Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Oct 2023 · 1 min read

आजा कान्हा मैं कब से पुकारूँ तुझे।

आजा कान्हा मैं कब से पुकारूँ तुझे।
साथ अपने बैठा कर निहारूँ तुझे।।
नीलम शर्मा ✍️

2 Likes · 83 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Neelam Sharma
View all
You may also like:
आ भी जाओ मेरी आँखों के रूबरू अब तुम
आ भी जाओ मेरी आँखों के रूबरू अब तुम
Vishal babu (vishu)
डर डर के उड़ रहे पंछी
डर डर के उड़ रहे पंछी
डॉ. शिव लहरी
*मतलब इस संसार का, समझो एक सराय (कुंडलिया)*
*मतलब इस संसार का, समझो एक सराय (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
#जंगल_में_मंगल
#जंगल_में_मंगल
*Author प्रणय प्रभात*
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
Finding someone to love us in such a way is rare,
Finding someone to love us in such a way is rare,
पूर्वार्थ
पूनम का चांद
पूनम का चांद
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
गज़ल
गज़ल
जगदीश शर्मा सहज
जय जय नंदलाल की ..जय जय लड्डू गोपाल की
जय जय नंदलाल की ..जय जय लड्डू गोपाल की"
Harminder Kaur
*तुम न आये*
*तुम न आये*
Kavita Chouhan
2977.*पूर्णिका*
2977.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"माँ"
इंदु वर्मा
दर्द
दर्द
Bodhisatva kastooriya
आत्मीयकरण-1 +रमेशराज
आत्मीयकरण-1 +रमेशराज
कवि रमेशराज
देता है अच्छा सबक़,
देता है अच्छा सबक़,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सामाजिक न्याय के प्रश्न पर
सामाजिक न्याय के प्रश्न पर
Shekhar Chandra Mitra
✍️आकाशदीप
✍️आकाशदीप
'अशांत' शेखर
सच ज़िंदगी और जीवन में अंतर हैं
सच ज़िंदगी और जीवन में अंतर हैं
Neeraj Agarwal
सूखे पत्तों से भी प्यार लूंगा मैं
सूखे पत्तों से भी प्यार लूंगा मैं
कवि दीपक बवेजा
वाचाल सरपत
वाचाल सरपत
आनन्द मिश्र
बवंडरों में उलझ कर डूबना है मुझे, तू समंदर उम्मीदों का हमारा ना बन।
बवंडरों में उलझ कर डूबना है मुझे, तू समंदर उम्मीदों का हमारा ना बन।
Manisha Manjari
राह तक रहे हैं नयना
राह तक रहे हैं नयना
Ashwani Kumar Jaiswal
"नायक"
Dr. Kishan tandon kranti
एक उलझा सवाल।
एक उलझा सवाल।
Taj Mohammad
किछ पन्नाके छै ई जिनगीहमरा हाथमे कलम नइँमेटाैना थमाएल गेल अछ
किछ पन्नाके छै ई जिनगीहमरा हाथमे कलम नइँमेटाैना थमाएल गेल अछ
गजेन्द्र गजुर ( Gajendra Gajur )
मेरे मन का सीजन थोड़े बदला है
मेरे मन का सीजन थोड़े बदला है
Shiva Awasthi
Job can change your vegetables.
Job can change your vegetables.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
भारत वर्ष (शक्ति छन्द)
भारत वर्ष (शक्ति छन्द)
नाथ सोनांचली
"देख मेरा हरियाणा"
Dr Meenu Poonia
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – आविर्भाव का समय – 02
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – आविर्भाव का समय – 02
Kirti Aphale
Loading...