Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Oct 2023 · 1 min read

आज का दौर

आज के दौर में झूठ हक़ीक़त के जामे में
इस क़दर पेश होती है के सच लगने लगती है ,

अवाम भी फ़ितरत के फ़रेबे जाल में
जब फँसती है तो उलझती ही जाती है ,

खुदगर्ज़ सियासत की बिसात में अपनी ख़ुदी को खोकर मोहरा बन रह जाती है ,

फ़िरक़ापरस्ती की आग में खुद को जलाकर अपने आकाओं के इशारे की कठपुतली बन जाती है ,

इसे हम इल्म़ की कमी कहें या खुदगर्ज़ी का जुनूँ ,
जिसने इंसाँ की सोच में ताले डाल दिए हैं ,

जिसकी रौ में बहकर इंसाँ ने अपने अज़ीज़ों को गवाँ
अन्जाने दुश्मन पाल लिए हैं ,

जिस राह पर वो चल निकला उस पर उसे जुल्मो तश्शदुत के सिवा कुछ न मिलेगा ,

ताउम्र वो किसी अपने की हमदर्दी और
ज़ेहनी सुकूँ के लिए तरसेगा।

Language: Hindi
154 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
मन की आंखें
मन की आंखें
Mahender Singh
मेरी खुशी वह लौटा दो मुझको
मेरी खुशी वह लौटा दो मुझको
gurudeenverma198
हम सृजन के पथ चलेंगे
हम सृजन के पथ चलेंगे
Mohan Pandey
शिद्दत से की गई मोहब्बत
शिद्दत से की गई मोहब्बत
Harminder Kaur
बेवफा
बेवफा
Neeraj Agarwal
रसीले आम
रसीले आम
नूरफातिमा खातून नूरी
आतंक, आत्मा और बलिदान
आतंक, आत्मा और बलिदान
Suryakant Dwivedi
जब ख्वाब भी दर्द देने लगे
जब ख्वाब भी दर्द देने लगे
Pramila sultan
जनक दुलारी
जनक दुलारी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
लब हिलते ही जान जाते थे, जो हाल-ए-दिल,
लब हिलते ही जान जाते थे, जो हाल-ए-दिल,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
23/35.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/35.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पहले देखें, सोचें,पढ़ें और मनन करें,
पहले देखें, सोचें,पढ़ें और मनन करें,
DrLakshman Jha Parimal
ज़िंदगी
ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
डाकिया डाक लाया
डाकिया डाक लाया
Paras Nath Jha
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नारी के बिना जीवन, में प्यार नहीं होगा।
नारी के बिना जीवन, में प्यार नहीं होगा।
सत्य कुमार प्रेमी
आसमाँ  इतना भी दूर नहीं -
आसमाँ इतना भी दूर नहीं -
Atul "Krishn"
जय जय राजस्थान
जय जय राजस्थान
Ravi Yadav
*बीमारी सबसे बुरी, तन को करे कबाड़* (कुंडलिया)
*बीमारी सबसे बुरी, तन को करे कबाड़* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
कहना है तो ऐसे कहो, कोई न बोले चुप।
कहना है तो ऐसे कहो, कोई न बोले चुप।
Yogendra Chaturwedi
गूंजा बसंतीराग है
गूंजा बसंतीराग है
Anamika Tiwari 'annpurna '
देश हमारा
देश हमारा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
--पागल खाना ?--
--पागल खाना ?--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
अपने मन मंदिर में, मुझे रखना, मेरे मन मंदिर में सिर्फ़ तुम रहना…
अपने मन मंदिर में, मुझे रखना, मेरे मन मंदिर में सिर्फ़ तुम रहना…
Anand Kumar
गीत मौसम का
गीत मौसम का
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
About [ Ranjeet Kumar Shukla ]
About [ Ranjeet Kumar Shukla ]
Ranjeet Kumar Shukla
तू बस झूम…
तू बस झूम…
Rekha Drolia
जब लोग आपसे खफा होने
जब लोग आपसे खफा होने
Ranjeet kumar patre
"सफलता कुछ करने या कुछ पाने में नहीं बल्कि अपनी सम्भावनाओं क
पूर्वार्थ
पिता
पिता
Raju Gajbhiye
Loading...