Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2024 · 1 min read

आज की हकीकत

सच को दबाकर झूठ को उछाला जा रहा है,
ये वो दौर है जब रावण को भी राम बनाया जा रहा है,

एक चेहरे के पीछे दस चहरों को छिपाया जा रहा है,
हर जगह बस एक ही चेहरा दिखाया जा रहा है,

अब समाज नहीं बाजार हो गयी है ये दुनियाँ,
इंसानों के साथ जमीर का भी सौदा किया जा रहा है,

कब खिसक जाए जमीन पैरों के नीचे की पता नहीं,
जहाँ खड़े हैं उसी जमीन को पहले खोदा जा रहा है,

प्यार का नक़ाब पहनकर हर आस्तीन में साँप बैठे हैं,
जो डस रहे हैं, उन्हीं के द्वारा हाल-चाल पूछा जा रहा है,

कुछ पुरानी रिवायतों ने संभाल रखा है दुनियाँ को,
वरना इंसान तो इंसान को ही खाए जा रहा है,

खून के रिश्तों में बस खून का लाल रंग ही बाकी है,
वरना माता-पिता के द्वारा दुश्मन पैदा किया जा रहा है,

इंसान का घमंड इस कदर बढ़ गया है देखो,
राम ने संसार बनाया राम को ही लाने का प्रचार किया जा रहा है।।
prAstya……(प्रशांत सोलंकी)

Language: Hindi
2 Likes · 87 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
View all
You may also like:
लोगों की फितरत का क्या कहें जनाब यहां तो,
लोगों की फितरत का क्या कहें जनाब यहां तो,
Yogendra Chaturwedi
अधूरा नहीं हूँ मैं तेरे बिना
अधूरा नहीं हूँ मैं तेरे बिना
gurudeenverma198
3046.*पूर्णिका*
3046.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अपनी अपनी बहन के घर भी आया जाया करो क्योंकि माता-पिता के बाद
अपनी अपनी बहन के घर भी आया जाया करो क्योंकि माता-पिता के बाद
Ranjeet kumar patre
🌺🌺इन फाँसलों को अन्जाम दो🌺🌺
🌺🌺इन फाँसलों को अन्जाम दो🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तेरे जन्म दिवस पर सजनी
तेरे जन्म दिवस पर सजनी
Satish Srijan
घट भर पानी राखिये पंक्षी प्यास बुझाय |
घट भर पानी राखिये पंक्षी प्यास बुझाय |
Gaurav Pathak
"जिंदगी, जिंदगी है इसे सवाल ना बना"
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
तुम से ना हो पायेगा
तुम से ना हो पायेगा
Gaurav Sharma
प्रियतम तुम हमको मिले ,अहोभाग्य शत बार(कुंडलिया)
प्रियतम तुम हमको मिले ,अहोभाग्य शत बार(कुंडलिया)
Ravi Prakash
खुशी कोई वस्तु नहीं है,जो इसे अलग से बनाई जाए। यह तो आपके कर
खुशी कोई वस्तु नहीं है,जो इसे अलग से बनाई जाए। यह तो आपके कर
Paras Nath Jha
जीवन संगिनी
जीवन संगिनी
जगदीश लववंशी
अगर प्रेम है
अगर प्रेम है
हिमांशु Kulshrestha
माँ तुम्हारे रूप से
माँ तुम्हारे रूप से
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
*किसान*
*किसान*
Dushyant Kumar
गांधी के साथ हैं हम लोग
गांधी के साथ हैं हम लोग
Shekhar Chandra Mitra
मित्रता मे बुझु ९०% प्रतिशत समानता जखन भेट गेल त बुझि मित्रत
मित्रता मे बुझु ९०% प्रतिशत समानता जखन भेट गेल त बुझि मित्रत
DrLakshman Jha Parimal
शिव बन शिव को पूजिए, रखिए मन-संतोष।
शिव बन शिव को पूजिए, रखिए मन-संतोष।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जीवन अगर आसान नहीं
जीवन अगर आसान नहीं
Dr.Rashmi Mishra
जिंदगी एक सफ़र अपनी
जिंदगी एक सफ़र अपनी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सावन
सावन
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
भुलाया ना जा सकेगा ये प्रेम
भुलाया ना जा सकेगा ये प्रेम
The_dk_poetry
आंसूओं की नहीं
आंसूओं की नहीं
Dr fauzia Naseem shad
"दयानत" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
#संकट-
#संकट-
*प्रणय प्रभात*
Falling Out Of Love
Falling Out Of Love
Vedha Singh
" नारी का दुख भरा जीवन "
Surya Barman
क़िताबों से मुहब्बत कर तुझे ज़न्नत दिखा देंगी
क़िताबों से मुहब्बत कर तुझे ज़न्नत दिखा देंगी
आर.एस. 'प्रीतम'
तप रही जमीन और
तप रही जमीन और
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
गुनाह लगता है किसी और को देखना
गुनाह लगता है किसी और को देखना
Trishika S Dhara
Loading...