Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2024 · 1 min read

आज के समय में शादियों की बदलती स्थिति पर चिंता व्यक्त की है।

आज के समय में शादियों की बदलती स्थिति पर चिंता व्यक्त की है। वह कहता है कि पहले शादी एक संस्कार हुआ करती थी, जिसमें दो परिवारों का मिलन होता था और दो दिलों का मिलन होता था। लेकिन आज के समय में शादी एक इवेंट बन गई है, जिसमें केवल पैसा और दिखावा मायने रखता है। इसमें प्रेम और आत्मीयता का कोई स्थान नहीं है।
आज के समय में शादी में धर्म-जाति का बंधन नहीं है, बल्कि पैसे का बंधन है। लोग अपने बेटे-बेटियों की शादी अमीर परिवार में करना चाहते हैं, भले ही उनमें प्रेम न हो।
शादी में अब दो दिल नहीं मिलते हैं, बल्कि दो परिवारों की संपत्ति मिलती है। लोग शादी के बहाने अपनी संपत्ति को दूसरों के हाथों में सौंप देते हैं।
शादी अब एक सपना बन गई है, एक छलावा बन गई है, एक धोखा बन गई है। आज के समय में शादी से कोई उम्मीद नहीं रह गई है।

71 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दान की महिमा
दान की महिमा
Dr. Mulla Adam Ali
मूहूर्त
मूहूर्त
Neeraj Agarwal
"तरक्कियों की दौड़ में उसी का जोर चल गया,
शेखर सिंह
कोई जिंदगी भर के लिए यूं ही सफर में रहा
कोई जिंदगी भर के लिए यूं ही सफर में रहा
कवि दीपक बवेजा
शाकाहारी
शाकाहारी
डिजेन्द्र कुर्रे
फलों से लदे वृक्ष सब को चाहिए, पर बीज कोई बनना नहीं चाहता। क
फलों से लदे वृक्ष सब को चाहिए, पर बीज कोई बनना नहीं चाहता। क
पूर्वार्थ
क्यों कहते हो प्रवाह नहीं है
क्यों कहते हो प्रवाह नहीं है
Suryakant Dwivedi
महबूबा से
महबूबा से
Shekhar Chandra Mitra
अलविदा कहने से पहले
अलविदा कहने से पहले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शिक्षा ही जीवन है
शिक्षा ही जीवन है
SHAMA PARVEEN
तेरी इस वेबफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
तेरी इस वेबफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
Phool gufran
कश्मकश
कश्मकश
swati katiyar
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा🇮🇳
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
राजनीतिक यात्रा फैशन में है, इमेज बिल्डिंग और फाइव स्टार सुव
राजनीतिक यात्रा फैशन में है, इमेज बिल्डिंग और फाइव स्टार सुव
Sanjay ' शून्य'
पंचांग के मुताबिक हर महीने में कृष्ण और शुक्ल पक्ष की त्रयोद
पंचांग के मुताबिक हर महीने में कृष्ण और शुक्ल पक्ष की त्रयोद
Shashi kala vyas
मुस्कुरा दो ज़रा
मुस्कुरा दो ज़रा
Dhriti Mishra
मन
मन
Punam Pande
दासता
दासता
Bodhisatva kastooriya
If We Are Out Of Any Connecting Language.
If We Are Out Of Any Connecting Language.
Manisha Manjari
बस यूँ ही
बस यूँ ही
Neelam Sharma
सिलसिले
सिलसिले
Dr. Kishan tandon kranti
बरसात (विरह)
बरसात (विरह)
लक्ष्मी सिंह
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
भरे मन भाव अति पावन....
भरे मन भाव अति पावन....
डॉ.सीमा अग्रवाल
2802. *पूर्णिका*
2802. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
मित्र बनाने से पहले आप भली भाँति जाँच और परख लें ! आपके विचा
मित्र बनाने से पहले आप भली भाँति जाँच और परख लें ! आपके विचा
DrLakshman Jha Parimal
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
सबक ज़िंदगी पग-पग देती, इसके खेल निराले हैं।
सबक ज़िंदगी पग-पग देती, इसके खेल निराले हैं।
आर.एस. 'प्रीतम'
💜💠💠💠💜💠💠💠💜
💜💠💠💠💜💠💠💠💜
Manoj Kushwaha PS
Loading...