Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2023 · 1 min read

आज का महाभारत 1

आज का महाभारत

एक वृद्ध महोदय
जोर-जोर से इस युग को
सबसे बुरा युग बताते
अपने जमाने की
ढोल बजाए जा रहे थे।
महाभारत के पात्रों का
आदर्श बखानते
आज के चरित्र संकट पर
क्षोभ जाहिर करते
छी: छीः, थू-थू करते रहे
काफी देर तक।
तभी एक युवा आया
वृद्ध की बातें सुन
उसका दिमाग चकराया
युवा बोला,
ऐ बाबा
आप क्यूँ हमारे युग पर
आँसू बहाते, अपने जमाने की
गुण गाए जा रहे हो ?
आज भी महाभारत है जारी
यहाँ भरे पड़े हैं अनाचारी।
मैं मानता हूँ
पर मैं यह भी जानता हूँ
कि यह पाठ तुमने ही पढ़ाया है।
आने वाली पीढ़ी को
भाई की हत्या करना
नारी को नंगी करना
नाना प्रकार के छल-कपट से
स्वार्थ-सिद्धि करना सिखाया है।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

110 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सरकारी
सरकारी
Lalit Singh thakur
अगर आप अपनी आवश्यकताओं को सीमित कर देते हैं,तो आप सम्पन्न है
अगर आप अपनी आवश्यकताओं को सीमित कर देते हैं,तो आप सम्पन्न है
Paras Nath Jha
बोल
बोल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
समसामायिक दोहे
समसामायिक दोहे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"प्यार में तेरे "
Pushpraj Anant
सुख दुख
सुख दुख
Sûrëkhâ
*कोटा-परमिट का मिला ,अफसर को हथियार* *(कुंडलिया)*
*कोटा-परमिट का मिला ,अफसर को हथियार* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
भारत के राम
भारत के राम
करन ''केसरा''
◆ आप भी सोचिए।
◆ आप भी सोचिए।
*प्रणय प्रभात*
जब साथ छोड़ दें अपने, तब क्या करें वो आदमी
जब साथ छोड़ दें अपने, तब क्या करें वो आदमी
gurudeenverma198
मोहब्बत अधूरी होती है मगर ज़रूरी होती है
मोहब्बत अधूरी होती है मगर ज़रूरी होती है
Monika Verma
सावन
सावन
Ambika Garg *लाड़ो*
तुम्हारी बातों में ही
तुम्हारी बातों में ही
हिमांशु Kulshrestha
2938.*पूर्णिका*
2938.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चाबी घर की हो या दिल की
चाबी घर की हो या दिल की
शेखर सिंह
मन-गगन!
मन-गगन!
Priya princess panwar
इन आँखों ने उनसे चाहत की ख़्वाहिश की है,
इन आँखों ने उनसे चाहत की ख़्वाहिश की है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बड़ा ही अजीब है
बड़ा ही अजीब है
Atul "Krishn"
रोना ना तुम।
रोना ना तुम।
Taj Mohammad
चिलचिलाती धूप में निकल कर आ गए
चिलचिलाती धूप में निकल कर आ गए
कवि दीपक बवेजा
तेवरी में रागात्मक विस्तार +रमेशराज
तेवरी में रागात्मक विस्तार +रमेशराज
कवि रमेशराज
जिंदगी मौज है रवानी है खुद की कहानी है l
जिंदगी मौज है रवानी है खुद की कहानी है l
Ranjeet kumar patre
Friend
Friend
Saraswati Bajpai
उन्हें क्या सज़ा मिली है, जो गुनाह कर रहे हैं
उन्हें क्या सज़ा मिली है, जो गुनाह कर रहे हैं
Shweta Soni
बस एक कदम दूर थे
बस एक कदम दूर थे
'अशांत' शेखर
युही बीत गया एक और साल
युही बीत गया एक और साल
पूर्वार्थ
आदिशक्ति वन्दन
आदिशक्ति वन्दन
Mohan Pandey
ज्ञान तो बहुत लिखा है किताबों में
ज्ञान तो बहुत लिखा है किताबों में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
इस गोशा-ए-दिल में आओ ना
इस गोशा-ए-दिल में आओ ना
Neelam Sharma
*.....थक सा गया  हू...*
*.....थक सा गया हू...*
Naushaba Suriya
Loading...