Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Oct 2022 · 1 min read

आज की औरत

मुट्ठी तानकर खड़ी है वह!
अपनी जिद्द पर अड़ी है वह!!
सामंती पितृसत्ता के सामने
चुनौती एक बहुत बड़ी है वह!!
#SocialMedia #women
#पाखंड #patriarchy #हक़
#Feminism #पोंगापंथ #सच
#freedomofspeech #कविता

Language: Hindi
1 Like · 256 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
धर्म पर हंसते ही हो या फिर धर्म का सार भी जानते हो,
धर्म पर हंसते ही हो या फिर धर्म का सार भी जानते हो,
Anamika Tiwari 'annpurna '
लोगो का व्यवहार
लोगो का व्यवहार
Ranjeet kumar patre
तब मानोगे
तब मानोगे
विजय कुमार नामदेव
क्या ऐसी स्त्री से…
क्या ऐसी स्त्री से…
Rekha Drolia
ये बता दे तू किधर जाएंगे।
ये बता दे तू किधर जाएंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
ना ढूंढ मोहब्बत बाजारो मे,
ना ढूंढ मोहब्बत बाजारो मे,
शेखर सिंह
मौजूदा ये साल मयस्ससर हो जाए
मौजूदा ये साल मयस्ससर हो जाए
Shweta Soni
*ये सावन जब से आया है, तुम्हें क्या हो गया बादल (मुक्तक)*
*ये सावन जब से आया है, तुम्हें क्या हो गया बादल (मुक्तक)*
Ravi Prakash
"कब तक छुपाहूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
क्यूँ करते हो तुम हम से हिसाब किताब......
क्यूँ करते हो तुम हम से हिसाब किताब......
shabina. Naaz
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
शुभ् कामना मंगलकामनाएं
शुभ् कामना मंगलकामनाएं
Mahender Singh
आधा - आधा
आधा - आधा
Shaily
दीदार
दीदार
Vandna thakur
क्या ख़ूब तरसे हैं हम उस शख्स के लिए,
क्या ख़ूब तरसे हैं हम उस शख्स के लिए,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दोहा ग़ज़ल (गीतिका)
दोहा ग़ज़ल (गीतिका)
Subhash Singhai
बरगद और बुजुर्ग
बरगद और बुजुर्ग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आप ही बदल गए
आप ही बदल गए
Pratibha Pandey
जीवन के रास्ते हैं अनगिनत, मौका है जीने का हर पल को जीने का।
जीवन के रास्ते हैं अनगिनत, मौका है जीने का हर पल को जीने का।
पूर्वार्थ
अपनों को दे फायदा ,
अपनों को दे फायदा ,
sushil sarna
2957.*पूर्णिका*
2957.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गंगा- सेवा के दस दिन (चौथादिन)
गंगा- सेवा के दस दिन (चौथादिन)
Kaushal Kishor Bhatt
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जीवन के आधार पिता
जीवन के आधार पिता
Kavita Chouhan
👍👍👍
👍👍👍
*प्रणय प्रभात*
अदाकारियां
अदाकारियां
Surinder blackpen
कभी महफ़िल कभी तन्हा कभी खुशियाँ कभी गम।
कभी महफ़िल कभी तन्हा कभी खुशियाँ कभी गम।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
अंधेरे का डर
अंधेरे का डर
ruby kumari
आजकल गजब का खेल चल रहा है
आजकल गजब का खेल चल रहा है
Harminder Kaur
सनम की शिकारी नजरें...
सनम की शिकारी नजरें...
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...