें सम्मान लिखा।।
न्याय मिले दीन-दुःखियों को , ऐसा कानून बनाया है।
भारत का सिर-झण्डा विश्व में, गर्व से ऊंचा उठाया है।।
आज फिर गणतंत्र दिवस——————।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 208 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Udaan Fellow Initiative for employment of rural women - Synergy Sansthan, Udaanfellowship Harda
Udaan Fellow Initiative for employment of rural women - Synergy Sansthan, Udaanfellowship Harda
Desert fellow Rakesh
वक्त लगता है
वक्त लगता है
Vandna Thakur
नमी आंखे....
नमी आंखे....
Naushaba Suriya
बनारस का घाट
बनारस का घाट
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
वो बाते वो कहानियां फिर कहा
वो बाते वो कहानियां फिर कहा
Kumar lalit
"शब्द"
Dr. Kishan tandon kranti
!! पलकें भीगो रहा हूँ !!
!! पलकें भीगो रहा हूँ !!
Chunnu Lal Gupta
माँ सरस्वती अन्तर्मन मन में..
माँ सरस्वती अन्तर्मन मन में..
Vijay kumar Pandey
किसान आंदोलन
किसान आंदोलन
मनोज कर्ण
सच्चा धर्म
सच्चा धर्म
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
छत्तीसगढ़िया संस्कृति के चिन्हारी- हरेली तिहार
छत्तीसगढ़िया संस्कृति के चिन्हारी- हरेली तिहार
Mukesh Kumar Sonkar
खंड काव्य लिखने के महारथी तो हो सकते हैं,
खंड काव्य लिखने के महारथी तो हो सकते हैं,
DrLakshman Jha Parimal
सबको
सबको
Rajesh vyas
मेरी मोहब्बत पाक मोहब्बत
मेरी मोहब्बत पाक मोहब्बत
VINOD CHAUHAN
काल चक्र कैसा आया यह, लोग दिखावा करते हैं
काल चक्र कैसा आया यह, लोग दिखावा करते हैं
पूर्वार्थ
मंजिल कठिन ॲंधेरा, दीपक जलाए रखना।
मंजिल कठिन ॲंधेरा, दीपक जलाए रखना।
सत्य कुमार प्रेमी
आखरी है खतरे की घंटी, जीवन का सत्य समझ जाओ
आखरी है खतरे की घंटी, जीवन का सत्य समझ जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जीवन को पैगाम समझना पड़ता है
जीवन को पैगाम समझना पड़ता है
कवि दीपक बवेजा
*चंद्रशेखर आजाद* *(कुंडलिया)*
*चंद्रशेखर आजाद* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
पितृ दिवस
पितृ दिवस
Ram Krishan Rastogi
नहीं तेरे साथ में कोई तो क्या हुआ
नहीं तेरे साथ में कोई तो क्या हुआ
gurudeenverma198
अपने किरदार में
अपने किरदार में
Dr fauzia Naseem shad
बात पते की कहती नानी।
बात पते की कहती नानी।
Vedha Singh
3350.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3350.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
कामयाबी का नशा
कामयाबी का नशा
SHAMA PARVEEN
अपनी तो मोहब्बत की इतनी कहानी
अपनी तो मोहब्बत की इतनी कहानी
AVINASH (Avi...) MEHRA
आत्मविश्वास
आत्मविश्वास
Shyam Sundar Subramanian
इल्तिजा
इल्तिजा
Bodhisatva kastooriya
मेरे लिए
मेरे लिए
Shweta Soni
Loading...